क्‍यों जल्‍दी थक जाते हैं


शरीर में पानी की कमी का असर होने पर शरीर सुस्त पड़ जाता है और थकान महसूस होने लगती है। जिससे किसी काम में मन नहीं लगता है। इसके अलावा ज्यादा नमक वाले पदार्थ खाने से वे शरीर की नमी को तेजी से सोख लेते हंै, जिससे शरीर में पानी की कमी होने लगती है…
अकसर देखा जाता है कि कुछ लोग बहुत ही जल्दी तक जाते हैं। ज्यादा शारीरिक श्रम करने पर थकना लाजिमी है, लेकिन बेवजह सुस्ती छाना, किसी काम में मन नहीं लगना जैसे लक्षण बताते हैं कि आपके शरीर में थकान की वजह क्या है। एकाग्रता की कमी होना, मुंह व त्वचा का शुष्क होना एवं पीली पेशाब होना, ये सब लक्षण डिहाइड्रेशन के होते हैं। शरीर में पानी की कमी का असर होने पर शरीर सुस्त पड़ जाता है और थकान महसूस होने लगती है। जिससे किसी काम में मन नहीं लगता है। इसके अलावा ज्यादा नमक वाले पदार्थ खाने से वो शरीर की नमी को तेजी से सोख लेते हंै, जिससे शरीर में पानी की कमी होने लगती है। डिहाइड्रेशन से बचने के लिए आप हर्बल टी, नारियल पानी, या फलों का जूस ले सकते हैं । अगर आप कसरत नहीं करते हैं, तो आपका शरीर तनाव को बर्दाश्त करने में सक्षम नहीं होता है और अगर आप अपनी क्षमता से ज्यादा कसरत करती हैं तो भी आप थकान महसूस करने लगेंगी। इसलिए आपको कसरत चाहिए, लेकिन अपनी शारीरिक क्षमता को भी ध्यान में रखना चाहिए। आयरन और विटामिन के कमी से भी थकान महसूस होने लगती है। अकसर देखा जाता है कि महिलाएं में इन चीजों की कमी हो जाती है। अगर आप इस तरह की परेशानियों से खुद को ग्रस्त पाती हैं, तो आप अपने खून की जांच अवश्य कराएं और इनकी कमी को दूर करने के लिए अलग से सप्लीमेंट्स ले सकती हैं। थोड़ी सी कसरत या योग करना और खाली वक्त में दोस्तों और परिवार के बीच में थोडे़ से सुकून के पल भी आपको तनाव व थकान को दूर कर सकते हैं। साथ ही किसी भी काम को लगातार न करें। थकान और सुस्ती के लिए ऊपर बताए गए कारण तो सामान्य कारण हैं, लेकिन इसके अलावा सेहत से जुड़ी समस्याओं के लिए चिकित्सीय परामर्श लेना भी निहायत जरूरी है। अगर किसी को खून की कमी है या फिर थाइराइड की समस्या है या फिर किसी और तरह की परेशानी है, तो डाक्टर से सलाह लेना या फिर मेडिकल परीक्षण बेहद ही अनिवार्य हो जाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *