June 18, 2021
Uncategorized

फांसी की सजा और दोषियों का नया पैंतरा

निर्भया के दोषियों ने फांसी की सजा से बचने के लिए एक और नया हथकंडा आजमाया — जी हां दोस्तों, जैसा कि आप सभी जानते हैं, कि निर्भया गैंगरेप मामले में चारों दोषियों को 20 मार्च को फांसी दी जानी है, और इन चारों दोषियों ने फांसी की सजा से बचने के लिए एक और नया पैंतरा अजमाया है।

निर्भया गैंगरेप के चारों दोषी अक्षय, विनय, पवन और मुकेश फांसी से बचने के लिए हर तरह के हथकंडे आजमा रहे हैं, यहां तक कि कोर्ट मैं नए-नए तरीकों द्वारा फांसी की तारीख को टाला जा रहा है। निर्भया गैंगरेप के अब तीन दोषियों ने इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) में याचिका दाखिल की है जिसमें इन इन तीनों दोषियों अक्षय, विनय, पवन तीनों ही दोषी फांसी की सजा से बचने के लिए हर वह तरीका आजमा रहे हैं, कि किसी तरह उनकी फांसी रुक जाए, यहां तक कि अब उन्होंने फांसी की सजा से बचने के लिए अपने परिवारजनों को भी मोहरा बना लिया है।

जहां एक तरफ निर्भया गैंगरेप के चार दोषियों में से तीन दोषियों ने अक्षय, विनय और पवन ने इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में अपनी याचिका फासी की सजा पर रोक लगाने के लिए डाली है। वहीं दूसरी तरफ इन तीनों दोषियों के परिवारजनों ने जिसमें उनके बुजुर्ग माता-पिता, भाई- बहन और बच्चे शामिल को भी शामिल कर लिया है, यह सभी फांसी की सजा को टालने के लिए हर नया अंतरा आजमा रहे हैं।

यहां तक कि अब इन तीनों दोषियों के परिवारजनों ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को हिंदी में पत्र लिखकर इच्छा मृत्यु की मांग की है, जिसमें इन लोगों ने इन तीनों दोषियों को फांसी की सजा से बचाने के लिए अपने बच्चों को भी मोहरा बना लिया है, और तो और इन्हें अपने किए पर कोई पछतावा भी नहीं हो रहा। इनका कहना है, कि देश में बड़े से बड़े महान पापी को माफ किया जा रहा है, यहां तक कि उन्होंने कहा कि देश में बड़े-बड़े पाप कर्म करने वाले पापी छूट रहे हैं, तो उनके बेटों को सिर्फ एक मुख्य दोषी मुकेश कि वजह से बाकी तीनों दोषियों को फांसी पर लटकाना कहां का न्याय है,

यहां तक कि उन्होंने अपने पत्र में राष्ट्रपति और पीड़िता के परिवारजनों से दोषियों को माफ करने का अनुरोध किया है, यहां तक कि उन्होंने यह तक कहा, कि अगर उन्हें फांसी ही देनी है, और फांसी देने से उनका बदला पूरा हो जाएगा, तो उससे पहले उन्हें इच्छामृत्यु दे दी जाए, उन्होंने पत्र में यहां तक लिखा है, कि ऐसा कोई अपराध नहीं, जिसे क्षमा नहीं किया जा सकता। यहां तक कि दोषियों के परिवारजनों ने पीड़िता के परिवार वालों से तीनों दोषियों को अक्षय, विनय, पवन को फांसी ना देने का अनुरोध किया है।

यहां तक कि दोषी के परिवारजनों का कहना है, कि मुकेश ने इन तीनों को गुमराह किया था। तो एक की वजह से चार फासी दी जाना कहां तक उचित है। आपको बता दें कि निर्भया गैंगरेप के मुख्य आरोपी मुकेश की याचिका को पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था,

उसके बाद इन तीनों ने फांसी की सजा से बचने के लिए यह तीनों ही आप अपने परिवार को भी मोहरा बना रहे हैं, यहां तक कि ऐसा लगता है कि इतनी घिनौने कुकर्म के बावजूद भी यह कैसे समाज में जिंदा रहेंगे। क्या इन्हें अपने किए पर पछतावा है जो यह लोग फांसी की सजा को रुकवाने के लिए इतने सारे हथकंडे अजमा रहे हैं, भल्ला इतने घिनौने कुकर्म करने के बावजूद भी यह लोग कैसे जिंदा रह सकते हैं, और इनके परिवारजन कैसे इन दोषियों को फांसी की सजा से बचाने के लिए न्याय- प्रणाली के बीच में आ सकते हैं।

ऐसे ही नए-नए तरीके आजमा कर दोषी छूटने लगेंगे, तब भला क्या देश में किसी बेटी को इंसाफ मिल पाएगा? अब देखना यह है, कि क्या निर्भया को 20 मार्च को इंसाफ मिल पाएगा? क्या उसका परिवार 20 मार्च को अपनी बेटी को न्याय दिलवा पाएगा, या फिर एक बार फिर से इन सभी दोषीयों की नए-नए याचिका दाखिल करके फिर से इस फांसी को अगली तारीख के लिए टलवा दिया जाएगा। और देश की न्याय प्रणाली का इसी प्रकार यह दोषी ऐसे ही मजाक बनाते रहेंगे, और कब तक इस अंधे कानून का फायदा उठाते रहेंगे?

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *