भ्रष्ट पुरुषों की पत्नियों को भी जेल क्यों नहीं?

मुंबई पुलिस ने कहा है कि उन्होंने अभी तक शिल्पा शेट्टी को क्लीन चिट नहीं दी है।
हमारे देश में विभिन्न राज्यों में कई भ्रष्ट अधिकारी (और अपवाद स्वरूप कभी-कभी कोई नेता) पकड़े जाते हैं, लेकिन उनके धन से ऐश करने वाली उनकी पत्नी को जेल नहीं होती।
यहां दो महत्वपूर्ण प्रश्न आते हैं –
पहला : क्या शिल्पा शेट्टी या किसी भी भ्रष्ट अफसर की पत्नी को यह पता नहीं होता कि उसका पति वैध तरीके की कमाई के अतिरिक्त भी ढेर सारा रुपया लेकर आ रहा है,जो स्वाभाविक है कि गैरकानूनी है। यदि गैर कानूनी गतिविधियां उनके संज्ञान में आती हैं और वह न केवल इसमें मूक सहयोग देती हैं, वरन भ्रष्टाचार या पाप की कमाई को छुपाने में भी भरपूर सहयोग देती हैं तो उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों ना हो?
दूसरा सवाल : शिल्पा शेट्टी या किसी भी भ्रष्ट व्यापारी, उद्योगपति अथवा अफसर की पत्नी अपने पति की काली कमाई का पूरा उपभोग करती है और काला धन छुपाने में सक्रिय मदद करती है तो ऐसे में चोरी पकड़े जाने पर चोरी के माल का इस्तेमाल करने वाली पत्नी या किसी अन्य व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई क्यों ना हो ?
कानून के मौजूदा प्रावधानों के अनुसार चोरी के माल का जानबूझकर उपभोग करने वाले लोग अपराध में बराबार के भागीदार माने जाते हैं।
खबरों की माने तो शिल्पा शेट्टी ने राज कुंद्रा के वैवाहिक प्रस्ताव को ठुकरा दिया था लेकिन बाद में जब उन्होंने अमिताभ बच्चन के घर के सामने का बंगला खरीद कर शिल्पा को गिफ्ट किया तो वह शादी के लिए तैयार हो गई।
भ्रष्ट अफसरों और सरकारी कर्मचारियों की काली कमाई का भी असली आनंद उनकी पत्नियां ही लेती हैं।अनेक मामलों में पत्नियां पति की काली कमाई पर मौज ही नहीं करती बल्कि पति को प्रोत्साहित भी करती है।
(‘बैंक ऑफ़ पोलमपुर’ में तो अफसरों की बीवियां न सिर्फ रिश्वत और ट्रांसफर पोस्टिंग का हिसाब रखती थी वरन उपहार में मिले महंगे गिफ्ट अपने मातहत कर्मचारियों तथा अन्य लोगों को बेच भी देती थी।)
दुर्भाग्य से हमारे यहां कानून, उसकी व्याख्या और संपूर्ण न्याय व्यवस्था अंततोगत्वा भ्रष्टाचारी का साथ देती है। क्या हम ऐसी फास्टट्रेक कोर्ट नहीं बना सकते, जहां इन भ्रष्टाचारियों तथा इनके लूट के माल से ऐश करने वाली उनकी पत्नियों को जल्दी मुकदमे का निपटारा कर जेल भेजा जा सके! शिल्पा शेट्टी अपने पति राज कुंद्रा की कई फर्मों में पार्टनर थी और उनमें आपस में मनी ट्रांजैक्शन भी हुआ है। यानी कि पोर्न फिल्मों की काली कमाई (शिल्पा के अनुसार उनके पोर्न परमेश्वर,क्षमा करें पति परमेश्वर, ने जो फिल्में बनाई वह इरोटिक यानी उत्तेजक थी, लेकिन पोर्न नहीं। शिल्पा की यह टिप्पणी बताती है कि उन्होंने सारी फिल्में देखी और सारा मामला उनकी जानकारी में था।) का हिस्सा रिकॉर्ड पर भी शिल्पा शेट्टी के खाते में गया है। ऐसे में उनका लपेटे में आना तय है।
मेरा सुझाव है कि चारों ओर से यह भी मांग उठनी चाहिए कि जिन भ्रष्ट सरकारी अफसरों/ कर्मचारियों को गिरफ्तार किया जाता है, उनकी पत्नियों को भी हाथ के हाथ गिरफ्तार किया जाए और संभव हो तो सिंगापुर की जेलों की तरह जेल में इनकी रोजाना बेंतों से पिटाई हो।
क्या यह संभावना सुखद हो सकेगी?

वेद माथुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *