April 19, 2019
Health

व्हिमांस नयति में 65 वर्षीय ईराकी महिला के दोनों घुटनों का एक ही बार में हुआ सफल प्रत्यारोपण

असाधारण रोगों के इलाज के लिए पहचाने जाने वाले व्हिमांस नयति सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में इराक के बगदाद शहर की रहने वाली 65 वर्षीय महिला के दोनों घुटनों का एक ही सत्र में प्रत्यारोपण किया गयाए आमतौर पर दोनों घुटने एक साथ नहीं बदल पाते हैं

बगदाद निवासी ज़ैनब सलेन मोहम्मद हसन 44.5 की बीएमआई के साथ मोटापे से ग्रस्त 100 किलोग्राम की बृद्ध महिला थीं, जिन्हें चलने फिरने में काफी परेशानी होती थी, और गंभीर किस्म का पीठ दर्द भी रहता था। उन्हें पता चला कि उन्हें ऑस्टियोआर्थराइटिस ;स्टेज 4 है, जिसमें रोगी अपने जोड़ों को हिलाने या दैनिक गतिविधियों में दर्द और परेशानी का अनुभव करते हैं।

ज़ैनब ने बताया, कि “मैंने कई डॉक्टरों से सलाह ली थी ताकि इस प्रकार के गंभीर दर्द से मुक्ति मिल सके, लेकिन कहीं पर भी कोई सफलता नहीं मिली, जिसके बाद वे व्हिमांस नयति सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में आकर डॉ राजीव शर्मा से मिली और मैंने तत्काल अपने दोनों घुटनों के प्रत्यारोपण कराने का फैसला किया।

प्रत्यारोपण के बाद जैनब ने कहा कि घुटने बदलने के बाद अब मुझे दर्द से भी राहत है और अपनी दिनचर्या भी खुद कर सकूंगी, जिसके लिए मैं व्हिमांस नयति की दिल से आभारी हूं।

जैनब का ऑपरेशन करने वाले व्हिमांस नयति के ऑर्थोपेडिक्स, स्पोर्ट्स मेडिसिन एण्ड ऑर्थकप्लास्टी विभाग के चेयरमैन डॉ राजीव कुमार शर्मा ने कहा कि जैनब के दोनों घुटने काफी कमजोर और उनकी हड्डियां काफी कमजोर थीं। अधिक वजन होने के कारण वे अधिकतर बिस्तर पर ही रहती थीं। अधिक वजन या मोटापा होना ऑस्टियोआर्थराइटिस होने का एक प्रमुख कारण होता है, जैनब भी इसी बीमारी से पीड़ित थीं। कोई पुरानी चोट जिसका सही इलाज न कराया गया हो, अधिक वजन होने के चलते मसल्स कमजोर हों और शरीर का भारी वजन उठाने में असमर्थ हो, इसके अलावा किसी इंसान के प्राकृतिक रूप से यदि पैर सीधे न हों तब भी ऑस्टियोआर्थराइटिस होने की संभावना बढ़ जाती है।

जैनब की लम्बाई केवल 4.6” थी और काफी अधिक बीएमआई थी, जिसके चलते इनकी सर्जरी करना आसान नहीं था। सर्जरी के बाद उन्हें दर्द से भी छुटकारा मिल गया और अब वे अपनी दिनचर्या भी स्वयं कर सकेंगी।

नयति हैल्थकेयर की चेयरपर्सन नीरा राडिया ने कहा कि देश के हर भाग तक विश्वस्तरीय तकनीक और डॉक्टरों की टीम के साथ बेहतरीन स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाने के लक्ष्य साथ हम निरंतर आगे बढ़ रहे हैं। हमारा मानना है कि देश में कोई टियर 2.3 शहर हो अथवा महानगरए वहां के लोगों को अच्छी और विश्वस्तरीय स्वास्थ्य सेवाएं मिलनी ही चाहिए।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *