March 30, 2020
Corporate

साइबर बुलिंग से निपटने के लिए कैडबरी डेयरी मिल्क लेकर आया ‘पर्पल हार्ट’ कैंपेन

भारत – 9 अगस्त, 2019- भारत के पसंदीदा चॉकलेट ब्रांड कैडबरी डेयरी मिल्क ने इस साल फ्रेंडशिप डे के मौके पर साइबर-बुलिंग के खिलाफ #HeartTheHate  कैंपेन शुरू करने की घोषणा की।

मॉन्‍डेलीज़ इंडिया में मार्केटिंग (चॉकलेट) विभाग के डायरेक्टर अनिल विश्वनाथन ने इस अनूठे अभियान के शुभारंभ पर टिप्पणी करते हुए कहा, “एक ब्रांड के रूप में कैडबरी डेयरी मिल्क का मानना है कि अगर इस तेजी से बंटती दुनिया कोई एक चीज है जो दरारों को भी रोशन कर सकती है  – तो वह है उदारता। थोड़ी-सी उदारता के दूरगामी असर हो सकते हैं और अक्सर सबसे छोटी चीजों का असर ही सबसे बड़ा होता है। साइबर-बुलिंग एक ऐसी चीज है जो हर किसी को, खासतौर पर किशोरों और युवाओं को प्रभावित करती है, क्योंकि वे इसका शिकार होने पर अलग-थलग महसूस करने लगते हैं और अवसाद का शिकार हो जाते हैं। #Heartthehate कैंपेन एक बहुत ही सहज समझ पर आधारित है कि जब ट्रोल्स की प्रतिक्रिया में दोस्त पर्पल हार्ट जैसी एक सामान्य-सी चीज भी पोस्ट करते हैं, तो किशोरों और युवाओं को कम अलग-थलग महसूस होता है और इस तरह ऑनलाइन बुलिंग का असर क्षीण हो जाता है। यह अभियान सामाजिक मुद्दों को लेकर बड़ा असर डालने की दिशा में एक और छोटा कदम है।”

साइबर बुलिंग बड़ी तेजी से आम होती जा रही है, जो दुनिया भर में एक चिंताजनक प्रवृत्ति है। और 2018 में आईपीएसओएस द्वारा किए गए एक अंतरराष्ट्रीय सर्वेक्षण के अनुसार यह समस्या भारत में खासतौर पर गंभीर है। यहां अभिभावकों ने साइबर बुलिंग के जितने मामलों की पुष्टि की है, वह दर उच्चतम स्तर पर है। अध्ययन के अनुसार, 37% भारतीय अभिभावकों ने माना कि उनके बच्चे को ऑनलाइन, खासकर सोशल मीडिया पर डराया-धमकाया गया है। उनमें से लगभग 14% ने बताया कि बुलिंग नियमित रूप से होती है।

बहरहाल, सिर्फ एक व्यक्ति को इस तरह के बुलीज़ के खिलाफ खड़ा होने की जरूरत भर होती है। जब वह एक व्यक्ति डटकर खड़ा होता है, तो दूसरों को भी समर्थन देने के लिए प्रोत्साहन मिलता है। ओगिल्वी इंडिया और फेसबुक द्वारा परिकल्पित यह अभियान एक-दूसरे के लिए खड़े दोस्तों के आइडिया पर आधारित है, जो पीड़ित की टाइमलाइन पर ट्रोल करने वालों की टिप्पणी के जवाब में #HeartTheHate हैशटैग के साथ ‘पर्पल हार्ट’ इमोटिकॉन लगाकर पीड़ितों के साथ एकजुटता व्यक्त करते हैं। यह ‘पर्पल हार्ट’ इमोटिकॉन दुनिया के हर कीपैड पर मौजूद है, जिसके चलते सभी के लिए इसे इस्तेमाल करना और इस आंदोलन का हिस्सा बनना आसान हो जाता है। आइडिया यह है कि लोगों को एक विजुअल डिवाइस (पर्पल हार्ट) दिया जाए, ताकि ऑनलाइन बुलिंग के कारण पैदा हुई नकारात्मकता को सकारात्मक भावनाओं और सहारे की बारिश के जरिए धोया जा सके।

कैडबरी डेयरी मिल्क लोगों को साइबर बुलिंग के खिलाफ एकजुट होने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है। कैडबरी डेयरी मिल्क चाहता है कि जब आपको सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर कोई ट्रोल या नकारात्मक कमेंट दिखे, तो आप एक पर्पल हार्ट पोस्ट करके दोस्त के प्रति अपना समर्थन जताएं। #HeartTheHate अभियान कंपनी के इस उद्देश्य के अनुरूप है कि कैडबरी डेयरी मिल्क के उदारता के नैरेटिव को बल देकर इसके प्रति प्यार को लगातार बढ़ावा दिया जा सके।

इस अभियान पर टिप्पणी करते हुए ओगिल्वी इंडिया के एक्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट, प्रकाश नायर ने कहा, “आज जबकि ऑनलाइन / सोशल मीडिया युवाओं के हैंगआउट की जगह बन चुका है, यह ऐसी जगह भी है जहां वे बहुत उत्पीड़न और बुलिंग का सामना करते हैं। कैडबरी डेयरी मिल्क ने कुछ अच्छा हो जाए,कुछ मीठा हो जाए के अपने सुझाव के साथ इस मामले में कुछ करने का फैसला किया और बुलीज़ की बोलती बंद करने के लिए युवाओं को एक साधारण-से हथियार से लैस किया है – यानी एक पर्पल हार्ट इमोजी। जब भी किसी दोस्त को ट्रोल किया जाए, तो उन्हें बस ट्रोलर को पर्पल हार्ट के साथ ट्रोल करना है। पर्पल हार्ट पोस्ट करने का यह सामान्य-सा उदार कार्य नफरत भरी टिप्पणियों से निकलकर बाहर आने में मदद कर सकता है। यहां तक कि अगर एक बुली भी पर्पल हार्ट से शर्मसार होकर यह बुरा काम छोड़ देता है, तो यह एक सार्थक पहल होगी।

इस अभियान के बारे में सिद्धार्थ बनर्जी, निदेशक, ग्लोबल सेल्स ऑर्गनाइजेशन, फेसबुक इंडिया ने कहा, “हमारा मानना है कि मॉन्‍डेलीज़ इंडिया का पर्पल हार्ट कैंपेन भारत में सामाजिक कार्य को बल देने के लिए एक बहुत बढ़िया पहल है। पर्पल हार्ट एक आसानी से सुलभ इमोजी है और इसका उपयोग करना युवाओं के लिए एक बहुत ही दृश्यात्मक और बुनियादी आइडिया है। फेसबुक को मॉन्‍डेलीज़ इंडिया और ओगिल्वी के साथ इस नेक कार्य को साकार करने के लिए साझेदारी कर गर्व महसूस हो रहा है।”

कैंपेन को सहारा देने के लिए एक डिजिटल फिल्म के साथ-साथ एक इंटीग्रेटेड मल्टी-मीडिया मार्केटिंग कैंपेन भी होगा, जिसमें असर डालने वालों का जुड़ाव और जमीनी एक्टिवेशन शामिल होंगे। इसे वेवमेकर इंडिया की मदद से अंजाम दिया जा रहा है।

कृपया #HeartTheHate हैशटैग के साथ यह डिजिटल फिल्‍म अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर शेयर करें।

एजेंसी का विवरण

एजेंसी: ओगिल्वी, मुंबई

एकाउंट मैनेजमेंट: प्रकाश नायर, नेहा शाह, नविका जैन, प्रिंसिया डिसूजा, दीक्षा चतुर्वेदी, मनसीरत सेठी,

प्लानिंग: गणपति बालागोपालन, भक्ति मलिक, प्रसिद्ध दलवी

क्रिएटिव: सुकेश नायक, नेविल शाह, हेमंत शर्मा, सागर जाधव, महिमा कुकरेजा, राहुल जगताप, शिबुमी देसाई

प्रोडक्शन हाउस: कैफीन फिल्म्स

निर्देशक: अभिषेक सिन्हा

कार्यकारी निर्माता: शहजाद भगवागर

फोटोग्राफी निर्देशक: अनुज धवन

मॉन्डेलीज़ इंटरनेशनल के विषय में

मॉन्डेलीज़ इंटरनेशनल, इंक. (NASDAQ: MDLZ)   लोगों को दुनिया भर के लगभग 150 देशों में सही स्‍नैक लेने में सशक्‍त बनाती है। मॉन्‍डेलीज का 2018 में 26 बिलियन डॉलर से अधिक का शुद्ध राजस्व था। यह ओरियो, बेलविटा और एलयू बिस्किट्स; कैडबरी डेयरी मिल्‍क, मिल्‍का और टॉब्‍लेरोन चॉकलेट; सोर पैच किड्स कैंडी और ट्राइडेट गम जैसे आइकॉनिक ग्‍लोबल एवं लोकल ब्रांडों के साथ स्‍नैकिंग के भविष्‍य में अग्रणी है। मॉन्डेलीज़ इंटरनेशनल स्टैंडर्ड एंड पूवर्स 500, नासडैक 100 एवं डाउ जोन्स सस्टेनेबिलिटी इंडेक्स का एक गर्वशील सदस्य है। www.mondelezinternational.com विजिट करें अथवा ट्विटर पर www.twitter.com/MDLZ फॉलो करें।

मॉन्डेलीज इंडिया फूड्स प्राइवेट लिमिटेड के विषय में

मॉन्डेलीज़ इंडिया फूड्स प्राइवेट लिमिटेड (पूर्व में कैडबरी इंडिया लिमिटेड) भारत में 70 सालों से मौजूद है। कंपनी ने 1948 में भारत में कैडबरी डेयरी मिल्‍क और बोर्नविटा की पेशकश की थी और तब से देश में चॉकलेट श्रेणी में अग्रणी रही है। मॉन्डेलीज़ इंटरनेशनल का हिस्‍सा रही, कंपनी भारत में चॉकलेट, बेवरेज, बिस्किट और कैंडी श्रेणियों में परिचालन करती है। इसके ब्रांडों में कैडबरी डेयरी मिल्‍क, कैडबरी डेयरी मिल्‍क सिल्‍क, कैडबरी सेलिब्रेशंस, कैडबरी बोर्नविले, कैडबरी 5 स्‍टार,कैडबरी पर्क, कैडबरी फ्‍यूज, कैडबरी जेम्‍स, कैडबरी बोर्नविटा, कैडबरी स्‍प्रेडी, टैंग, कैडबरी ओरियो, बोर्नविटा बिस्किट्स, हॉल्‍स एवं कैडबरी चॉकलेयर्स गोल्‍ड आदि शामिल हैं। इसका मुख्यालय मुंबई में है। कंपनी के नई दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, और चेन्नई में विक्रय कार्यालय हैं और महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश एवं आंध्र प्रदेश में विनिर्माण संयंत्र हैं। इसके साथ ही महाराष्‍ट्र में वैश्विक शोध एवं डेवलपमेंट टेक्निकल सेंटर और ग्‍लोबल बिजनेस हब और देश भर में एक मजबूत वितरण नेटवर्क भी है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *