September 30, 2020
Home 2020 April
Education

Amid the COVID pandemic, the Nation is under lockdown, which has been extended till 3rd May. Pertaining to this, the second session of JEE Main (April Session) which were scheduled to be conducted from 5th April to 11th April 2020 have been postponed until further notice. While the expectations are that it may be conducted by the end of May, students/ serious aspirants have an extended preparation time available which shall be put to effective utilization. Students must stay positive and need to focus on revision and analysing their setbacks.

As per the previous schedule, most of the aspirants must have gone through the complete syllabus and must be making the last minute revision now. While the whole Nation is under lockdown, and social distancing seems to be the only effective control method right now, there is an urgent need to deal positively with this crisis. The need of the hour is to utilize the extra time productively and plan the preparations in a coherent manner.

Make a viable schedule – this phase should be effectively utilised for revision and hence meticulous planning will have efficient outcomes, keeping the major focus on gaining conceptual understanding of the subjects rather than just mugging things up. While it must be difficult for students to study without having access to daily classes and lose focus off their schedule. At this point of time it is necessary to keep calm and patient and follow a systematic schedule to ensure effective preparation and best use one’s productivity.

Consult Online Classes – Online platforms are available that provides a virtual classroom ambience with complete notes, expert opinions, online classes, mock tests etc for best student preparation. One such portal is myPAT, powered by FIITJEE that allow them to learn by staying in the safety and security of their homes and ensure better learning outcomes, save time and increase accessibility at the same time.

Follow Three Tier Revision – The stage has arrived where revision is the most important aspect of the preparation process and the best way to tackle the challenge is to have a well-structured and organized revision strategy. Three Tier Revision method suggests that students should first revise the topic on the same day, then after 3 days and then revise the same topic at the end of the week. This way, you will be able to get strong hold on topics and subjects which stay in your memory for longer period. If you revise a topic the same day when you study it, you find it easy to revise and grab; while on the other hand if you revise that topics after few days of studying it, it becomes difficult to understand and revise and consume more time.

Study Important Formulae: It is important to study important formulae at the time of revision. This will help you in solving the questions within a short time in the exam. As most of the questions in Physics/ Mathematics will be formula-based, it is important to stay in touch with the same for a better score in the exam.

Take regular Mock test- Mock tests play an important role in making familiar with strong and weak areas. To analyze your preparation, students are advised to take mock tests.

Take regular breaks to relax & Stay motivated – Do not sit for long hours together in a panic to study all at once, but instead take small and frequent breaks at least after one hour of focussed revision. These intervals are essential for the brain to retrieve information and revive the energy, making you ready for the next sessions. Channelize your concentration. There may be many distractions and thoughts running in the mind. Focus and overcome the complications with interest and determination, to learn it easy way.

After analyzing the confusions and wrong attempts, weak areas from the Phase 1 of JEE Main, aspirants need to work on those areas more and more, without wasting time, in order to get ample time for practice and revision. This time should generally be made use of in consolidating one’s preparation, focusing on problem solving and overcoming the weaker areas in preparation. This extra time must be wisely utilized to perfect the ability to solve problems with a deep perception of concept involved, improving the time needed to solve the given problem, identifying the weak spots and correcting them.

Time Management and Right Strategy play a vital role in deciding the rank for an aspirant. The remaining weeks should be wisely used for revision, maintaining speed& increasing accuracy to solve a particular problem, identifying the weaker areas and correcting them. Finally, it is the relative performance that will matter on the exam day. So, put in your best performance and you will ace JEE Main 2020.

Authored By R L Trikha, Director, FIITJEE Group.

Bollywood

From International Pop act THEMXXNLIGHT feat. IKKA

After creating a trending chartbuster track, ‘Mashallah’ with India’s leading pop singers Sukriti and Prakriti Kakar;THEMXXNLIGHT is back with their second single ‘Intezaar’ (Waiting) in collaboration with Indian rapper, songwriter & composer Ikka; out tomorrow, 1st May.

This marks Ikka’s second collaboration with THEMXXNLIGHT, Indian American Pop act based out of Los Angeles. ‘Intezaar’ offers a soulful tune through the track, complimented by Ikka’s poignant rapping. The music video also features popular Indian Television actress & Khatron Ke Khiladi participant, Tejasswi Prakash. 

Best known for their three-song collaboration on Wiz Khalifa’s Rolling Papers 2, THEMXXNLIGHT are known for their melodious and ethnic song writing. Their last single, ‘Mashallah’, is currently trending on the Top 10 TV charts in India and has garnered a massive 11 million+ views on YouTube along with a whopping 4 million views across videos on TikTok. ‘Mashallah’ has also been on the ‘A Playlist’ on the BBC Asian Network Radio – UK for four continuous weeks.

“We are so thrilled to release another amazing single ‘Intezaar’ with Sony Music India featuring IKKA, produced by Sledgren, Chris Dreamer & Ghetto Guitar,” says THEMXXNLIGHT. “Music is a way of lifting spirits during these difficult times and we are glad we are able to share with our fans our new song ‘Intezaar’ (means ‘Waiting’) which is apt during these times when everyone lives with hope and anticipation”, they add.

“I am so excited to work with Sony Music India and to get a chance to collaborate with THEMXXNLIGHT. I cannot wait to share Intezaar with our Fans worldwide.” says IKKA

Health

हिन्दी और अंग्रेजी फिल्मों में अपनी बेमिसाल अभिनय से लोगों के दिल पर राज करने वाले इरफान खान को कैंसर ने हमसे छीन लिया. वह 53 वर्ष के थे. उन्हें हाल में मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उन्हें न्यूरो एंड्रोक्राइन ट्यूमर था. यह एक तरह का कैंसर है, जिसे कोलन इंफेक्शन (Colon Infection) भी कहा जाता है. क्या है कोलन इंफेक्शन? आइए इस सवाल का जवाब जानने की कोशिश करते हैं.

कोलन इन्फेक्शन (Colon Infection) कैसे होता है

यह बीमारी तब होती है जब कोलन के बाहरी हिस्से में सूजन आ जाती है. इससे बड़ी आंत संक्रमित हो जाती है. यह यह बीमारी लंबे समय तक ठीक न हो तो इस बीमारी से कोलोरेक्टल कैंसर का खतरा बढ़ जाता है.

कोलन संक्रमण के साथ कई बीमारियां हो सकती हैं. हालांकि, कोलन की सूजन काफी हद तक वायरल और जीवाणु संक्रमण का परिणाम है. कभी-कभी, ऑपरेशन या सर्जरी से कैंसर का उपचार कराने से भी कोलन संक्रमण का खतरा बढ़ा जाता है. कैंसर के इलाज में की जानी वाली कीमोथेरेपी से भी कोलन का संक्रमण बढ़ने का खतरा रहता है.

दरअसल, कीमोथेरेपी के बाद, शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) कम हो जाती है. यदि सफेद रक्त कोशिकाओं का स्तर कम हो जाता है तो व्यक्ति को संक्रमण की संभावना अधिक हो जाती है. यहां तक कि साधारण संक्रमण भी ठीक से समय पर काबू में नहीं किया गया तो बहुत जल्दी ही जान पर बन आती है.

इरफान को कैंसर का पता 2018 में चला था. कीमोथेरेपी और इलाज के जरिये वे ठीक हो गए थे. उन्होंने अभिनय के क्षेत्र में भी वापसी भी कर ली थी. पिछले महीने ही उनकी फिल्म अंग्रेजी मीडियम रिलीज हुई थी.

इसे भी पढ़ें: सही मायने में भारत के पहले अंतरराष्ट्रीय अभिनेता थे इरफान

कोलन इंफेक्शन (Colon Infection) के लक्षण

  • पेट में दर्द
  • डायरिया
  • मरोड़
  • कब्ज
  • पेट में गैस
  • थकान
  • कमजोरी
  • मल त्याग करने में दिक्कत
  • जलन महसूस होना

कोलन इंफेक्शन से बचाव के उपाय

  1. कोलन संक्रमण से बचने के लिए खूब पानी पीएं.
  2. आहार में सेहतमंद पेय पदा‍र्थों जैसे दूध, फलों का जसू, दही, छाछ, नींबू पानी को शामिल करें.
  3. पाचन को दुरुस्त रखने केलिए फाइबर से युक्त भोजन लें.

क्या होता है न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर (Neuroendocrine tumor) ?

न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर (Neuroendocrine tumor ) एक ऐसी स्थिति होती है, जिसमें न्यूरॉकोन्ड्रिया के सेल्स में ट्यूमर विकसित होने लगता है. यह ट्यूमर धीरे-धीरे विकसित होकर शरीर के दूसरे अंगों में भी फैलना शुरू कर देता है. इस तरह के ट्यूमर में सबसे दुख और चिंता की बात यह होती है कि इस बीमारी के शुरुआती लक्षण किसी भी तरह मरीज के अंदर नहीं दिखाए पड़ते हैं. जब शरीर में इस बीमारी के लक्षण आने शुरू होते हैं तो ये इस बात पर अधिक निर्भर करते हैं कि यह ट्यूमर शरीर के किस हिस्से के न्यूरॉकाइन्ड्रिया में विकसित हुआ है.

Bollywood

Actor Rishi Kapoor has died at 67 after a two-year-long battle with cancer. Rishi breathed his last at the Sir HN Reliance Foundation Hospital in Mumbai. His wife and actor Neetu Kapoor was by his side. His brother Randhir Kapoor confirmed the news.
Amitabh Bachchan confirmed the news on Twitter. “He’s GONE .. ! Rishi Kapoor .. gone .. just passed away .. I am destroyed !”

Rishi’s hospitalisation was confirmed by his elder brother, actor Randhir Kapoor. “It’s true that he has been admitted to the hospital. He is in Sir HN Reliance Foundation Hospital. He was not keeping well and had some problem, so we admitted him early this morning,” Randhir had said on Wednesday evening. Asked if it was an emergency situation, Randhir said: “That’s why he has gone to the hospital. But I know that he will be alright. Neetu (Kapoor) is by his side.”
In 2018, Rishi Kapoor was diagnosed with cancer, following which the actor was in New York for more than a year to receive treatment. He returned to India in September 2019 after recovering.
Post return to India, Kapoor’s health had frequently been in focus. The actor was admitted to hospital in quick succession in February. Amid speculations about his health, he had been hospitalised in New Delhi in early February, while on a visit to New Delhi.
Rishi was the second son of late actor Raj Kapoor and the sibling of Randhir, Ritu Nanda, Rima Jain and Rajeev Kapoor. He made his film debut with Bobby opposite Dimple Kapadia in 1973 and was also seen as a child actor in films such as Shree 420 and Mera Naam Joker.
He was part of hit films such as Amar Akbar Anthony, Laila Majnu, Rafoo Chakkar , Sargam, Karz, Bol Radha Bol and others. In the later stage of his career, he was seen in films such as Kapoor and Sons, D-Day, Mulk and 102 Not Out.
The actor was last seen in Emraan Hashmi’s The Body and had recently announced his next project, a remake of Hollywood film The Intern, also featuring Deepika Padukone.

Bollywood

बॉलीवुड एक्टर इरफान के निधन की खबर से लोग अभी उभरे भी नहीं थे कि बॉलीवुड एक्टर ऋषि कपूर ने भी इस दुनिया को अलविदा कह दिया। अमिताभ बच्चन ने अपने ऑफिशियल  ट्विटर हैंडल पर ट्वीट कर के इस बारे में जानकारी दी है। बिग बी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘वो चले गए… ऋषि कपूर चले गए…मैं खत्म हो गया हूं!’

बुधवार को एक्टर की तबीयत अचानक ज्यादा खराब हो गई जिसके बाद आनन-फानन में उन्हें अस्पताल में एडमिट करवाया  गया है। उनका इलाज़ मुंबई के एच.एन रिलायंस हॉस्पिटल में चल रहा था। भाई रणधीर कपूर ने इस खबर को कन्फर्म किया था कि ऋषि कपूर की तबीतय ठीक नहीं है। अब इसी हॉस्पिटल में उन्होंने आखिरी सांस ली।

Politics

US Secretary of State Mike Pompeo ने पिछले पखवाडे में कहा थाकि India और US मिलकर corona virus के उपचार के लिए vaccine को विकसित करने के लिए काम कर रहे हैं।

Pompeo के remark को लेकर किसी को आश्चर्य नहीं करना चाहिए। यह कोई नयी बात नहीं है बल्कि दोनों देश बीते तीन दशकों सेअंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्य joint vaccine development programme चला रहे हैं।

इस संबंध में दो बातें हमेशा याद रखनी चाहिए कि इसका दोनों देशों की सरकारों से कोई लेना देना नहीं है, क्योंकि यह दोनों देशों की private company के बीच का करार है। इसके अलावा यह भारतीय pharmaceutical companies की दशकों की मेहनत का नतीजा है जो पूरी दुनिया में अलग मकाम रखती हैं।

दोनों देश बीते 30 सालों में dengue, enteric diseases, influenza and TB सहित कई बीमारियों की रोकथाम के लिए साथ में काम कर चुके हैं।निकट भविष्य में dengue vaccine के Trial की योजना है।

भारत की गिनती दुनिया में generic drugs and vaccines बनाने वाले सबसे बड़े manufacturer के रूप में की जाती है। भारत में आधा दर्जनvaccine बनाने वाली बड़ी कंपनियां हैं और इसके अलावा कई छोटी कंपनियां हैं। यह कंपनियां polio, meningitis, pneumonia, rotavirus, BCG, measles, mumps and rubella सहित कई बीमारियों की vaccine बनाती हैं।

Serum Institute of India दुनिया की सबसे बड़ी vaccine बनाने वाली कंपनी है और इसके बनाये गये doses को पुरी दुनिया में बेचा जाता है। यह 53 साल पुरानी कंपनी हर साल 1.5 billion doses तैयार करती है। इस कंपनी के दो बड़े plants पुणे में स्थित है। इसके अलावा दो छोटे plants भी हैं जो Netherlands और Czech Republic में स्थित हैं। इस firm में करीब 7,000 लोग काम करते हैं।

यह कंपनी 165 देशों में करीब 20 vaccines की आपूर्ति करती है। इसके द्वारा बनायी गयी vaccines में से करीब 80% का export करती है। इसके एक dose की कीमत औसतन 50 cents होती है, जो दुनिया को काफी सस्ती पड़ती है।

अब इस कंपनी ने American biotech company Codagenix के साथ Covid-19 की “live attenuated” vaccine के निर्माण के लिए समझौता किया है। इस वक्त दुनिया भर में 80 कंपनियां Covid-19 संकट से निजात पाने के लिए vaccine विकसित करने में लगी हुई है।

Serum Institute of India private limited के प्रमुख अधर पूनावाला नेबताया कि हमारी योजना जल्दी इस vaccine के animal trials की हैऔर सितंबर तक हम human trials के लिए तैयार होंगे।

पूनावाला की firm ने University of Oxford द्वारा विकसित की जा रही एक vaccine के बड़े पैमाने पर उत्पादन के लिए करार किया है।

यह साफ है कि इस साल के अंत तक पूरी दुनिया को करोड़ों लाखोंdoses की जरूरत पड़ने वाली है, ताकि इस pandemic को खत्म किया जा सके और lockdown से बाहर आया जा सके।

इस मामले में भारतीय firm काफी आगे हैं। अकेले पूनावाला की कंपनीकी क्षमता 400 से 500 million doses अतिरिक्त बनाने की क्षमता है।पूनावाला का कहना है कि हमने अपनी क्षमता को बढ़ाने के लिए काफी निवेश किया है।

इसके अलावा, हैदराबाद स्थि​त Bharat Biotech ने University of Wisconsin Madison and US-based firm FluGen के साथ सहयोग की घोषणा की है। यह कंपनी तकरीबन 300 million doses तैयार करेगी जिसे पूरी दुनिया में वितरित किया जायेगा। वहीं अहमदाबाद की कंपनी Zydus Cadilla दो vaccines पर काम कर रही है, जबकि हैदराबाद की Biological E limited और Indian Immunologicals Limited तथा बेंगलूरू की Mynvax private limited भी vaccine विकसित करने के लिए काम कर रही है।

WHO की chief scientist सौम्या स्वमीनाथन का कहना है कि इसका सारा श्रेय Pharmaceutical companies को जाता है जिन्होंने quality manufacturing और अन्य प्रक्रियाओं में निवेश किया है। इस कारण हीबड़े पैमाने पर निर्माण संभव हो पा रहा है। इन कंपनियों के मालिकों का लक्ष्य विश्व के लिए अच्छा करने का है, जबकि सफलतापूर्वक अपना business चला रहे है। यह model सभी की जीत है।

Experts ने चेतावनी दी है कि लोगों को जल्द ही vaccine के बाजार में आने की किसी भी प्रकार की उम्मीद नहीं करनी चाहिए।

Poonawalla का कहना है कि सुरक्षित vaccine विकसित कर रहे हैं जो बड़े पैमाने पर बनाया जा सकता है।….इसकी हर खेप को रिलीज़ होनेसे पहले chemically and biologically परीक्षण करना होगा। मगर हमें एक सुरक्षित और प्रभावकारी vaccine की उम्मीद है।

Deepak Sen – Senior Journalist

Bollywood

“जिंदगी पे तेरा मेरा किसी का ना जोर है”, Versatile Actor Irfan Khan की फिल्म “ये साली जिंदगी” का है जो आजसच लग रहा है। यकीन नहीं होता कि एनएसडी से लेकरहॉलीवुड तक अपने अभिनय का लोहा मनवाने वाला हरदिलअज़ीज Actor अब हमारे बीच नहीं रहा।

साथ ही मुझे ललित कला अकादेमी के Exhibition Hall कीवह मुलाकात याद आ रही है, जब मैंने और Irfan Khan ने एक साथमें Paintings देखी थी।

बात कुछ यूं है कि PTI में मेरे सहयोगी राजेश जी की इरफानऔर उनकी पत्नी सुदाप्ता सिकदर से मित्रता थी और यह दोस्तीउस वक्त हुई थी जब इरफान एनएसडी के छात्र थे। इन दोस्तोंकी टोली में तिग्मांशु धुलिया भी शामिल थे।

जहां तक मुझे याद आता है कि 2011 में किसी काम केसिलसिले में इरफान नयी दिल्ली आये थे और उस वक्त ललितकला अकादेमी में Paintings Exhibition आरंभ होने वालीथी।

Inauguration के एक दिन पहले Artists और Journalists केलिए शाम को Special Exhibition रखी गयी थी। राजेश जीने कहा कि चलो इरफान से मिलकर आते हैं, लेकिन मेरी Exhibition में जाने की इच्छा थी और यह कहकर मैं मंडी हाउस निकल गया।

मेरे पहुंचने के थोड़ी देर बाद थोड़ी देर में मैंने देखा कि इरफानऔर राजेश भाई Special Exhibition में पहुंच गये।बामुश्किल उस Special Exhibition में 10 लोग भी नहीं रहेहोंगे।

राजेश जी ने मेरा परिचय इरफान से कराया और इसके बादमैंने और इरफान ने तकरीबन सभी Paintings देखी और हमएक दूसरे के साथ Paintings के बारे में बात भी करते जा रहे थे। ऐसा लग रहा था मानों वो Paintings में किसी चरित्र को खोज रहे हों।

हम लोग करीब 2 घंटे तक वहां रहे और इरफान बड़ी हीसहजता के साथ मेरे से बात कर रहे ऐसा लग रहा था कि वहमुझे काफी दिनों से जानते हों।

इससे पहले एक दफा इरफान ने PTI के Office में बातों बातोंमें बताया था कि अन्य परिवारों की तरह ही उनके भी घर में फिल्म देखने की मनाही थी और वह घर वालों की चोरी सेफिल्में देखा करते थे। इरफान ने बताया था कि क्या अज़ीब बात है कि जिसके घर में फिल्म देखने की मनाही थी, उस घर का बेटा आज फिल्मों में काम कर रहा है।

ये दोनों ही मुलाकातें मेरे जहन में Irfan की फिल्मों से अधिक गहरी पैठ बना चुकी हैं और इरफान की बात होने पर हमेशा मुझेपहले याद आती है।

करीब दो साल पहले राजेश जी ने मुझे इरफान की बीमारी केबारे में बताया था और यह भी बताया था कि इरफान को Rare Cancer है, जो बहुत कम लोगों में किसी को होता है।

Deepak Sen – Senior Journalist

Art-n-Culture

जनाब, शुक्रवार दिनांक 24 अप्रैल, 2020 को चांद दिखने के बाद शनिवार दिनांक 25 अप्रैल, 2020 से मुस्लिम धर्मावलंबियों का पवित्र रमजान का महीना शुरू हो चुका है। यहां आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि हमारे मुस्लिम आत्मीय भाई-बहन इस्लामी कैलेंडर के रमजान महीने में रोजा यानी उपवास रखते हैं। वह सवेरे से लेकर सूर्यास्त तक कुछ भी खाते-पीते नहीं हैं। यहां तक जल (पानी) तक नहीं पीते। इस दौरान पूरे एक महीने तक रोजे रखे जाते हैं और उसके बाद ईद का खुशियों भरा त्योहार मनाया जाता है। रमजान का महीना और ईद समस्त मानव जाति को आपसी प्रेम, सौहार्द और भाईचारे का खुशनुमा संदेश देती है।

जनाब, दुर्भाग्य है कि इस बार इस दौरान विश्वव्यापी अदृश्य जानलेवा कोरोना वायरस के घातक प्रकोप से अपना मुल्क भी लॉकडाउन की कठिन प्रक्रिया से गुजर रहा है। लॉकडाउन हम सब देशवासियों की सुरक्षा हेतु सतर्कता के साथ अपनी जान की हिफ़ाजत करने हेतु बहुत जरूरी कदम है। और स्वास्थ्य मंत्रालय एवं भारत सरकार द्वारा जो भी सावधानियां और सतर्कताएं बताई गई हैं उनका सख्ती से पालन करना भी हम सभी के लिए बहुत जरूरी है। इसलिए सोशल डिस्टेंसिंग के साथ-साथ, बार-बार साबुन से हाथ धोते रहना और नाक व मुंह पर मास्क पहनना बहुत जरूरी है। अतः इस बार पवित्र रमजान माह पर आत्म संयम की पहले से अधिक आवश्यकता है। आपस में एक-दूसरे से शारीरिक दूरी रख कर ही हम स्वयं और अपनों को सुरक्षित रख सकते हैं। फिलहाल कोरोना वायरस से बचने का और कोई विशेष उपाय नहीं है।

जनाब, रमजान के इस पवित्र मौके पर मैं अपने समस्त मुस्लिम आत्मीय भाई-बहनों को अपनी एक मौलिक कविता के माध्यम से मुबारकबाद देता हूं और सबका मालिक एक उन्हें दिल से अल्लाह कहो, परवरदिगार कहो या फिर परमपिता परमात्मा भगवान कहो, मैं भी उनसे विश्वभर के अमन-चैन की प्रार्थना करता हूं। और लीजिए मेरी मौलिक कविता के रूप में आप भी स्वीकार कीजिए, ‘माह-ए-रमजान मुबारकबाद’-

लो, रमजान का पवित्र महीना आ गया, जनाब,
परवरदिगार परमात्मा रोशन करे रमजान आपका,
हो कुबूल इस माह अल्लाह से हर फरियाद आपकी,
चाँद के पार है अल्लाह मिया आपका और हमारा,
पैगम्बर मोहम्मद साहब कह गए,
‘शैतानों को जंजीर किया जाता है इस माह’,
इबादत कुबूल करवा ले मौका है रमजान का,
अदृश्य शैतान कोरोना हो बंदिश यहां,
कोरोना घात के दोज़ख (जहन्नुम) से सारे जग को बचा,
फिर मगफिरत (मोक्ष) की हर बात बन जाए,
हर रोजा (उपवास) ही रूहानियत (अध्यात्मिकता) का रास्ता है आपका,
सदा पाकसाक रहने और पाकीज़गी की शर्त है हर रोजा,
खुदा रहमत करे कि, हर शख्स नेकी के मकां में रहे,
हर रूह (आत्मा) का अल्लाह (परमात्मा) मिलन है हर रोजा,
अल्लाह के बंदों पर बरसेगी ‘रहमत’,
अल्लाह नाजिल (प्रकट) करेगा ‘बरकत’,
फिर मगफिरत का समय होगा जब,
अल्लाह करेगा माफ़ नापाक गुनाहों को भी,
वह रहमदिल है सर्वशक्तिमान है, जनाब,
बस रखनी होंगी उसकी सदा नेक दिल पैग़ामभरी बातें याद,
कि रमजान के बाद भी न दुःखी हो दिल किसी का,
नफ़रत व हिंसा को छोड़कर, ज्ञान, प्रेम, पवित्रता, सुख,
शांति, आनंद और शक्ति का हो वास हर बंदे में सदा,
अल्लाह कहो या खुदा या फिर परमपिता परमात्मा,
उसकी बेहद की प्यारभरी तालीम में हम सब बस हो जाएं फिदा,
जब भी जनाजा उठे इस धरा से तो,
परवरदिगार अल्लाह के आगोश में बस निश्चिंत हो सो जाएं,
मित्रो, ये आपका मित्र ‘आलोक’ कहता है आपसे,
मेरे आत्मीय भाई-बहनों हो बहुत-बहुत मुबारक,
आपको अल्लाह मिलन रमजान का ये महीना ।
इतनी दुआएं मांगना अल्लाह से मेरे मित्र,
हो जाए अपने मुल्क समेत दुनियाभर से
नापाक अदृश्य शैतान कोरोना वायरस का खात्मा,
फिर भययुक्त शारीरिक दूरी मिटा कर,
आने वाली नव पवित्र ईद पर,
जी भर फक्र से गले मिल जाएं हम लोग सदा,
फिर से हो चमन ये अपना मुल्क और जहान हमारा,
और हे अल्लाह परवरदिगार,
हमारा जब भी दम निकले
तो तेरी इबादत में ही निकले।

( लेखक राष्ट्रीय मीडिया अधिकारी, प्रयोगधर्मी व्यंग्यकार एवं प्राकृतिक चिकित्सक हैं )

Bollywood

बॉलीवुड एक्टर इरफान खान जो कि लंबे समय से कैंसर से जंग लड़ रहे थे, आज जिंदगी की जंग हार गए. मंगलवार को खबर सामने आई थी कि अचानक उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई जिसके चलते उन्हें मुंबई के कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

इरफान की तबीयत काफी बिगड़ गई थी जिसके चलते उन्हें अस्पताल के आईसीयू वो आईसीयू में भर्ती थे. अब ये खबर सामने आई है कि उन्होंने जिंदगी की जंग हार गए और इस दुनिया को अलविदा कह दिया. इरफान खान की मौत की जानकारी देते हुए परिवार की ओर से आधिकारिक बयान जारी किया गया है, जो काफी भावुक कर देने वाला है.

जारी बयान में कहा गया, ” ‘मुझे भरोसा है, मैंने आत्मसमर्पण कर दिया है’. इरफान खान अक्सर इन शब्दों का प्रयोग किया करते थे. साल 2018 में कैंसर से लड़ते समय भी इरफान ने अपने नोट में ये बात कही थी. इरफान खान बेहद कम शब्दों में अपनी बात कहा करते थे और बात करने के लिए आंखों का ज्यादा इस्तेमाल करते थे.”

आपको बता दें कि इरफान खान इस समय बीमारी के साथ-साथ काफी इमोशनल दौर से गुजर रहे थे. 25 अप्रैल को ही इरफान खान की मां सईदा बेगम का निधन हुआ था. हालांकि कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन के चलते वो अपनी मां के अंतिम दर्शन तक नहीं कर सके थे. इरफान खान ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपनी मां को अंतिम विदाई थी.
खुद सोशल मीडिया के जरिए कही थी ये बात

इरफान खान ने साल 2018 में अपनी बीमारी के बारे में खुद खुलासा किया था. उन्होंने फैंस के साथ बेहद भावुक कर देने वाला नोट साझा किया था. इरफान ने ट्वीट में लिखा था, ”अप्रत्याशित चीज़ें हमें आगे बढ़ाती हैं, मेरे पिछले कुछ दिन ऐसे ही रहें हैं, मुझे पता चला है कि एंडोक्राइन ट्यूमर है. इससे गुजरना काफी मुश्किल है. लेकिन मेरे आस पास लोगों का जो प्यार और साथ है उससे मुझे उम्मीद है. इसके लिए मुझे देश से बाहर जाना पड़ेगा. मैं सबसे गुजारिश करूंगा कि मुझे अपनी दुआओं में शामिल रखें, जैसी अफवाहें थीं मैं बताना चाहूंगा कि न्यूरो का मतलब हमेशा सिर्फ दिमाग से नहीं होता, आप गूगल के जरिए इसके बारे में रिसर्च कर सकते हैं.”

Education

कोरोना वायरस लॉकडाउन (Corona Virus Lockdown) के बीच सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE Board) से जुड़ी बड़ी खबर आई है। बोर्ड ने साफ कर दिया है कि ऐसे वक्त में दसवीं बोर्ड की बची परीक्षा करवाना संभव नहीं है, बच्चों को इंटरनल के बेस पर पास किया जाएगा। हालांकि, 12वीं के पेपरों पर अभी सस्पेंस बरकरार रखा गया है। मीडिया से बात करते हुए CBSE के सचिव अनुराग त्रिपाठी ने कहा कि 12वीं के पेपर लॉकडाउन और आगे की स्थिति के हिसाब से प्लान होंगे। पेपर कब होंगे इसकी जानकारी 10 दिन पहले दे दी जाएगी।

cbse exam corona

10वीं CBSE Board के बचे पेपर रद्द

अनुराग त्रिपाठी ने 10 वीं बोर्ड की परीक्षा से जुड़े सवाल पर कहा, ’10वीं की पूरे देश में जो परीक्षा बची हुई हैं, वे छोटे-छोटे विषय थे। उनकी अब परीक्षा नहीं हो रही। इंटरनल असेसमेंट और बाकी पैमानों के आधार पर इसका रिजल्ट बनाया जाएगा। प्रोडेटा बेसिस पर।’ बताया गया कि यह बात 1 अप्रैल को जारी सर्कुलर में ही बता दी गई थी।

लेकिन दंगे वाले नॉर्थ ईस्ट में होंगे पेपर

दिल्ली के नॉर्थ ईस्ट जिले में पढ़नेवाले बच्चों की 10वीं की परीक्षाएं भी नहीं हो पाई थी। यहां दंगों की वजह से पेपर रह गए थे। बताया गया कि वहां परीक्षाएं जरूर होंगी। इस इलाके में भी सिर्फ 6 मुख्य सब्जेक्ट के ही पेपर होंगे।

12वीं की परीक्षाएं होंगी?

इस पर त्रिपाठी ने कहा कि 12वीं की 12 विषयों की परीक्षा होनी हैं। इसका फैसला अभी लिया जाएगा। अनुराग त्रिपाठी ने साफ किया कि 3 मई के बाद तय किया जाएगा कि 12वीं की परीक्षा कब लेनी है। अगर लॉकडाउन आगे बढ़ता है तो प्लान उस हिसाब से तैयार किया जाएगा। त्रिपाठी ने यह भी बताया कि जो पेपर हो चुके हैं उनकी कॉपियों की जांच कहीं-कहीं पर शुरू हो चुकी है। फिलहाल रिजल्ट बनने में दो महीने तक का वक्त लगेगा।

12वीं के कौन-कौन से पेपर बचे

बिजनस स्टडी, भूगोल, हिंदी (इलेक्टिव), हिंदी (कोर), होम साइंस, सोसोलॉजी, कंप्यूटर साइंस (न्यू और ओल्ड), इंफॉर्मेशन प्रैक्टिस (ओल्ड और न्यू), बायो टेक्नॉलजी

कोरोना वायरस संकट पर टीवी चैनल से बात करते हुए CBSE सचिव ने कहा कि यह एक ऐसा समय है जब कोविड का संकट है। सीबीएसई बोर्ड समेत पूरी दुनिया के संस्थान लॉकडाउन हैं। मेरा पैरेंट्स से यह कहना है कि पैनिक न लें। सेल्फ स्टडी करवाएं। देश और दुनिया में जो भी होगा एक समान होगा। सभी जगह एक समान फैसला होगा। बच्चे और पैरंट्स धैर्य रखें।’

NEET, JEE जैसी प्रतियोगी परीक्षा का क्या होगा

अनुराग त्रिपाठी ने बताया कि जो छात्र NEET, JEE या ऐसे किसी भी प्रतियोगी परीक्षा (competitive exam) की तैयारी कर रहे हैं उन्हें परेशान नहीं होना चाहिए। क्योंकि ये सभी एग्जाम भी कैंसल हैं। 12वीं की परीक्षा और नतीजों से पहले इनके होने के भी चांस नहीं हैं।