June 18, 2021
Lifestyle

 7 rakhis using the age-old knowledge of Vastu and Crystal Therapy

रक्षा बंधन भारत में एक लंबे समय से प्यार का त्योहार है जो सुरक्षा का प्रतीकहै। इस त्योहार में बहन एक धागा बांधती है अपने भाई को और उसके लिएसभी प्रकार की आपदाओं से सुरक्षा चाहती है। वर्तमान परिदृश्य को इतनेनकारात्मकता के साथ देखते हुए, केवल एक कर्मकांड के धागे को बांधने केबजाय, लोग वास्तव में हमारी स्वदेशी जड़ों में खुदाई कर सकते हैं और राखी केरत्न, पत्थर के एड क्रिस्टल को उपहार में दे सकते हैं, जो हम में से कई जानते हैंकि इनमें बाहरी अनदेखी शक्तियों से उपचार और सुरक्षात्मक गुण हैं।

राखी कोवास्तुशास्त्र के प्राचीन विज्ञान के पुराने ज्ञान का उपयोग करते हुए बनाया गया है,जो कि आध्यात्मिक शिक्षा का प्राचीन विज्ञान है जो मानव और प्रकृति के बीचसंतुलन को संतुलित करने में मदद करता है।

वास्तुशास्त्र में और उन राखियों कोबनाते समय – पांच बुनियादी तत्व, आठ बुनियादी भौगोलिक और गूढ़ दिशाएँ,पृथ्वी की विद्युत-चुंबकीय और गुरुत्वाकर्षण बल, ग्रहों से निकलने वाली लौकिकऊर्जा और साथ ही वातावरण और मानव जीवन पर उनके प्रभाव सभी विज्ञान मेंध्यान में रखे गए हैं।

डॉ। रविराज अहिरराव, वास्तु विशेषज्ञ और सह-संस्थापक वास्तु रविराज 7 राखी और उनके महत्व को प्रस्तुत करते हैं:

  1.  सात चक्र क्रिस्टल राखी – (7 चक्र राखी) – एक राखी जिसमें7 उपचार के क्रिस्टल हैं, जो रचनात्मकता, आत्मविश्वास औरआत्मसम्मान को बढ़ाते हैं। यह संयोजन हमारे शरीर के सभी चक्रों कोसंतुलित करने के लिए जिम्मेदार है।
  2. गोमती चक्र राखी के साथ सात क्रिस्टल – (7 चक्र गोमतीराखी) – गोमती चक्र नामक शुभ चिन्ह के साथ सात आत्मविश्वासऔर भाग्य बढ़ाने वाले क्रिस्टल जोड़े। यह देवी लक्ष्मी को आपकेजीवन में समृद्धि लाने की सहयोग करता है।
  3. गुलाबी गुलाब हम्सा क्रिस्टल राखी – (गुलाबी गुलाब राखी) -पिंक रोज की शांत प्रकृति सद्भाव को बढ़ावा देती है और पारस्परिकसंबंधों को मजबूत करती है। केंद्र में स्थित “हम्सा” शांति, खुशी औरभाग्य का अंतिम प्रतीक है। (हम्सा को ‘भगवान के हाथ’ के रूप में भीजाना जाता है)
  4. गोमती चक्र राखी के साथ हरा अवेंटुरीन क्रिस्टल – (हरीअवेंटुरीन राखी) – यह हरा क्रिस्टल जीवन में वृद्धि, सफलता औरस्थिरता के लिए जिम्मेदार है। देवी लक्ष्मी के शुभ प्रतीक के साथ जोड़ागया जो गोमती चक्र है जो धन को आकर्षित करता है।
  5. टाइगर की आंख वाली क्रिस्टल राखी – यह सुनहरा और भूराक्रिस्टल तीन क – कमांड, कम्युनिकेशन और कॉन्फिडेंस को बढ़ाता है।यह शक्ति और ऊर्जा का प्रतीक है।
  6. गोमती चक्र राखी के साथ अमेथिस्ट क्रिस्टल – (नीलमराखी) – नीलम एक अनूठा क्रिस्टल है। यह अच्छे मानसिक स्वास्थ्यको बढ़ावा देता है, आध्यात्मिक जागरूकता और चेतना को बढ़ाता है।धन और समृद्धि के प्रतीक गोमती चक्र के साथ जोड़ा जाता है।
  7. गोमती चक्र राखी के साथ कार्नेलियन क्रिस्टल – (कार्नेलियनराखी) – यह नारंगी क्रिस्टल नकारात्मक ऊर्जाओं से सुरक्षा के लिएजिम्मेदार है। 

यह अच्छी शारीरिक और मानसिक ऊर्जा को बढ़ावा देताहै। देवी लक्ष्मी और धन के प्रतीक गोमती चक्र के साथ जोड़ा जाता है।
आइए, वास्तुशास्त्र पर आधारित इन उपहारों के द्वारा इस राखी को विशेष बनाएंऔर हमारे प्रेम जीवन में सकारात्मकता की ऊर्जा का संचार करें।
नोट: कोई भी www.vasturaviraj.co.in पर वास्तविक प्रमाणीकरण के साथइन राखियों का लाभ उठा सकते है।

Dr Raviraj Ahirrao, Vastu Expert and Co-Founder Vastu Raviraj

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *