July 4, 2020
Home Archive by category Art-n-Culture

Art-n-Culture

Art-n-Culture

When I was born
I was student after few years
Never knew when I became employee
A employee who can be at any step of ladder
Still just a employee who can be waved goodbye any time
So many years passed other relations a daughter ,wife ,mom ,friends are there but still most prominent a employee
Each day starts with tag
No matter how many Sunrises Sunsets I missed
I found its always dark when I left and enter house

Iam a employee
That tag became so precious I forgot almost I know something beyond
Dont remember Birthdays ,anniversaries but never forgot webinars ,webex ,skype.
one fine day employee tag was taken back
I came back with heavy steps
Everybody in my house asking in brighter sunlight who are you
They know only a employee who talks to them about employment world
They are still figuring who am I

Iam a lost child
Still thinking I miss tag or small luxuries tat tag brought
Never realized I forgot what interests me beyond

Author:

Shipra Dhingra

Iam Shipra Dhingra a IT professional from a decade served in many mnc companies in various roles .Iam also blessed with two kids a Son and daughter to complement life with various colours .we often write /sing in our memories .During lockdown i noted my poems and started ahead .Looking forward in this journey.

Art-n-Culture

Harssh A Singh was recently seen in Taapsee Pannu and Pavail Gulati-starrer “Thappad”. The actor was associated with theatres for a very long time before venturing into Bollywood. He feels that the Indian theatre is going through a tough phase because there is no money in it.

He says after rehearsing for one play for a period of three months, they get just Rs.2000 per show, and that is not sufficient for survival in big cities like Mumbai or Delhi.

“If you go towards UK, many Oscar-winning actors have started their career from theatre. Their government supports theatre people by giving them grants so that artists can lead a good life and raise their family, but that’s not possible in india. People who do theatre in India, they are considered mad, because there is no money. We rehearse for three months for one play and at end of it we just get Rs. 2000 per show. Can you imagine living with Rs. 2000? How will theatre actors survive with it and that is why theatre, unfortunately, is dying in India,” Harssh said.

“Big names like Nawazuddin Siddiqui and Irrfan Khan have done theatre, but when they came to Mumbai they couldn’t do theatre, because it was hard to survive with that kind of money. So they opted for Bollywood,” he added.

He reveals that though there is no money in theatre, youngsters still consider it as a training ground. However, he admits that once they have done a play or two, they leave for Bollywood.

“If you ask any newcomer, the one who comes from delhi or out of town, they will say I want to do theatre, not because they love watching it, there idea is that theatre is a great training ground so I will get in theatres will do one or two plays, will learn acting and will get into TV or films to make money. It’s very sad but true. Artists from all over world believe because there is no money in theatre and if they want to be here, it won’t be for long. If you are living in mumbai your minimum expenditure is very expensive so for how many years are you going to survive just by doing theatre,” Harssh said.

The “Bajrangi Bhaijaan” star also feels that theatre will always go through a rough phase, but it will die and revive again because of the people who are just so passionate about it.

“Theatre will die, it will keep going through hardships and terrible things but there will always be people who want to be in theatre, because if someone enjoys doing theatre, they will not enjoy anything else. Even if they do films, TV, webseries, they will always come back to the stage, for example, look at artists like Naseeruddin Shah and Rajat Kapoor,” Harssh said.

Harssh recently became part of a video by the theatre community for the others who are struggling during these tough times.

Talking about the video, he said, “The song was conceptualised by Asif Ali Baig, an incredible theatre artist. He wanted to write a song for people who love theatre and like I said people who love theatre they don’t do it for money, they do it because they love the art form. This came from the fear that once the lockdown ends will people come to theatre, will they buy tickets, will it be possible. The video was conceptualised from that fear that theatre will never die, they will all be back some how or the other. I decided to become part of it because through this we want to create awareness and raise money for the artists whose income has been stopped.”

Art-n-Culture

A brand new story to encourage mindfulness amongst children
From the BAFTA award-winning preschool animation series Peppa Pig – comes a brand new story Peppa Loves Yoga! This adorable board book is a perfect gift for young readers and helps children learn about yoga and practice it as a tool for mindfulness. Filled with endearing illustrations of Peppa and her friends having fun while learning different yoga positions, this book is definitely a must have for all Peppa Pig lovers.

About the Book

It is a very busy day at Peppa and George’s playgroup, but they have a very special visitor coming in the afternoon. Miss Rabbit is going to teach the children how to calm down and relax with yoga. The children love learning all the different positions . . . and the parents love picking up their calm children!

Art-n-Culture
  • 22 जून तक 15 दिन 15 व्याख्यान वाणी प्रकाशन के सोशल मीडिया पर 5 से 6 बजे हर रोज.
  • हिन्दी साहित्य के छात्रों ,हिन्दी भाषा विज्ञान के शोधार्थीयों,सिविल सेवा की परीक्षा के लिए तैयारी कर रहे एवं हिन्दी साहित्य के इतिहास में रुचि रखने वाले छात्रों के उपयोगी व्याखान.
  • वाणी डिजिटल के तहत चार भागों में शिक्षा, सरोकार, गोष्टी, और पुस्तक पर ऑनलाइन कार्यक्रम होंगे.

नई दिल्ली : आज जिस तेजी से दुनिया बदल रही रही है उतनी ही तेजी से साहित्यक विधाओं की प्रकृति और सरंचना भी। इसी विषय के मद्देनजर वाणी प्रकाशन और डॉ. प्रभाकर सिंह बी एच यू के संयोजन में ‘हिन्दी साहित्य का इतिहास अध्ययन की नयी दृष्टि’ व्याखान माला का आयोजन आज से 22 जून तक वाणी डिजिटल के तहत सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर लेके आया है. 15 दिन 15 व्याखानों में देश के शिलांग से लेके राजस्थान तक और पंजाब से लेके केरला तक के हिन्दी साहित्य के शीर्षस्थ विचारक, बौद्धिक प्राध्यापक रोज शाम 5 से 6 बजे वाणी प्रकाशन के सभी सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर उपस्थित रहेंगे। यह व्याखान माला साहित्य के इतिहास को जानने ,परखने की एक सार्थक और अति आवश्यक पहल है।

हिन्दी साहित्य का इतिहास:अध्ययन की नई दृष्टि विषयक 15 व्याख्यानों की श्रृंखला का पहला व्याख्यान लेखक विद्वान, चिन्तक व काशी हिन्दू विश्वविद्यालय ,वाराणसी के प्रो. सदानन्द शाही ने दिया।उनका वक्तव्य आदिकाल पर केंद्रित था। उन्होंने कहा की आदिकालीन साहित्य बहुरंगी और विविध वर्णी है। भारत के मन को समझने की यह विविधता भरी दृष्टि ही आदिकाल को महत्व प्रदान करती है। आदिकाल में रासो साहित्य के साथ सिद्ध, जैन और नाथ साहित्य का आज के समय में अधिक महत्व है। उस युग में संस्कृत के बरअक्स जनपदीय चेतना और जनपदीय भाषा को प्रतिष्ठित करने का काम गोरखनाथ करते हैं। आचार्य शुक्ल की इतिहास दृष्टि ने शिक्षित जन को लेकर आदिकालीन साहित्य की जो विवेचना की उसके बरक्स आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी राहुल सांकृत्यायन जैसे इतिहासकारों की इतिहास दृष्टि से हमें आदिकालीन साहित्य का पुनर मूल्यांकन करना होगा। आदिकाल में अमीर खुसरो,विद्यापति और मुल्ला दाऊद का साहित्य हिन्दी की जातीय चेतना का साहित्य है। आदिकाल मैं रचा गया साहित्य ही हिंदी साहित्य के इतिहास की रचनात्मक पृष्ठभूमि है।

वाणी प्रकाशन के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक श्री अरुण माहेश्वरी ने इस व्याखान माला के उदेश्य पर कहा “ हम जानते हैं कि कोई भी काल हो चाहे वो ऐतिहासिक हो,तो उस ऐतिहासिक काल का अगर हम इतिहास और साहित्य के बीच विभाजन करें तो वह काल हमें कुछ नया देके जाता है ,नई चीजें,परिस्थितियां और ज्ञान. कोरोना काल भी एक ऐसा ही काल है जिसके बीच हम सब डिजिटल हो रहे हैं ,यह डिजिटल काल हमारे शिक्षा के प्रसार के माध्यमों को एक नया आयाम दे रहा है. हिन्दी साहित्य का इतिहास अध्ययन की नयी दृष्टि’ व्याखान माला में अभी तक जो व्याखान हुए हैं वे बड़े ज्ञानपूर्ण और नए तथ्यों की और ध्यान केन्द्रित करते हैं ”

बी एच यू के डॉ. प्रभाकर सिंह ने अपनी रखते हुई कहा “वाणी प्रकाशन समूह की ओर से- हिंदी साहित्य का इतिहास अध्ययन की नई दृष्टि 15 दिन 15 व्याख्यान- की सीरीज में हिंदी साहित्य के इतिहास लेखन की परंपरा और हिंदी साहित्य में नई इतिहास दृष्टि की प्रस्तावना के साथ वैचारिक वक्तव्य हो रहे हैं। आदिकाल पर सदानंद शाही ने और भक्ति आंदोलन और भक्ति काव्य के बहाने आशीष त्रिपाठी ने साहित्य के इतिहास को देखने की कई नई वैचारिक दृष्टियों का प्रस्ताव किया जैसे की अब साहित्य की धाराओं का इतिहास ही लिखा जा सकता है । सही है कि हिंदी साहित्य के इतिहास को आचार्य शुक्ल के ढांचे से बाहर निकलना पड़ेगा विशेष रुप से आदिकाल और भक्ति काल में जो विभिन्न काव्य धाराएं हैं जिनका विकास लगभग 1000 सालों का है उनका मुकम्मल इतिहास लिखा जाना चाहिए”।

हिन्दी साहित्य के इतिहासकारों की इतिहास दृष्टि में आदिकाल और मध्यकाल के मूल्यांकन में बहुत कुछ ऐसा छूट गया जिसको इतिहास लेखन के नव्य-इतिहासदृष्टियों के आलोक में विवेचित किया जाना चाहिए। हिन्दी साहित्य के इतिहास को समझने की मुकम्मल दृष्टि तभी बनेगी जब हम इसके लिए व्यापक परिप्रेक्ष्य लेकर चलते हैं। हिन्दी जाति का साहित्य सिर्फ हिन्दी भाषी क्षेत्र में नहीं बना, बल्कि बाहर भी इसका दायरा बहुत विस्तृत है। दक्षिण भारत का हिन्दी लेखन साहित्य के इतिहास के पुनर्पाठ में नए आयाम जोड़ सकता है। हिन्दी साहित्य का इतिहास हिन्दी -उर्दू की साझी विरासत का भी इतिहास है। इन्हीं विचारों के साथ वाणी प्रकाशन ग्रुप और डॉ प्रभाकर सिंह द्वारा यह व्याख्यान माला प्रयोजित की गयी है । आप सभी व्याख्यान निःशुल्क वाणी प्रकाशन ग्रुप के फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पेज पर सुन और देख सकते हैं। यह सभी अमूल्य वक्तव्य वाणी प्रकाशन ग्रुप के यू ट्यूब चैनल पर भी उपलब्ध होंगे।

कार्यक्रम की रुपरेखा

दिनांक – 11 जून 2020 | समय – शाम 5:00 से 6:00 बजे
विषय : आधुनिकता और हिन्दी नवजागरण
शंभूनाथ,
भारतीय भाषा परिषद, कोलकाता


दिनांक – 12 जून 2020 | समय – शाम 5:00 से 6:00 बजे
विषय : खड़ी बोली कविता की ज़मीन और द्विवेदी युग
प्रभाकर सिंह,
काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी


दिनांक – 13 जून 2020 | समय – शाम 5:00 से 6:00 बजे
विषय : छायावाद : पुनर्मूल्यांकन
गोपेश्वर सिंह,
दिल्ली विश्वविद्यालय, नयी दिल्ली


दिनांक – 14 जून 2020 | समय – शाम 5:00 से 6:00 बजे
प्रगतिशील हिन्दी कविता : व्याप्ति और विस्तार
भरत प्रसाद,
पूर्वोत्तर पर्वतीय विश्वविद्यालय,शिलॉन्ग


दिनांक – 15 जून 2020 | समय – शाम 5:00 से 6:00 बजे
विषय : प्रयोगवाद : विचार और विश्लेषण
मृत्युन जय,
अम्बेडकर विश्वविद्यालय, नयी दिल्ली


दिनांक – 16 जून 2020 | समय – शाम 5:00 से 6:00 बजे
विषय : नयी कविता : एक पुनर्विचार
सर्वेश सिंह, बाबा भीमराव अम्बेडकर
केन्द्रीय विश्वविद्यालय, लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ


दिनांक – 17 जून 2020 | समय – शाम 5:00 से 6:00 बजे
विषय : समकालीन हिन्दी कविता : अध्ययन की समस्याएँ
जितेन्द्र श्रीवास्तव,
इग्नू , नयी दिल्ली


दिनांक – 18 जून 2020 | समय – शाम 5:00 से 6:00 बजे
विषय : हिन्दी आलोचना : विचार और विमर्श
राजकुमार, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी


दिनांक – 19 जून 2020 | समय – शाम 5:00 से 6:00 बजे
विषय : हिन्दी कहानी के प्रस्थान बिन्दु
नीरज खरे , काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी


दिनांक – 20 जून 2020 | समय – शाम 5:00 से 6:00 बजे
विषय : हिन्दी उपन्यास : संरचना और विकास
सत्यकाम सत्यकाम, इग्नू, नयी दिल्ली


दिनांक – 21 जून 2020 | समय – शाम 5:00 से 6:00 बजे
विषय : दक्षिण भारत का समकालीन हिन्दी लेखन
प्रमोद कोवप्रत, कालिकट विश्वविद्यालय, केरल


दिनांक – 22 जून 2020 | समय – शाम 5:00 से 6:00 बजे
विषय : हिन्दी पत्रकारिता के वैचारिक पहलू
अविनाश कुमार सिंह,
विमेंस कॉलेज, जमशेदपुर

Art-n-Culture Daily Photo
चित्र – नीरज गौड़

आओ भविष्य को दें पोषण, दें उम्मीद के पर

हर ओर छाया कहर है,
बचा ना कोई पहर है ||

जीवन है बेबस खड़ा,
कमजोर, पर है फिर भी अड़ा ||

साल हुआ शुरू था, उम्मीदों का था बिछोना,
क्या पता था, है आगे कोरोना ||

जिंदगी सिमटी, आया उम्फान,
आगे खड़ा अभी निसर्ग तूफान ||

धरती भी रह रहकर डोलती है,
जाने क्या हमसे बोलती है ||

शायद प्रलय की ये झाँकी है,
हाय, अभी और क्या देखना बाकी है ||

पर दीप ह्रदय में अभी जलता है,
स्वस्थ जीवन का स्वप्न अभी भी पलता है ||

प्रलय अंत नहीं शुरुआत है,
ये नये दिन से पहले की रात है ||

तपस्वी सा अड़ा हुआ हूँ पथ पर,
चल रहा हूँ उम्मीद के रथ पर ||

आओ अंधेरे को, मुश्किलों को मिलकर लें हर,
आओ भविष्य को दें पोषण, दें उम्मीद के पर |

लेखक – विक्रम गौड़

Art-n-Culture

Justice K.G. Balakrishnanan, former Chief Justice of India releasing book “Narendra Modi – Harbinger of Prosperity & Apostle of World Peace” (in 20 languages) co-authored by President of International Council of Jurists Dr. Adish C Aggarwala and American author Ms. Elisabeth Horan in the presence of Yog Guru Swami Ramdev, Sri Sri Gurudev Ravi Shankar, RSS leaders Ram Lal and Indresh Kumar, former Union Minister Yogendra Makwana, BJP leaders Shyam Jaju and Bhubaneswar Kalita in New Delhi on Friday to mark the completion of six eventful years of Narendra Modi as Prime Minister of India.     

                                                     (Dr. Adish C Aggarwala)

                                          Mobiles : 9958177904, 9868510674

                                     Email : international.jurists6@gmail.com

Dr. Adish C. Aggarwala, Senior Advocate
President, International Council of Jurists (www.internationaljurists.org)
Chairman, All India Bar Association (allindiabar.org)
Chairman, India Legal Information Institute (www.indlii.org)
Advisor, Dr. Adish Aggarwala Law Chambers 
Ex. Special Counsel for Government of India (www.lawmin.nic.in)
Ex. Vice-Chairman, Bar Council of India (www.barcouncilofndia.org
Ex. Chairman, Bar Council of Delhi (www.delhibarcouncil.com)
Ex. Senior Additional Advocate General of Govt. of Haryana (www.haryana.gov.in)
Ex. Additional Advocate General of Govt. of Punjab (www.punjabgovt.gov.in)
Ex. Additional Advocate General of Govt. of Uttar Pradesh (www.up.gov.in)
Ex. Additional Advocate General of Govt. of Tamil Nadu (www.tn.gov.in)
Ex. Vice-President, Supreme Court Bar Association (www.scbaindia.org)
Email:  international.jurists6@gmail.comadishaggarwala@yahoo.com
UK Telephone:  +(44) 20-81335686UK Mobile:  +(44) 785 4740880
Geneva Telephone: +(41) 22-5483033
India Mobile : +(91) 9958177904, 9868510674
Skype ID : adishcaggarwala

Dr. Adish C. Aggarwala, Senior Advocate
President, International Council of Jurists (www.internationaljurists.org
Chairman, All India Bar Association (allindiabar.org)
Chairman, India Legal Information Institute (www.indlii.org)
Advisor, Dr. Adish Aggarwala Law Chambers 
Ex. Special Counsel for Government of India (www.lawmin.nic.in)
Ex. Vice-Chairman, Bar Council of India (www.barcouncilofndia.org
Ex. Chairman, Bar Council of Delhi (www.delhibarcouncil.com)
Ex. Senior Additional Advocate General of Govt. of Haryana (www.haryana.gov.in)
Ex. Additional Advocate General of Govt. of Punjab (www.punjabgovt.gov.in)
Ex. Additional Advocate General of Govt. of Uttar Pradesh (www.up.gov.in)
Ex. Additional Advocate General of Govt. of Tamil Nadu (www.tn.gov.in)
Ex. Vice-President, Supreme Court Bar Association (www.scbaindia.org)
email:  international.jurists6@gmail.comadishaggarwala@yahoo.com
UK Tele:  +(44) 20-81335686; UK Fax :  +(44) 20-77991687; UK Mobile:  +(44) 785 4740880
India Mobile : +(91) 9958177904, 9868510674, 9910063501
Skype ID : adishcaggarwala

Art-n-Culture

बात शुरू करती हूँ इस अजीबोग़रीब समय से जिसे न किसी ने आज तक देखा ,न सुना ,न जाना ,न पहचाना –बस ,एक साथ ही जैसे प्रकृति का आक्रोश पूरे विश्व पर आ पड़ा | गाज गिर गई जैसे —
आज प्रकृति ने सोचने को विवश कर दिया कि भाई ,मत इतराओ ,मत एक-दूसरे पर लांछन लगाओ | मैं पूरी सृष्टि की माँ हूँ ,यदि सम्मान नहीं करोगे तो कभी न कभी ,किसी न किसी रूप में मैं तुम्हें सिखाऊंगी तो हूँ ही कि सम्मान किसे कहते हैं ? और यह कितना ज़रूरी है |

हम प्रकृति को माँ कहते हैं तो उसे माँ समझना भी उतना ही ज़रूरी है | बच्चा जब कभी ज़िद अथवा ग़लत व्यवहार करता है तो माँ उसे पहले प्यार से समझाती है फिर नाराज़ होती है और फिर भी नहीं समझता तो तमाचा भी लगा देती है | इसके पीछ उसकी कोई दुर्भावना नहीं होती ,वह बस उसे बेहतर बनते हुए देखना चाहती है |

पहले धरती को दिल से माँ स्वीकार किया जाता था | हमने अपने माता-पिता को देखा है वे सूर्योदय से पहले बिस्तर से उठकर धरती पर पाँव रखने से पहले उसे प्रणाम करते थे | तब कहीं धरती पर पैर रखते थे |

पेट तो हमारा सदा धरती ही भरती है ,हमारे कृषक उस पर अपने ख़ून पसीने से श्रम करते हैं तब जाकर हमें कहीं भोजन के लिए दाने मिलते हैं | उसके लिए हवा,पानी पर आधारित होना रहता है |

कहीं भी देख लें प्रकृति के बिना हमारा अस्तित्व है क्या?

पांच तत्वों का शरीर अंत में उन्हीं तत्वों में समा जाता है |
जैसे-जैसे हम अपनी सभ्यता ,संस्कार भूलते गए ,प्रकृति भी हमसे नाखुश होती गई | यहाँ सवाल केवल धरती को प्रणाम करने ,उसको चूमने का नहीं है ,यहाँ सवाल है मन में उसका सम्मान करने का ! और वह सम्मान तभी हो सकता है जब हम उस भाव को ,उस संवेदना को महसूस करें |
यूं जीवन की आपाधापी ऐसे प्रश्नों को उठाकर ताक पर सजा देती है किन्तु जब ऐसा समय आता है तब क्या मन में अपनी गलतियों,भूलों के लिए पछतावा होना ज़रूरी नहीं ?

बिलकुल है साहब ,अन्यथा हमारी मनमानियों का प्रकृति क्या परिणाम देती है ,हम सब देख ही रहे हैं,भुगत रहे हैं |
हम सबको ही संभलना होगा ,समझना होगा ,सचेतन होना होगा | जो हो गया है ,उससे पाठ पढ़ना होगा अन्यथा हम अपनी आँखों से परिणाम देख ही रहे हैं |

किसी भी घटना का कोई कारण होता है,हम सब जानते हैं जो भी हो रहा है उसके पीछे गंभीर कारण हैं किन्तु यह भी उतना ही सच है कि कहीं न कहीं इसमें हम भी दोषी हैं |
तो सोचें,समझें प्रयास करें कि हम किसी भी गलत घटना का कारण न बनें |

स्वस्थ रहें ,रहें सुरक्षित
संवेदन को कर लें मुखरित
चार दिनों के जीवन को मिल
संवेदन से हम सब जी लें —

आपकी मित्र
डॉ प्रणव भारती

Art-n-Culture

Manisha Rawat who is essaying the role of Maa Saraswati in the show Jag Jaanani Maa Vaishno Devi – Kahani Mata Rani Ki’ decided to explore her painting skills during this lockdown. Turns out this immensely talented actor is an amazing artist too. She believes in trying times like this adding colour to your life might just brighten up your day.

When spoken to the multi-talented actor about her painting skills she said, “Painting has been my hobby ever since I was a kid. But now, due to hectic shoot schedules I don’t really get the time to paint regularly. I used to paint only during special occasions to present a gift to my close and loved ones in order to make them feel special with a gift that has a personal touch to it. Although on a brighter side, this lockdown has helped relive my childhood days and I have revisited my love for painting.”

Manisha further added, “Painting makes me feel calm and brings in a lot of positivity in me. It helps me be in a different world. I would suggest everyone to do something that they always wanted to do and couldn’t because of time constraints. This is a real good opportunity to explore your rusty childhood skills and hobbies and work on it; not only will that you remain positive during this phase, it will also make you happy.”

Covid- 19 has brought out the talents of many artists and hopefully Manisha Rawat gives more surprises to us and explores her inner talent and shares it with her fans

Art-n-Culture

नई दिल्ली: हिंदी साहित्य प्रकाशन जगत के दिग्गज नाम वाणी प्रकाशन ग्रुप 57 वर्षों से विभिन्न विधाओं में बेहतरीन हिन्दी साहित्य का प्रकाशन कर रहा है। समकालीन हिंदी साहित्य के चर्चित साहित्यकार निर्मल वर्मा, उदय प्रकाश, उषाकिरण खान, अरुण कमल, यतीन्द्र मिश्रा, अनामिका, प्रभा खेतान आदि लेखकों के रचनाओं के बाद वाणी प्रकाशन साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित जानी मानी कथाकार अलका सरावगी का नया उपन्यास ‘कुलभूषण का नाम दर्ज कीजिये’ जल्द ही प्रकाशित करने जा रहा है। लेखिका अलका सरावगी हिंदी के गणमान्य उपन्यासकारों में मानी जाती हैं। उन्हें अपने पहले ही उपन्यास ‘कलिकथा वाया बाई पास’ के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

‘कुलभूषण का नाम दर्ज कीजिये’ उपन्यास स्वंतंत्रता से पहले बांग्लादेश से रातों रात भारत आये हुए प्रवासी परिवार के एक अनोखे शख्स कुलभूषण जैन की कहानी है, इस उपन्यास में प्रेम प्रसंग, विवाहेतर संबधों से लेके पारिवारिक कलेश की कहानी हैं। यह साधारण पात्र की आसाधारण कहानी है जो बांग्लादेश से कलकत्ता में आके कैसे बंगाली माहौल में अपने आप को ढालता है उसको बखूबी दर्शाता है।

इतिहास, भूगोल, साहित्य, मनोविज्ञान, संस्कृति, प्रेम, द्वेष, साम्प्रदायिकता, परिवार, समाज- किस्सागोई की लचक, कथानक की मज़बूती से रेखांकित यह कहानी हमें कुछ अटपटे किरदारों से परिचित कराएगी। अपने भीतर बसे झूठे, प्रेमी, रंजिश पालने वाले, चिकल्लस बखानने वाले अलग-अलग किरदार हमें कुलभूषण की दुनिया में यूँ ही चलते फिरते मिलेंगे। तैयार रहिएगा, यदि इनमें से किसी की बातों में आ गये, तो फँसे! और बात नहीं मानी, तो कुलभूषण के जीवन-झाले में कभी घुस ही नहीं पाएंगे।

लेखिका अलका सरावगी ने अपने उपन्यास पर अपने विचार रखते हुए कहा “डेढ़ चप्पल पहनकर घूमता यह काला दुबला लम्बा शख़्स कौन है? हर बात पर इतना ख़ुश कैसे दिखता है ? कुलभूषण को कुरेदा, तो जैसे इतिहास का विस्फोट हुआ और कथा-गल्प-आख्यान-आपबीती-जगबीती के तार ही तार निकलते गए। रिफ़्यूजी तो आज की दुनिया में भी बनते चले जा रहे हैं।कुलभूषण तो पिछली आधी सदी का उजाड़ा हुआ है।देश, घर, नाम-जाति-गोत्र तक छूट गया उसका, फिर भी कहता है, माँ-बाप का दिया कूलभूषण जैन नाम दर्ज कीजिए”।

वाणी प्रकाशन ग्रुप के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक अरुण माहेश्वरी ने कहा “स्वतंत्रता प्राप्ति के साथ ही हिंदी प्रकाशन के क्षेत्र में जिस स्वातंत्र्योतर चेतना के साथ भारतीय मनीषा के ढेरों आधुनिक विचारों ने लिखना शुरु किया,उनकी रचनात्मक यात्रा का गवाह वाणी प्रकाशन बनता रहा। आजादी के साथ खुले में सांस लेने की जो स्वायत्तता भारत के हर नागरिक में आती गयी, उसी के न्वोमेष ने हमें ढेरों स्वनामधन्य रचनाकार दिए। जिसमें निर्मल वर्मा जैसे शब्द –शिल्पियों ने भारत का आधुनिक और तर्कपूर्ण विवेकशील व सृजनात्मक मानस रचा। वाणी प्रकाशन सोभाग्यशाली है कि इस विकास यात्रा में इन साहित्य साधकों के साथ शब्दों की अर्थपूर्ण मशाल लिए हुए अपनी यात्रा के सुनहरे वर्ष पूर्ण कर रहा है” ।

अलका सरावगी के नए उपन्यास ‘कुलभूषण का नाम दर्ज कीजिये’ की जानकारी देते हुए वाणी प्रकाशन की निदेशक अदिति माहेश्वरी ने कहा “कुलभूषण का नाम दर्ज कीजिये” अलका सरावगी का नया उपन्यास है, और उसकी पहली पाठक और संपादक यानी मैं, कुछ दिनों और रातों से कुलभूषण की दुनिया में बंद हूँ। इस किरदार के आसपास के संसार में कोई दरवाज़ा ताला-निगार नहीं है, लेकिन फिर भी कई तिजोरियों के रहस्य दफ़न हैं इसके पास। कुलभूषण की बातों का सच उतना ही खामोश और पक्का है, जितनी हाथों में लकीरें या आसमान में बादल। एक लाइन ऑफ कंट्रोल, दो देश, तीन भाषाएं, चार से अधिक दशक…कुलभूषण ने सब देखा, जिया, समझा है”।

“मास्टर स्टोरीटेलर” अलका सरावगी का नया उपन्यास मुझे रह-रह कर महसूस करा रहा है कि गेब्रियल गार्सिया मार्केज़ के संपादक क्रिस्टोबल पेरा का पांडुलिपि के पहले ड्राफ़्ट को पढ़ना कितने गर्व, संयम, गंभीरता और उल्लास का विषय रहता होगा।

लेखिका के बारे में

लेखिका अलका सरावगी का जन्म 17 नवम्बर,1960, कोलकाता में हुआ,वे साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित हो चुकी हैं। उन्होंने हिन्दी साहित्य में एम॰ए॰ और ‘रघुवीर सहाय के कृतित्व’ विषय पर पीएच.डी की उपाधि प्राप्त की है। “कलिकथा वाया बाइपास” उनका चर्चित उपन्यास है, जो अनेक भाषाओं में अनुदित हो चुके हैं। लेखिका ने अपने पहले उपन्यास का अंग्रेजी अनुवाद किया था.

अपने प्रथम उपन्यास ‘कलिकथा वाया बायपास’ से एक सशक्त उपन्यासकार के रूप में स्थापित हो चुकी अलका का पहला कहानी संग्रह वर्ष 1996 में ‘कहानियों की तलाश में’ आया। इसके दो साल बाद ही उनका पहला उपन्यास ‘काली कथा, वाया बायपास’ शीर्षक से प्रकाशित हुआ। ‘काली कथा, वाया बायपास’ में नायक किशोर बाबू और उनके परिवार की चार पीढिय़ों की सुदूर रेगिस्तानी प्रदेश राजस्थान से पूर्वी प्रदेश बंगाल की ओर पलायन, उससे जुड़ी उम्मीद एवं पीड़ा की कहानी बयाँ की गई है। वर्ष 2000 में उनके दूसरे कहानी संग्रह ‘दूसरी कहानी’ के बाद उनके कई उपन्यास प्रकाशित हुए। पहले ‘शेष कादंबरी’ फिर ‘कोई बात नहीं’ और उसके बाद ‘एक ब्रेक के बाद’। उन्होने ‘एक ब्रेक के बाद’ उपन्यास के विषय का ताना-बाना समसामायिक कोर्पोरेट जगत को कथावस्तु का आधार लेते हुए बुना है। अपने पहले उपन्यास के लिए ही उनको वर्ष 2001 में ‘साहित्य कला अकादमी पुरस्कार’ और ‘श्रीकांत वर्मा पुरस्कार’ से नवाजा गया था। यही नहीं, उनके उपन्यासों को देश की सभी आधिकारिक भाषाओं में अनूदित करने की अनुशंसा भी की गई है।

Art-n-Culture

घर बहुत  पुराना था 
ये —लंबा -चौड़ा —–
बहुत से कमरों वाला 
कमरों के नाम भी थे 
बड़े सुन्दर ,बड़े प्यारे 
प्रेम,स्नेह,लाड़ ,दुलार 
मुस्कान ,खिलखिलाहट 
मेजबानी ,कुर्बानी 
हाँ,इनसे दूरी पर कुछ और भी कमरे थे 
जिनमें शायद ही कोई झाँकता था 
उनके भी नाम थे —
लिप्सा,माया तृष्णा ,घृणा,ईर्ष्या 
उनमें जाने पर झुलस जाने का भय 
पालती मारे बैठा रहता —सो 
ताले लगा दिए गए थे उनमें —किन्तु 
चुराने के लिए घुस ही तो आए कुछ लोग 
देखकर मोटे ताले 
बीज उगा लालच का —
तोड़ लिया गया  मोटे तालों को  
अब कमरों की क़तार में 
न जाने कैसे —
दूर वाले कमरे उड़कर 
चिपक गए आगे 
पुराने मकान के आँगन में 
घर का थरथराता  बूढा मालिक
सोच में था 
क्या कमरों के भी पँख होते हैं ?
कमरों में पसरती दुर्गंध से 
आकुल-व्याकुल हो 
उसने छोड़ दिया 
अपना वो –पुराना घर 
अगले दिन सुबह 
सड़क पर  लैंप-पोस्ट के नीचे 
उसकी झिंगली खाट पड़ी थी  —||

                प्रणव भारती