July 20, 2019
Home Archive by category Corporate

Corporate

New Delhi, July 19 – Delhi Police has made a substantial seizure of counterfeit insecticides and has unearthed a sinister operation that was harmful not only to the health of the people, but also for legitimate businesses.

The North District Sabzi Mandi police team led by Sub Inspector Shri Bhagwan raided 3 shops and 3 godowns earlier this week and seized counterfeit insecticides worth lakhs of rupees under section 63CR Act103.104 Trademark act. The 3 shops seized were Hari Om Seeds and Insecticides, Gururji Seeds and Insecticides and Shivam Agro Agriculture Merchant.

The raids and seizures were made on the initiative of Netrika Consulting – country’s premier fraud investigation and anti-counterfeit operations agency, for its client FMC, which mandated it to make sure that people did not have to fall prey to counterfeit insecticides because of some unscrupulous people wanting to make quick money.

Commenting on the seizures, a spokesperson for Netrika Consulting said, “We are very happy that the police took quick and timely action and made sure that the culprits were brought to task and counterfeit products seized. We will continue to do this for our clients and also do our bit for the society.”

प्रतिभा विकास में सामने आ रही व्यावसायिक जरूरतों और निवेश को ध्यान में रखते हुए यह परिवर्तन किए जा रहे हैं

नई दिल्‍ली, 16 जुलाई 2019 : कोका कोला इंडिया और साउथ वेस्ट एशिया, एक प्रमुख बेवरेज कंपनी जोकि ग्राहकों के लिए विभिन्‍न प्रकार के पेय विकल्‍पों की पेशकश करती है, ने आज अपनी नेतृत्‍व टीम में बदलावों की घोषणा की है. इस नई संरचना को इसलिए तैयार किया गया है ताकि भारत और दक्षिण पश्चिम एशिया के व्‍यावसाय को कोका-कोला कंपनी के लिए विकास का केन्‍द्र बनाया जा सके. इसके लिए उभरते अवसरों का लाभ उठाया जाएगा और साथ ही प्रतिभा विकास पर भी जोर दिया जाएगा.

इस बदलाव की घोषणा करते हुए, टी. कृष्णकुमार, प्रेसिडेंट, कोका-कोला इंडिया और साउथ वेस्ट एशिया ने कहा, ‘‘हमारा मानना है कि हमारे सामने अपना पोर्टफोलियो बढ़ाने और बाजार में सार्थक ढंग से पहुंच बनाने के लिए कई उल्‍लेखनीय अवसर मौजूद हैं. हम भविष्‍य में सुदृढ़ स्‍थायी वृद्धि करने एवं नई उभरती कारोबारी जरूरतों से निपटने के लिए नेतृत्‍व टीम को मजबूत करने के लिए प्रयासरत रहते हैं. यह प्रतिभा विकास में निवेश के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को भी मजबूत करता है.” 

इस बदलाव की अगुवाई करते हुए, सर्विता सेठी ने वाइस प्रेसिडेंट-एमएंडए और न्यू वेंचर्स का पदभार संभाला है, वे पहले फाइनेंस – भारत एवं साउथ वेस्ट एशिया की वाइस प्रेसिडेंट थीं. अपनी इस नई जिम्मेदारी में,  सर्विता न्यू वेंचर्स में वैकल्पिक राजस्व स्‍ट्रीम्‍स के माध्यम से बिजनेस इनक्यूबेशन को नेतृत्व प्रदान करेंगी. वह भारत और दक्षिण पश्चिम एशिया में हमारे व्यवसाय के लिए विलय एवं अधिग्रहण प्राथमिकताओं का नेतृत्व करना जारी रखेंगी. सर्विता ने अपने कॅरियर के दौरान मल्टी-फंक्शनल एक्सपीरियंस हासिल किया है, जिसमें स्ट्रैटेजी, मार्केटिंग, एचआर और प्रोक्योरमेंट के अलावा फाइनेंस शामिल हैं. उन्‍हें रिटेल, मार्केटिंग और फूड सर्विस सेक्टर्स सहित कई उद्योगों में भी काम करने का अनुभव है. इसके अलावा, उन्हें अंतर्राष्ट्रीय अनुभव भी हैं, उन्होंने भारत और दक्षिण पश्चिम एशिया में अपनी नियुक्ति से पूर्व,  उत्तर पश्चिमी यूरोप और मध्य तथा दक्षिण यूरोप के लिए भी काम किया हैं. वे एक योग्‍य चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं और सिटी यूनिवर्सिटी, यूके से उन्होंने इकोनोमिक्स और अकाउंटेंसी में बीएससी (ज्‍वाइंट ऑनर्स) की डिग्री ली है. यह नई नियुक्ति उन्हें पूर्ण विकसित व्यवसाय चलाने में सक्षम बनाएगी. इस तरह उन्‍हें सामान्‍य प्रबंधन एवं परिचालनगत एक्‍सपोजर प्राप्‍त कर अपने मल्‍टी-फंक्‍शनल अनुभवों में और वृद्धि करने का मौका मिलेगा.

हर्ष भूटानी को वाइस प्रेसिडेंट- फाइनेंस, (सीएफओ), कोका-कोला इंडिया और दक्षिण पश्चिम एशिया बनाया गया हैं. उनकी नियुक्ति 1 अगस्‍त से प्रभावी होगी. हर्ष वर्तमान में तीन सालों से बतौर कार्यकारी निदेशक एवं मुख्‍य वित्‍तीय अधिकारी हिंदुस्तान कोका-कोला बेवरेजेज प्राइवेट लिमिटेड के लिए फाइनेंस और बिजनेस सर्विसेज वर्टिकल के प्रमुख हैं, वे वहां तीन साल से कार्यकारी निदेशक और मुख्य वित्तीय अधिकारी के पद पर हैं. दो दशकों से अधिक समय से वह हिंदुस्तान कोका-कोला बेवरेजेज प्राइवेट लिमिटेड में फाइनेंस फंक्‍शन का एक अभिन्न अंग रहे हैं. वे 1999 में एबीबी लिमिटेड से एचसीसीबी में शामिल हुए थे. वह एक अनुभवी पेशेवर हैं जिन्हें एचसीसीबी के जोनल और कॉर्पोरेट फाइनेंस टीमों में काम करने का अवसर मिला है. एक सिस्टम रिसोर्स के रूप में, वह व्यापार रणनीति, योजना और निष्पादन, ट्रेजरी, कर और जोखिम प्रबंधन आदि सहित फाइनेंस के लगभग सभी डोमेन में बहुमुखी अनुभव रखते हैं. हर्ष ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से कॉमर्स में ग्रैजुएशन किया है और वे एक योग्‍य चार्टर्ड अकाउंटेंट भी हैं.

कोका-कोला इंडिया और साउथ वेस्‍ट एशिया के विषय में

कोका-कोला इंडिया और साउथ वेस्‍ट एशिया क्षेत्र की अग्रणी पेय कंपनियों में से एक है। इसका मुख्‍यालय गुड़गांवमें है और बिजनेस यूनिट बांग्‍लादेश, श्रीलंका, मालदीव्‍स, नेपाल और भूटान में व्‍यावसायों का प्रबंधन करती है। यह उपभोक्ताओं के लिये स्वास्थ्यवर्द्धक, सुरक्षित, उच्च गुणवत्ता के, तरोताजा करने वाले पेय विकल्पों की पेशकश करती है। वर्ष 1993 में अपने पुनःप्रवेश के बाद से, कंपनी पेय उत्पादों से उपभोक्ताओं को तरोताजा कर रही है, जैसे कोका-कोला, कोका-कोला ज़ीरो, डाइट कोक, थम्स अप, थम्स अप चार्ज्ड, थम्स अप चार्ज्ड नो शुगर, फैन्टा, लिम्का, स्प्राइट, माज़ा, वियो “फ्लेवर्ड मिल्क”, मिनट मेड रेन्ज ऑफ ज्यूसेस, मिनट मेड स्मूथी और मिनट मेड विटिंगो, हॉट और कोल्ड चाय और कॉफी विकल्‍पों की जॉर्जिया श्रृंखला, एक्वैरियस और एक्वैरियस ग्लूकोचार्ज, श्वीप्‍स, स्मार्ट वाटर, किनले और बोनएक्वा पैकेज्ड ड्रिंकिंग वाटर और किनले क्लब सोडा। कंपनी अपने खुद के बॉटलिंग परिचालन और अन्य बॉटलिंग पार्टनर्स के साथ, करीब 2.6 मिलियन रिटेल दुकानों के मजबूत नेटवर्क के माध्यम से करोड़ों उपभोक्ताओं के जीवन का हिस्सा बन चुकी है, जिसकी प्रति सेकंड 500 सर्विंग्स की दर है। इसके ब्राण्ड देश में सबसे चहेते और सबसे अधिक बिकने वाले पेयों में शुमार हैं- थम्स अप और स्प्राइट, सबसे अधिक बिकने वाले दो स्पार्कलिंग पेय हैं। 

कोका-कोला इंडिया का सिस्टम 25,000 लोगों को प्रत्यक्ष और 150,000 से अधिक लोगों को अप्रत्यक्ष रोजगार देता है। भारत में कोका-कोला सिस्टम सामुदायिक पहलों के माध्यम से स्थायी समुदाय निर्मित करने में छोटा-सा योगदान दे रहा है, जैसे माई स्‍कूल, वीर, परिवर्तन, और उन्नति और कंपनी पर्यावरण पर अपने द्वारा होने वाले प्रभाव को स्वयं कम करती है। भारत में कंपनी के परिचालन और उत्पादों के सम्बंध में अधिक जानकारी के लिये कृपया www.coca-colaindia.com और www.hindustancoca-cola.com देखें। हमें ट्विटर पर twitter.com/CocaCola_Ind पर और फेसबुक पर फॉलो करें।

Mumbai : People watching the stock market index on a display screen on the facade of the Bombay Stock Exchange (BSE) building at Dalal Street in Mumbai on Friday, Union Finance Minster Nirmala Sitharaman rose to present her maiden Budget. Photo Girish Srivastav/05.07.2019

“to boost capacity to meet rising international demand”.

New Delhi, 15 May, 2019: GRM Overseas Limited, India’s third largest basmati rice exporter to the world and second largest to the Middle East, has announced the acquisition of a manufacturing facility at Gandhidham, Kutch, Gujarat. This acquisition is in line with GRM’s strategic plan to expand capacity and develop a warehouse closer to the Mundra port to augment exports.  

The deal is valued at Rs 12 crores and has been funded through a combination of bank borrowings and internal accruals. The acquired facility includes land, building and two sortex plants and has a production capacity of 800 MT per day.  The company has also purchased a large plot of land adjoining to the plant to develop a warehouse.

Commenting on the development, Mr. Atul Garg, Managing Director, GRM Overseas, said, “We are pleased to announce the acquisition of a manufacturing facility from United Foods, which will increase our production and processing capacity substantially by 800 MT per day. This is an important milestone as we have been pursuing expansion of our business in various geographies such as Europe, US and the Middle East. In addition, for better inventory management an industrial plot of land adjoining to the factory has been acquired which will be used for building of warehousing facilities besides additional production and processing capacity.”

“These initiatives are in line with our long-term strategic plan to increase the production capacity to meet the growing demand and at the same time ensuring that our products continue to meet the high level of quality that is synonymous with the GRM brand.  Further, the additional warehousing capacity near the Mundra port will lower lead times for our export order deliveries, thus improving efficiency and productivity in our business cycle,” Garg added.

Prior to the Mundra plant deal, GRM has been operating from its two state of the art manufacturing facilities in Panipat, Haryana.

GRM is already a trusted supplier internationally with vast distribution networks and these new plants will dedicatedly serve the export markets whereas the Panipat plant will focus on serving the domestic market as well as the export markets.

About GRM Overseas:

GRM Overseas Ltd (GRM) is third largest basmati rice exporter to the world and second largest to the Middle East, as per latest APEDA data.  The Company is primarily focused on traditional varieties of basmati rice and is also currently the global leader in Indian specialty rice. GRM sells basmati rice, premium long-grain rice grown only in certain regions of the India sub-continent, under their flagship brands‘Tanoush’, ‘Himalaya River’ as well as under third party brands.

The Company was founded in 1974 and has a 45 year old legacy of quality and trust in the rice business. Exports are made to over 32 countries, including USA, UK and other European countries and is one of the largest Indian rice exporters to the Gulf region.

GRM is headquartered in India, with regional / subsidiary offices in the US and UK. The Company aims to deliver the best quality products to customers with stringent and proactive quality control procedures in place which is in accordance with international requirements. 

Going forward, GRM is focused on diversification of the product portfolio into high-quality value-added offerings such as branded basmati, specialty rice varieties and organic rice products for the international markets. 

For additional information please contact:

Kushal Khosla – 9891865029

Ajay Khudania – 9810269676

Alok Kumar Singh- 8879339945

गुरुग्राम 8 मई 2019 : स्विस आधारित कंपनी “दी बॉसर्ड ग्रुप” असेम्बली टेकनोलॉजी और इंडस्ट्रियल फास्टनर में प्रॉडक्ट समाधान और सेवाओं का एक प्रमुख अंतरराष्ट्रीय सप्लायर है। यह 77 स्थानों पर 2500 कर्मचारियों के साथ एक ग्लोबल नेटवर्क कंपनी हैऔर अब गुड़गांव में इसके उद्घाटन के साथ यह दिल्ली.एनसीआर के लोगों की सेवा करने के लिए पूरी तरह से तैयार है।
भारत में उन्होंने एलपीएस के साथ हांथ मिला लिया है और एलपीएस बॉसर्ड इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के नाम से व्यापार कर रहे हैं। आज उन्होंने गुड़गांव में असेम्बली टेकनोलॉजी एक्सपर्ट का उद्घाटन किया।
असेंबली टेकनोलॉजी एक्सपर्ट की भूमिका उस समय से शुरू होती है जब कोई भी कंपनी एक नया प्रॉडक्ट बनाना शुरू करती है। हमारी असेंबली टेकनोलॉजी एक्सपर्ट सेवाएं सभी संभावित चुनौतियों के लिए सबसे बेहतर समाधान प्रदान करती हैं। यह थ्री.स्टेज तरीके के  उपयोग से उत्पादन समय को कम करता है और लागत को भी कम करने में मदद करता है। 
असेंबली टेकनोलॉजी एक्सपर्ट सेवाएं कंपनियों को उत्पादन के लिए सही समाधान खोजने में मदद करेंगीए जिससे कंपनी बाजार की चुनौतियों और कॉम्पटीशन का सही तरीके से हल निकाल सके। एलपीएस बॉसार्ड अपनी नई असेंबली टेकनोलॉजी एक्सपर्ट सर्विसेज के माध्यम से जरूरी समाधान सप्लाई करता है।
एलपीएस बॉसार्ड के प्रबंध निदेशक राजेश जैन ने कहा कि हमारी  असेंबली टेकनोलॉजी एक्सपर्ट सेवाओं को असेंबली प्रॉसीजर के लिए लागत को कम करने और टेकनोलॉजी की गति को तेज करने में 185 वर्षों का अनुभव है। संबंधित क्षेत्रों में कठिनाइयों को कम करके हम कंपनियों को चुनौती के लिए तैयार करते हैं जिससे कंपनी और ठोस बनती है।
इस इवेंट में एलपीएस बॉसार्ड के फास्टनिंग प्रॉडक्ट्स की एक बड़ी रेंज उप्लब्ध थी जैसे कि स्क्रूए नेट बोल्ट लकड़ी के लिए स्क्रू पिन्स आदि। इस कार्यक्रम में प्रमुख हाइलाइट्स में उन सेवाओं का प्रदर्शन शामिल था जो लोगों के लिए एलपीएस बॉसार्ड प्रदान करता है जो उत्पादन और असेंबली प्रक्रियाओं में मदद करते हैं।

New Delhi, 26th April 2019: United IPR, country’s leading full-service Intellectual Property firm known for its IPR prosecution, litigation, entrepreneurial and operational skills today organised a conference on ‘Best Practices in IPR’ in association with PHD Chamber of Commerce and Industry at PHD House, New Delhi on World IP Day. The conference was graced by Mr NR Meena, Dy. Controller of Patents and Design, Office of Controller General of Patents, Designs and Trade Marks and Mr. DC Sahu, Deputy Director, MSME-DI. 

The Conference discussed the scenario of the present day level of IP awareness in the country how we have come a far away in the field of product patents and designs.

Delivering the welcome inaugural address, Sanjay Aggarwal, Vice President, PHD Chamber said, “Earlier there was not much awareness on the subject of IP and issues related to it but now it has grown up tremendously. An innovator his innovation means a lot and if of great value to him and he has the concern that it can be copied and needs to be protected. Growth of the Indian economy too has helped raise awareness levels on IP in the country. I am sure innovators, manufacturers, students and others have benefitted greatly from the extensive exchange of views and ideas.”

Speaking about initiatives taken in regards to IPR Mr. NR Meena, Dy. Controller of Patents and Design, Office of Controller General of Patents, Designs and Trade Marks, said, “This year we will organize 65 events with various industry bodies across the country to raise awareness on IP. India is now at 6th position in the field of IPR in the world and this has been possible because of the efforts of the Government of India in harmonizing and bringing transparency in the system and processes. Today we have paperless offices and applications can be filed online.”

Delivering the keynote address Mr. DC Sahu, Joint Development Commissioner, Office of DC MSME, said, “I am happy to we have lot of schemes and grants that the MSMEs can benefit from. We also doing lot of IPR campaigns, awareness and sensitization programmes. We are here to help and anyone can approach us for any help on MSME issues.”

Talking about the IP Industry in India, Mr Shravan Kumar Bansal, Senior Partner, United IPR added, “IP laws in India are far better than other countries except that we don’t have our data compiled. There has been extensive growth in the IPR regime in the last two decades including digitization and today our IP laws are very advanced.

The conference organised to foster innovation in the field of IP also featured a session on the ‘Role of IP in Legal Education and Development of MSMEs and Start-ups’.  The session was chaired by Dr HP Kumar, Advisor PHD Chamber and Former CMD, NSIC. The panelists included Mr. Anand Prakash Mishra, Director of Law Admissions, OP Jindal Global University; Dr. Raman Mittal, Faculty of Law, Delhi University; Prof. (Dr) Mohd Salim, Director of Lloyd College, Noida; Prof (Dr) CJ Rawandewale, Director, Symbiosis Law School, Noida; Mr. Sandeep Agarwal, Director, Adsastra IP and Mr Gaurav Gogia, Senior Associate, United IPR.

The conference also saw participation from legal fraternity and industry from Delhi NCR region. This included senior lawyers, law faculty members, students and senior officials from law enforcement agencies.

About United IPR:

United IPR is a dedicated full-service Intellectual Property Firm principally based in Delhi (India), globally known for its IPR prosecution, litigation and entrepreneurial and operational skills. Formed with an avowed object of rendering efficient, effective and comprehensive legal advice and consultancy to their esteemed international and national clients in the field of IPR, it aims to create, protect, prosecute, manage, enforce, enhance, extend and evaluate IPRs to keep in tune with changing times and realities in the field of law. It provides quality and world class legal services to both international and domestic clients.

Rendering services for more than 60 years, United IPR has specialized in Trademark, Copyright and Design, Geographical Indication and Patent litigation, filing, prosecution, registration of IPRs including renewals, licensing and enforcement. In addition, it provides services for other IPRs viz., Domain Names, Unfair-Trade Practices, Trade Secrets, Parallel Imports and Anti-Counterfeiting. United IPR comprises of dedicated team of experienced IPR lawyers, Patent Agents, Patent, Copyright and Design Consultants, who have excelled in their fields of practice and have at their command, the state of art technology, office facilities and an extensive library.

For further information, please visit https://www.unitedipr.com/