April 3, 2020
Home Archive by category Health (Page 2)

Health

Health

“Global Washer Disinfectors Market Analysis Trends, Applications, Analysis, Growth, and Forecast to 2028” is a recent report generated by MarketResearch.biz. The global washer disinfectors market report has been segmented on the basis of product type, end user, and region. Washer disinfectors are medical devices used for cleaning purposes.

These devices primarily disinfect, clean, decontaminate, and dry anesthesia equipment, surgical medical instruments, hollowware and many other medical devices.

Increasing investments and funding for hygienic, advance medical equipment, and to improve the quality of healthcare by healthcare facilities across the globe is a key factor to drive market growth globally in the coming years.

Increasing adoption of washer disinfectors by hospitals and clinics owing to their ability to eliminate or decontaminate or disinfect various types of medical devices is also a factor to support growth of the global washer disinfector market in the near future.

Increasing enhancements in washer disinfectors by various manufacturers to evolve with emerging technologies and give stiff competition for new entrant are revenue growth opportunities for players operating in the global market. In addition, washer disinfectors that have easy human-machine interface (HMI) are gaining high traction owing to its ability to process intelligently and give detailed report on equipment’s cleanliness.

However, high cost associated with washer disinfectors is a key factor that could restraint growth of the global market to a certain extent.
Cabinet (single chamber) machines segment, among the product type segments is expected to dominate in terms of revenue share in the global market over the forecast period. This is primarily attribute to availability of diverse capacity size and compartment in these washer disinfectors.

Moreover, these systems are size efficient and can be easily accommodated in small spaces thus the adoption of cabinet (single chamber) machines are highest among the clinical facilities which in turn is supporting growth of this segment in the global market.

Hospitals are primary customers to install built-in washer disinfector with separate department for disinfecting medical equipment’s. In addition, government regulations towards infections and hygiene regulations implies ambulatory surgical centers to install washer disinfectors as a necessity thus, increasing adoption of washer disinfector at its peak.

Increasing development in healthcare facilities to offer optimum cleanliness and safe environment for patients by healthcare embodies in the Asia Pacific countries is a key factor to support growth of the washer disinfector market in this region.

North America have well-developed healthcare infrastructure, thus advance medical devices proliferate in this region. This in turn is a major factor to boost adoption of washer disinfector in North America countries such as US and Canada.

Whereas, the market for washer disinfector in Europe is expected to register significant growth owing to favorable government initiatives to support hygiene and eliminate infection spreading. The market in the Middle East and Africa are gaining high traction towards adoption of washer disinfectors owing to rising prevalence of various diseases and its need to stop from infecting others.

Segmentation by Product Type:

Continuous Process MachinesCabinet (Single Chamber)

Machines Segmentation by End User:

Clinics Hospitals Laboratory UseAmbulatory Surgical Centers.
The worldwide Medical Device Washer Disinfector market report has been complied through primary as well as secondary research. The Medical Device Washer Disinfector market report delivers a complete qualitative and quantitative evaluation by examining data collected from vital manufacturers, Medical Device Washer Disinfector raw material suppliers, industry analysts, regional customers, industry value chain and much more.

Health

According to a Research when fathers consume a diet high in fat or low in protein it can increase the risk of metabolic disorders like diabetes in their offspring once they reach adulthood. Scientists have now learned more about the mechanisms underlying that phenomenon, which are thought to be connected to epigenetics. While our genome typically does not change much through life, chemical groups or epigenetic tags can be added to or removed from genes, impacting how genes are expressed. Further study has revealed that some epigenetic tags are heritable.

A research team led by Keisuke Yoshida and Shunsuke Ishii at the RIKEN Cluster for Pioneering Research in a molecular cell used a mouse model to identify a protein that is critical to the heritability of epigenetic tags. The molecule is called ATF7 and it is a transcription factor, which is a molecule that can impact how genes are expressed.

In this study, the researchers differentiate mice of both genders into two groups, one of which was fed a typical diet while the other got a diet low in protein. These groups were then mated. The scientists then looked at gene expression in adult male mice that were offspring of male mice fed either diet. Hundreds of genes that are active in the liver were found to be expressed differently in offspring derived from the two groups.

This work was repeated using male mice that were engineered to lack a copy of the ATF7 gene. This time, the offspring did not show the same changes in liver gene expression between the groups (that were offspring of males fed either a normal diet or low-protein diet).In the study it was found that the diet of a male mouse can impact the health of its offspring. The same effect was not seen in the offspring of females that were pregnant.

Then, , the researchers concluded that epigenetic changes in sperm are probably causing these changes, and that ATF7 is vital to the process.
These findings led the scientists to look for genes controlled by ATF7 in sperm cells, revealing genes that play a role in fat metabolism and the production of cholesterol. When expectant fathers were put on a low protein diet, the ATF7 transcription factor stopped working to turn those genes off as it would normally, and instead, the genes became active.

According to Ishi “The most surprising and exciting discovery was that the epigenetic change induced by paternal low protein diet is maintained in mature sperm during spermatogenesis and transmitted to the next generation,” This work can answered why poor diets in fathers can contribute to health problems like diabetes in their adult children. It may also help create a way to measure the risk posed to those children by assessing the epigenetic tags in sperm cells.

“We hope that people, especially those who have poor nutrition by choice, will pay more attention to their diet when planning for the next generation. Our results indicate that diets with more protein and less fat are healthier not just for everyone’s own body, but also for sperm and the health of potential children.”
Mahipal Singh Chauhan 

Health

ब्‍लैक कॉफी, हैंगओवर के इलाज के अलावा, वजन कम करने में भी मदद कर सकती है। लॉकडाउन के दौरान अपना वजन कम रखने के लिए आपको यही करना चाहिए। अगर आप वजन घटाने के मिशन पर हैं और घर पर बिना एक्‍सरसाइज के कैद हैं, तो दूध आपका एक दुश्मन है। दूसरी ओर, नींबू फ्री रेडिकल्‍स से लड़ने और फैट बर्न को बढ़ावा देने के लिए विटामिन सी और एंटीऑक्सिडेंट के साथ पैक होता है। इन दोनों को मिलाकर एक शक्तिशाली मिश्रण होता है, जिसे ब्‍लैक लेमन कॉफ़ी का रूप दिया गया है।

यह आपको वजन घटाने और पाचन स्वास्थ्य सहित कुछ आश्चर्यजनक स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है।कॉफी निश्चित रूप से चाय के बाद दुनिया में दूसरी सबसे अधिक लोकप्रिय पेय है। इसकी कैफीन सामग्री नशे की लत है, जिसके कारण कुछ लोगों के लिए कॉफी के बिना काम करना मुश्किल हो जाता है। क्‍योंकि यह केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करता है और मस्तिष्क की कोशिकाओं को सक्रिय करने में मदद करती है। इसके सेवन के बाद आप अधिक सतर्क और आराम महसूस करते हैं। दूसरी ओर, नींबू, खट्टे फलों में सबसे अधिक इस्‍तेमाल किया जाने वाला फल है। यह अपने औषधीय, एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इंफ्लामेटरी गुणों के लिए जाना जाता है। इन दोनों को मिलाना असामान्य है लेकिन यह वजन प्रबंधन के लिए बहुत अच्छा विकल्‍प है। 

Fat burn करने में मददगार 

यह माना जाता है कि नींबू में कम कैलोरी होती है, जो इसे वजन घटाने के लिए आदर्श बना सकती है और कॉफी फैट बर्न करने वाले तंत्र को उत्तेजित करती है। यही कारण है कि इन दोनों का कॉम्‍बीनेशन वजन घटाने में सहायक है। ब्‍लैक लेमन कॉफ़ी का सेवन फैट को मेटाबॉलाइज्‍ड करने और कम कैलोरी के साथ ऊर्जा का बढ़ाने में मदद कर सकता है। ब्‍लैक लेमन कॉफ़ी से आप अनचाहे फैट से छुटकारा पा सकते हैं।इसके अलावा, कैफीन मेटाबॉलिज्‍म को बढ़ाता है, जो अंततः आपके सहनशक्ति के स्तर को बनाए रखकर वजन कम करने में मदद करता है। इस प्रकार, आप अधिक कैलोरी बर्न कर पाएंगे। 

सिर दर्द से को कम करे 

जिन लोगों को हैंगओवर होता है, वह ब्‍लैक लेमन कॉफी के महत्व को जानते होंगे। माना जाता है कि यह सिर दर्द और भारीपन का इलाज है। हैंगओवर या सिरदर्द से निपटने के लिए यह सबसे अच्छा घरेलू उपाय है। इसके पीछे कारण यह है कि यह रक्त वाहिकाओं को संकुचित करने के लिए एक वैसोकॉन्स्ट्रिक्टर प्रभाव देता है, जो सिर में रक्त के प्रवाह को रोक देता है और सिरदर्द में सहायता करता है। हालाँकि, आपको इसे सिरदर्द की नियमित दवा के रूप में नहीं लेना चाहिए। कैफीन और साइट्रिक एसिड दोनों का ओवरडोज स्वास्थ्य के लिए खराब है।

Skin के लिए Benificial 

ब्लैक कॉफ़ी और नींबू से आपकी त्वचा चमकदार बन सकती है। क्‍योंकि नींबू में पाए जाने वाले एंटीऑक्सिडेंट फ्री रेडिकल्‍स से लड़ते हैं, जो त्वचा को नुकसान पहुंचाते हैं। जबकि, कॉफी में सीजीए सामग्री प्राकृतिक चमक लाने के लिए हाइड्रेशन और ब्‍लड फ्लो को बढ़ाती है। इससे पता चलता है कि ब्लैक लेमन कॉफी पीने से आप न केवल फिट और स्वस्थ रहेंगे बल्कि आपकी त्वचा भी जवां और चमकदार बनी रहेगी। अब हमेशा, मिल्‍क कॉफी नहीं, बल्कि ब्‍लैक लेमन कॉफी का 1 कप पिएं। 

Google IT Support Professional Certificate by Grow with Google (300x600) - 2
Health

कोरोना वायरस (Corona Virus) के बढ़ते कहर को लेकर ज्यादातर लोग अपने बच्चों और घर के बूढ़ों को लेकर चिंतित हैं। अगर दुनियाभर के आंकड़ों को देखें, तो वाकई ये वायरस हर उम्र और हर व्यक्ति के लिए चिंता की बात है। कोरोना वायरस (Corona Virus) ने दुनियाभर में तबाही मचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार 24 मार्च की सुबह तक ये वायरस 334,981 लोगों को अपना शिकार बना चुका है। इनमें से 14,652 लोगों की मौत हो चुकी है।

स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार के द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार भारत में कोरोना वायरस की चपेट में आने वालों की संख्या 492 तक पहुंच रही है, जबकि मरने वालों का आंकड़ा 9 हो चुका है। ऐसी स्थिति में डर से ज्यादा सावधानी की जरूरत है। दुनियाभर के एक्सरपर्ट्स मानते हैं कि अगर कोई व्यक्ति जरूरी सावधानी बरते, तो ये वायरस उस तक पहुंचकर भी उसका कुछ नहीं बिगाड़ सकता है।

बच्चों में कोरोना वायरस का असर कितना?

शुरुआती दिनों में जो डाटा चीन और दुनिया के दूसरे हिस्सों में मिले वो यही बताते थे कि कोरोना वायरस के कारण बूढ़े और पहले से गंभीर बीमारियों के शिकार व्यक्ति को ही सबसे ज्यादा खतरा होता है।

मगर बाद के दिनों में जैसे-जैसे इस वायरस ने चीन की सरहदें पार की और इटली, स्पेन, अमेरिका, ईरान और फ्रांस जैसे देशों में पहुंचा, तो इससे बड़ी संख्या में युवा और नई उम्र के लोग भी प्रभावित हुए। इनमें से बहुत सारे युवाओं को तो गंभीर लक्षणों के कारण सीरियस कंडीशन में अस्पताल में भी भर्ती करना पड़ा।

मगर अभी तक एक चीज जो वैज्ञानिकों ने नोट की है, वो ये है कि- कोरोना वायरस के कारण बच्चों में क्रिटिकल कंडीशन के मामले कम देखे गए हैं। 

कैसा होता है कोरोना वायरस का असर बच्चों पर

मॉलिक्यूलर वायरोलॉजी के प्रोफेसर जॉन बॉल बताते हैं, “मैं और मेरे तमाम साथियों को इस बात पर हैरानी हुई कि कोरोना वायरस बच्चों पर कम असर क्यों करता है। जबकि हमारे वैज्ञानिक ज्ञान के अनुसार कोरोना वायरस रेस्पिरेटरी सिस्टम (श्वसन तंत्र) का इंफेक्शन है, जो कि कुछ ऐसी बात नहीं है कि बच्चों में अलग और बड़ों में अलग पाया जाता हो।”

हाल में ही American Academy of Pediatrics के द्वारा प्रकाशित एक स्टडी के मुताबिक, चीन में 16 जनवरी से लेकर 8 फरवरी के बीच 2143 बच्चों में कोरोना वायरस कंफर्म या फिर संदिग्ध रूप से पाया गया। इन सभी बच्चों की रिपोर्ट चाइनीज सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन में दर्ज करवाई गई। इनमें से 90% बच्चों में या तो कोई भी लक्षण दिखाई नहीं दे रहे थे, या बेहद सामान्य लक्षण (जैसे- बुखार, थकान, शरीर में दर्द, खांसी, नाक बहना, छींक आना आदि) दिखाई दे रहे थे। लेकिन वैज्ञानिकों के लिए हैरानी की बात थी कि ये 90% बच्चे बिना किसी गंभीर खतरे के जल्द ही ठीक कर लिए गए।

 बच्चों के लिए कितना खतरनाक

ऊपर लिखी हुई बातें पढ़कर कुछ लोग कंफ्यूज होकर ये सोच सकते हैं कि कोरोना वायरस उनके बच्चों को असर नहीं करेगा। मगर हम आपको यहां यह स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि ऐसा किसी भी वैज्ञानिक ने या शोध ने नहीं कहा है कि कोरोना वायरस बच्चों पर नहीं असर करेगा। बल्कि प्रोफेसर जॉन बॉल और दूसरे वैज्ञानिक ये बात कह रहे हैं कि, “कोरोना वायरस के कारण बच्चों में गंभीर रूप से बीमार होने के मामले कम दिखे हैं।

इसका अर्थ यह है कि उन्हें सामान्य बुखार, जुकाम, खांसी जैसे तकलीफें हो सकती हैं, जबकि बूढ़ों और बड़ों में सांस लेने की तकलीफ बढ़ सकती है, जिससे कि उनकी जान को ज्यादा खतरा होता है।” ऐसी स्थिति में अगर बच्चे बीमार पड़ते हैं, तो भी उन्हें इलाज की जरूरत तो पड़ेगी ही। इसलिए बच्चों को कोरोना वायरस से बचाना बहुत जरूरी है।

बच्चे कोरोना वायरस के “साइलेंट कैरियर” हो सकते हैं

वैज्ञानिकों के अनुसार बच्चों पर कोरोना वायरस के लक्षण गंभीर नहीं दिखाई देते, यही कारण है कि बच्चे कोरोना वायरस का सबसे घातक और बड़ा हथियार हो सकते हैं। दरअसल गंभीर लक्षणों के न दिखने के कारण बच्चे कोरोना वायरस के “साइलेंट कैरियर” हो सकते हैं। अब तक ज्ञात कोरोना वायरस के 85% मामलों में सामान्य खांसी, जुकाम और बुखार की समस्याएं देखी गई हैं। ऐसे में चिकित्सकों के लिए भी ये पता लगाना मुश्किल हो सकता है कि कोई व्यक्ति कोरोना वायरस का शिकार है या सामान्य फ्लू और कोल्ड का।

बच्चों के मामले में यही लक्षण दिखने पर वे इसे दूसरों में बहुत तेजी से फैला सकते हैं क्योंकि आमतौर पर बच्चे घर और बाहर सबसे ज्यादा लोगों के संपर्क में, सबसे नजदीक से आते हैं। बच्चों के कारण कोरोना वायरस के कम्यूनिटी स्प्रेड का खतरा काफी बढ़ सकता है। इसलिए बच्चों को वायरस से बचाने के लिए घर के अंदर ही रखें।

Google IT Support Professional Certificate by Grow with Google (300x600) - 2
Health

Ayurveda Expert Mr. Acharya Manish wrote an open letter to Honorable PM Narendra Modi and offer to take his 150 BAMS Doctors help to fight against Corona in an Ayurvedic way.
– Requested for time to meet Modi Ji with a team of his 150 Doctors

On the one hand, the whole world is struggling with the corona epidemic, and on the other hand, there are some people who are looking for ways to deal with this virus. Guru Manish is one such person. With the chain of 100+ Clinics in India this person has been continuously trying to make people’s lives disease-free. And once again he has taken the responsibility to find out a cure for this virus. Now he is determined to eliminate the coronavirus as soon as possible. And it seems that he will be successful. Recently he wrote a letter to Prime Minister Narendra Modi Ji and made a tweet regarding this disease.

Mr. Acharya Manish

In the letter, he shared his thoughts about everything and told how a disease spread. In a letter written to the Prime Minister, he said that this disease can be prevented and in Ayurveda the cure of this disease is possible. If Ayurveda is given a chance, it is capable of curing this disease. With the help of Ayurveda, this disease can be prevented and at the same time, it can be cured. Millions of people have fallen prey to this virus and crores of people are locked in their homes today.

The Prime Minister recently ordered a complete lock-down in the country. This step was commendable that if people avoid meeting each other, then the virus can be stopped spreading. Guru Manish believes that we will have to find a cure for this disease. After all, how long people will sit in their homes. There is a fear in people’s minds that they do not know what will happen next. This is also true, but if you start thinking like this then nothing is possible. 

Health

देश में हर दिन बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण (coronavirus infection) के मामलों को देखते हुए इस पर रोक लगाने के लिए भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और इलेक्ट्रॉनिक व सूचना प्रोद्योगिकी मंत्रालय की ओर से मिलकर कोरोना वायरस (COVID-19) ट्रैकर ऐप ‘कोरोना कवच ऐप’ (corona kavach app) लॉन्च किया गया है. इस ऐप की मदद से कोरोना के पॉजिटिव मरीजों के बारे में आसानी से पता लगाया जा सकता है.

इस ऐप की खासियत यह है कि अगर आपके आसपास कोई भी कोरोना पॉजिटिव केस होगा, तो यह आपको अलर्ट कर देगा. इस ऐप को आप गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं. इस समय यह ऐप बीटा वर्जन में डाउनलोड किया जा सकता है.

क्या है कोरोना कवच एप?

यह एंड्रॉइड मोबाइल एप्लिकेशन है, जो पता लगाने के लिए काम करता है कि उपयोगकर्ता के आसपास कोई सीओवीआईडी -19 पॉजिटिव मरीज है या नहीं।

यह उनके पास संक्रमित रोगी की उपस्थिति का पता लगाने के लिए जीपीएस सेवाओं का उपयोग करता है। इसके अलावा, यह हर घंटे अलर्ट भेजेगा। अगर आप किसी ऐसे व्यक्ति के पास हैं जो इस महामारी के लिए सकारात्मक परीक्षण किया गया है, तो ये आपको अलर्ट करता रहेगा। इस एप पर संक्रमित रोगियों का भौगोलिक डेटा उपलब्ध होता है, जो सकारात्मक रोगियों को खोजने और स्वास्थ लोगों को सतर्क करने में मदद करता है।

यह ट्रैकिंग एप्लिकेशन स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के संयुक्त मदद से विकसित किया गया है। इसे एंड्रॉइड डिवाइस में Google Play Store से डाउनलोड किया जा सकता है। हालांकि, iPhone उपयोगकर्ता इस एप्लिकेशन का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे।

कैसे काम करता है कोरोना कवच एप

वहीं ये एप हर एक घंटे बाद यूजर्स की लोकेशन ट्रैक कर चेक करता है कि कहीं उसपर कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा तो नहीं। इसमें छह सवालों वाला एक फॉर्म ऑप्शंस में जाकर आपको भरना होगा। इसमें कोरोना के संभावित लक्षणों से जुड़े कुछ सवाल पूछे गए हैं, जैसे- आपको सांस लेने में दिक्कत तो नहीं, या फिर आप विदेश से तो नहीं लौटकर आए हैं।

लोकेशन और बाकी डीटेल्स के आधार पर ऐप पर सबसे ऊपर एक कलर दिखाई देगा। ग्रीन कलर का मतलब है कि सब ठीक है, ऑरेंज कलर का मतलब है कि आपको डॉक्टर के पास जाने की जरूरत है, यलो कलर क्वारंटीन होने का संकेत देता है, वहीं रेड कलर का मतलब है कि आप इन्फेक्टेड हैं। घर से बाहर जाते वक्त आप बीच में दिख रहे कवच आइकन पर टैप कर इसे ऐक्टिवेट कर सकते हैं, जो आपके मूवमेंट को एक घंटे ट्रैक करेगा।

ऐसे यूज कर सकते हैं ये ऐप

इस एप्लिकेशन को सार्वजनिक हित में जानकारी देने और कोरोनावायरस के प्रकोप को पकड़ने के लिए विकसित किया जा गया है। डेटा का उपयोग विश्लेषण करने और भारत में सक्रिय COVID 19 मामलों के बारे में जानकारी प्रदान करने के लिए किया गया है। जैसे ही आप ऐप डाउनलोड करते हैं, आपको अपने मोबाइल नंबर से साइन इन करने के लिए कहा जाएगा। इसके साथ, एप्लिकेशन आपके मूवमेंट का पता लगाने के लिए आपके जीपीएस का उपयोग करेगा।

जब भी आप कोरोनोवायरस-जोखिम वाले भौगोलिक क्षेत्र या कोरोनोवायरस पॉजिटिव व्यक्ति के पास जा रहे होंगे, तो यह आपको अलर्ट भेजेगा। इसके बाद आपको निवारक उपाय करने होंगे। इसके अलावा आपके संपर्क में आने वाले दूसरे यूजर ने अगर ऐप पर खुद को क्वारंटीन या इन्फेक्टेड मार्क किया है तो ऐप आपको अलर्ट देगा। इसके लिए सभी यूजर्स के डिवाइस में यह ऐप इंस्टॉल होना जरूरी है। ऐप को इस्तेमाल करने के लिए आपको ये स्टेप्स फॉलो करने होंगे

  • कोरोना कवच ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड और ओपन करें। – ऐप के बारे में जानकारी दिखेगी, इसे नेक्सट करने के बाद आपको लोकेशन से जुड़ी कुछ परमिशंस देनी होंगी।
  • अपना मोबाइल नंबर और उसपर आया ओटीपी डालकर रजिस्टर करें।
  • होमपेज पर आपको कोरोना संक्रमण से जुड़ी बेसिक जानकारी दी जाएगी।
  • सबसे ऊपर दिख रही पट्टी का कलर आपका स्टेटस बताएगा।
  • बीच में दिख रहे कोरोना कवच लोगों पर टैप करते ही एक घंटे का काउंटडाउन शुरू हो जाएगा और ऐप आपका मूवमेंट ट्रैक करेगा।
  • अगर आप किसी इन्फेक्टेड व्यक्ति के संपर्क में आते हैं, खासकर जिसके फोन में ऐप इंस्टॉल है, तो आपको अलर्ट दिया जाएगा।
  • हालाँकि, आप में से कुछ लोग अपनी फोन की गोपनीयता के बारे में चिंतित हो सकते हैं, तो उन लोगों के लिए भी ये एप्लिकेशन पूरी तरह से सुरक्षित है।
Health

क्वारंटाइन पीरियड में सब लोग रह रहे हैं उसमें आप दही को अपनी डाइट में शामिल करके अपनी सेहत और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत रख सकते हैं। कैल्शियम और प्रोटीन की मात्रा दही में भरपूर होती है। इसके अलावा प्रोबॉयटिक बैक्टिरया भी दही में पाया जाता है जो कि शरीर की इम्यूनिटी को मजबूत रखने में फायदेमंद होता है। दही बीपी और हड्डियों सब में फायदेमंद होता है।
यीस्ट इंफेक्‍शन से बचाव में दही का सेवन बहुत मददगार होता है।

इसके अलावा इम्यूनिटी को दही बढ़ाता है साथ ही बाकी संक्रमण को भी दही होने से बचाता है। क्वारंटाइन के समय में आप अपनी डाइट में कम से कम एक कटोरी दही रोजाना खाएं। 300 ग्राम कैल्शियम की मात्रा एक कटोरी दही में होती है। अगर आपके घर में धूप इस क्वारंटाइम में नहीं आ पा रही है तो आप दही का सेवन करें। कमजोर हड्डियों को यह आपकी मजबूत करेगी। बोन डेंसिटी भी इससे आपकी अच्दी होगी। इसके अलावा ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा भी इससे बुजुर्गों को नहीं होगा। रोजाना एक कम दही उनके लिए लंच के बाद जरूर खाएं।

इन दिनों आपके पास घर में बैठकर ज्यादा काम नहीं है जिसकी वजह से वेट आपका बढ़ सकता है। इसके लिए आप दही को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। 
एमिनो एसिड दही में अच्छी मात्रा में होता है जो मांसपेशियों की मरम्मत में मददगार हो सकता है। अगर आप एक गिलास पानी दही के साथ पीते हैं तो आंतों में जमी गंदगी भी साफ हो जाती है।
दही में पोटेशियम बहुत होता है जो उच्च रक्तचाप और गुर्दे की बीमारी में लाभकारी होता है। सोडियम की अधिकता को यह शरीर में दूर करता है। 

प्रोबायोटिक्स दही में मौजूद होता है जो शरीर में प्रतिरक्षा के निर्माण का काम करता है साथ ही कई बीमारियों को खत्म करने में मददगार होता है। आंतों की बीमारी में बहुत फायदेमंद प्रोबायोटिक्स बैक्टिरियां होता है। 

Refresh your skills. Get courses from ₹ 420
Health

जहां एक तरफ लॉकडाउन के चलते आमजनता को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, वहीं दूसरी तरफ पर्यावरण को इससे काफी फायदा हो रहा है। रिपोर्ट्स के अनुसार प्रदूषण कम होने की वजह से ओजोन लेयर में बना छेद अब भर रहा है। चीन के वुहान शहर से फैले जानलेवा कोरोना वायरस के कारण इस समय पूरी दुनिया में लॉकडाउन है। सड़कों पर ट्रैफिक है नहीं, फैक्ट्रियां भी बंद हैं। इमारतें बनाने का काम भी नहीं चल रहा है और ना ही कोई प्रदूषण फैलाने वाले काम हो रहा है।

यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोराडो बोल्डर के रिसर्चर्स ने पता लगाया है कि पृथ्वी के दक्षिणी हिस्से में स्थित अंटार्कटिका के ऊपर बने ओजोन लेयर का छेद अब भर रहा है। बताया जा रहा है कि चीन की तरफ से जाने वाला प्रदूषण अब उधर नहीं जा रहा है, जबकि लॉकडाउन से पहले प्रदूषण का स्तर काफी ज्यादा था। रिसर्चर्स ने जानकारी देते हुए बताया कि पृथ्वी के ऊपर चलने वाली जेट स्ट्रीम यानी ऐसी हवा जो कई देशों के ऊपर से गुजरती है, वह ओजोन लेयर में छेद की वजह से पृथ्वी के दक्षिणी हिस्से की तरफ जा रही थी। अब वह पलट गई है। 

यूनिर्सिटी की रिसर्चर ने बताया कि यह एक अस्थाई बदलाव है, लेकिन अच्छा है। इस समय जेट स्ट्रीम का फ्लो सुधर रहा है। चीन में लॉकडाउन की वजह से जेट स्ट्रीम सही दिशा में जा रही है। कार्बन डाईऑक्साइड का उत्सर्जन भी कम है, इसलिए ओजोन का घाव भर रहा है। चीन एक समय में सबसे ज्यादा ओजोन डिप्लीटिंग सब्सटेंस यानी ओजोन को घटाने वाले तत्व छोड़ता था, लेकिन अभी चीन से ये तत्व नहीं निकल रहे हैं। उन्होंने बताया कि साल 2000 से पहले जेट स्ट्रीम पृथ्वी के बीचों-बीच घूमता रहता था, लेकिन उसके बाद ये पृथ्वी के दक्षिणी हिस्से की तरफ घूम गया। इससे ओजोन लेयर में छेद तो हुआ ही, साथ ही ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों के मौसम में भारी बदलाव आया और वहां सूखा पड़ने लगा।

Flat 15% Off on Live Online Training by Edureka

अगर पूरी दुनिया का लॉकडाउन प्रदूषण कम कर सकता है तो ये आगे भी काम आ सकता है। इससे पृथ्वी का तापमान बढ़ना कम हो जाएगा। ग्लोबल वार्मिंग कम होगी। ओजोन को कम करने वाले तत्व कम निकलेंगे। प्रदूषण की वजह से लोगों की मौत कम होगी। साथ ही ऐसे ही पूरी दुनिया प्रदूषण कम करे तो ऑस्ट्रेलिया का मौसम सुधर जाएगा।

Health

The survey highlights that 60.5% of people are worried about the health of their family members, while 45.3% are confident that Govt. will handle COVID-19 pandemic situation

 New Delhi: Ahead of curfew and lockdown to cut-down on COVID-19 pandemic’s spread, people have been found violating the norms of this effective deterrent. The violators’ judgement may be overpowered by the thought process like, such things happen in the cycle of nature over an interval and eventually vanish or I am young so nothing will happen to me, we Indians have very strong immunity and so on.

lockdown

A survey conducted on COVID-19 pandemic to know the optimism levels of the people around it has similar findings that quite resembles with the perception of the people in the current scenario, which is indicative of a cognitive bias called Unrealistic Optimism – when one is convinced nothing wrong will happen to them even in the face of facts.

As per the survey findings, 33.4% of people believe that it will subside soon whereas 21.5% believes these diseases keep coming and going. Additionally, 26.8% believe in destiny, what has to happen will happen and 17.4% thinks Indian have high immunity to fight such infection. With such a belief system and mindset, it is quite easy to cross the thin line between realistic and unrealistic optimism.

This survey has been conducted under Healthy Nudge Initiative of HEAL Foundation – Indian Health Advocacy Group, in association with Counselling & Empowering -Enhancing Well-Being and Mental Health, to understand people’s perception of the impending danger of COVID-19. The survey has tried to find out people’s optimism level amidst COVID 19.
Suggestion for the above – Although the majority of participants had moderate to low optimism disposition levels, yet on being asked about the impact of COVID 19 on their optimism level the majority stated their optimism levels were not impacted by this outbreak as this was a hype created by the media and it will subside soon.

This survey brings out the thought processes, perceptions, levels of realistic optimism as well as unrealistic optimism of the people and their behavioural change around COVID-19 pandemic, thereby helping us in spreading the right information in the masses. If we see the grim scenario of the outbreak in the global backdrop and its exponential spread which took 67 days for the number of corona-affected persons to reach 1 lakh, and just 11 days in doubling the infected number, and merely 4 days in adding another one lakh, crossing the figure of 3 lakh virus infected.

With so many reasons behind this, unrealistic optimism amongst the masses might be one of the leading reasons as a good number of responses of the people during the survey asserted that this outbreak is a normal thing, which will get over soon”, says Dr. Swadeep Srivastava, Founder, HEAL Foundation.  

Adding further, he says, “The unrealistic optimism of the masses around the casual approach that this is a routine sort of thing might have resisted the people from social distancing, resulting in the havoc. But the result of the survey about unrealistic optimism also points toward the importance and the essence of social distancing, which has turned out to be the most effective preventive measure for COVID-19. Thus, the HHN Initiative is proactively doing its bit to keep the masses updated with the latest developments around the pandemic, and inculcating them to follow the preventive measures such as social distancing and healthy hygiene to cease its upsurge”.

The survey was conducted online with a gender-mixed sample size of 366 with a male & female ratio 46:54 from different parts of the country, majorly in Delhi/NCR. Globally recognised LOR-T form was used to asses people’s optimism disposition levels and then they were asked if there has been an impact on their optimism levels due to the COVID19 outbreak
Likewise, certain statistics of the survey also highlighted the unrealistic optimism of the people as 33.8% believed that such diseases come and go, so there is no need to worry as nothing is going to happen. In the same line, 17.6% believed that Indians have high immunity, so it’s a usual thing and not something that requires one to be extra careful or diligent.

“In the survey, which consisted of participants who were adults belonging to the elite and upper-middle-class socio-economic category, when asked whether their optimism levels were affected by the outbreak of COVID-19 epidemic, over 57% of the total sample surveyed expressed that their optimism was not affected by the outgoing pandemic while 82% of the sample showed low and moderate optimism disposition levels.

The results were very interesting from a behavioural perspective, because even in the face of all the panic and downfall in the markets, people dying and suffering; the majority of the participants in the survey was optimistic and expressed that their optimism levels were not affected by the COVID-19 outbreak.”, says Vidhi Mahanot, Psychologist and Founder, Counseling And Empowering.

She adds further, “Unrealistic Optimism is when one makes a judgement of a risk which is very different from the objective standard of that particular risk. This cognitive bias often leads to misplaced hope and subsequent disappointment. What could be consequences of unrealistic optimism in the current situation of the COVID-19 outbreak? It could lead to being less prepared, taking lesser precautions, not wearing a mask if one has a cough, not getting oneself tested while experiencing symptoms similar to COVID-19 as one believes that they are in a low risk or no risk situation.

Growing research indicates that people with tendencies to hold the positive expectation from the future, respond to obstacles and adversities in ways that are adaptive. Hence, while it’s great to be optimistic, however, let’s be aware of being unrealistically optimistic by cultivating and maintaining optimistic disposition and at the same time considering the risks of actions from a realistic angle.

Health

Dr. Priti Nanda, my Medi-Skool  campaign brings to all, a holistic approach for health through its preventive healthcare program named Program H2H on your fingertips.

Dr Priti you’re country’s leading Functional medicine expert, tell us about your journey from beginning to the current day?

I have done MBBS Medicine from Amritsar, MBA in Finance from the prestigious Indian Institute of Management, Lucknow and Fellowship in Functional Medicine, Anti-ageing, Metabolic SyndromeField Of StudyNon communicable diseasesActivities and Societies: AIFFM/ MMI from The George Washington University.

I worked as a Vice President in VLCC and AB Hospitals and then I have started my own Medi-Skool with only one mission, and that was to reverse chronic diabetes, obesity, and mental health issues from India. Dr. Priti Nanda was one a textbook diabetic and obese herself. However, I was determined to reverse her diabetic condition and also lost 23 kilograms with her self-created “CYCLIC KETO” program. Many clients of her have so far benefitted from the same.

With 27 years of experience in the healthcare industry, I am helping people reverse diabetes, conquer cravings & lose weight without going hungry. My tools help people become smarter, sharper, and healthier than before. Her other areas of interest are gut health such as IBS, Infections Allergies, Hormonal Imbalance such as PCOD, Menopause, Fibroids, Mood Disorders, and Fatigue.

dr priti

Dr Priti Tell us about your campaign Medi Skool?

We at Medi-Skool believe in a collaborative approach with a strong culture of ethics, transparency, confidentiality and accountability to our partners and participants. Medi-Skool brings to all, a holistic approach for health through its preventive healthcare program named Program H2H on your fingertips. It has a scientific approach while delivering the program, analysing the results and developing the most appropriate program for our partners/customers.

The program offers a personal coach to you to take care of your most important and precious asset–Health. This is done through a very detailed assessment of your lifestyle, family history, diet plan, personal history, blood tests and their interpretations, nutrition and fitness counselling and psychological consultation. We make sure that the customer is prepared in stages to be able to take the program and respond to it effectively. 

What is Cyclic Keto Program?

Cyclic keto diet is modified version of keto diet in which we give occasional serving of carbohydrate like rice, potato, pasta etc which reduces the craving of carbs, helps to restore lost glycogen, muscle development and give energy to exercise more. Cyclic Keto diet is of course beneficial if you want to loose weight. Not for everyone but for those who can follow it, gives amazing result in weight loss. In medicine, it has been used for almost 100 years to treat drug-resistant epilepsy, especially in children. Various research has shown good evidence of a faster weight loss when patients go on a ketogenic compared to other diet. Because it lacks carbohydrates, a ketogenic diet is rich in proteins and health fats helps to control blood sugar.

What makes you unique while treating a diabetic patient?

I treat diabetes naturally by working on the root cause of disease which can be metabolic problem, poor gut microbiome, stress, toxins, inflammation and lot more. This way the patient get healed from inside and experiences a  lifelong benefit along with weight loss. 

Tell us about your education qualification?

I have done Govt. Medical College, Majitha Road, Amritsar
Degree NameBachelor of Medicine, Bachelor of Surgery – MBBSField Of StudyMedicineThen MBA, IIM LucknowField Of StudyFinance and Financial Management Services and Fellowship in Functional Medicine, Anti-ageing, Metabolic SyndromeField Of StudyNon communicable diseasesActivities and Societies: AIFFM/ MMI from The George Washington University

How normal person can avoid Diabetes?

Healthy lifestyle is important to avoid non communicable diseases which includes

  1. Healthy diet, which includes high intake of healthy foods like vegetables, fruits, nuts, whole grains, healthy fats, and omega-3 fatty acids, and reduced intake of unhealthy foods like red and processed meats, sugar-sweetened beverages, trans fat, and sodium.
  2. Healthy physical activity at least 30 minutes per day either moderate / vigorous activity daily.
  3. Healthy body weight, defined as a normal body mass index (BMI), which is between 18.5 and 24.9.To keep viscleral fat below 10 is also very very essential to avoid diseases like diabetes
  4. No Smoking
  5. Good night sleep which includes 7-8 hours of sleep daily.

What are your future plans?

 I am following below four plan to growCreate a webinar.

Webinars are a great way to promote any product or service. It can also help you grow any business relatively fast. Webinars provide an automated selling tool for literally taking any product or service to market and reaching a wide audience quickly. The webinar medium is great for captivating audiences to clinch sale after sale, automatically.
Form strategic partnerships.Strategic partnerships with the right companies can truly make a world of difference.

It could allow you to reach a wide swath of customers quickly. Identifying those partnerships might be easier said than done. But, look out for companies that are complementary to your own. Contact them and propose opportunities for working together.

Identify new opportunitiesAnalyze new opportunities in your business by understanding your demographic better. Understand everything from distribution channels to your direct competitors, and even an analysis of foreign markets and other potential industries. There are likely dozens of new opportunities you could pursue immediately with the proper amount of analysis.

Create a customer loyalty program.Loyalty programs are great ways to increase sales. It costs up to three times more money to acquire new customers than it does to sell something to an existing customer. Other resources pin this number anywhere from four to 10 times more. However, any way that you slice it, acquiring new customers is expensive.

Frasier says that building a customer loyalty program will help you retain customers. It might also help you attract new ones as well. If there’s a clear incentive to spend more money with you, it’ll pay off in the long run. Build an attractive loyalty program and make it accessible to your existing customers and watch sales skyrocket over time.

Last question, what is your short message to the masses to acquire healthy lifestyle?

 It is necessary for every one to keep their weight in normal range and specially visceral fat need to be monitored. Physical activity for at least 30 min five times a week, Healthy diet which includes 5-7 serving of fruits and veggies, nuts, seeds, etc. A part from this maintaing Good night sleep and stress management is also a part of healthy living .Body composition analysis twice a year and Blood test  at least once a year can help a person to diagnose diseases earlier and stay away from teh aches and pains of losing health, money and relationships.

Dr Priti Nanda CEO & FounderMediskool Health Services Pvt. Ltd and a Author of the best seller Book on Cyclic Keto