December 10, 2019
Home Archive by category Health (Page 2)

Health

Fortis Memorial Research Institute, Gurugram in collaboration with Triveni Nursing Home, Jammu runs a specialty OPD for laparoscopic surgery for weight loss, Gastrointestinal, pancreas, colon cancer, gallbladder and reflux. The OPD is operational for 2 days every month at Triveni Nursing Home, Gandhi Nagar Jammu by Dr. Ajay Kumar Kriplani, Director, Minimal Access, Bariatric and G I Surgery, Fortis Memorial Research Institute, Gurugram.  

“I started performing Laparoscopic or minimal access surgery for removal of the gall bladder stones in Jammu 2 decades before and it is now the gold standard technique for less pain, decreased scars and faster return to normal activity. Of late there have been tremendous advances in the techniques and technology, widening the scope of laparoscopic surgery to a larger number of abdominal conditions which is well received by the residents of Jammu. In Jammu alone I have operated laparoscopically on over 3000 patients in last 2 decades. Single incision surgery gives very satisfactory cosmetic results. However, it requires special instruments, skills and training.” says  Dr. Ajay Kumar Kriplani, Director, Minimal Access, Bariatric and G I Surgery, Fortis Memorial Research Institute, Gurugram.

Single incision Laparoscopic Surgery is an advanced technique for less pain, decreased scars and faster return to normal activity. While conventional laparoscopic surgery for gall bladder removal requires 4 cuts on the tummy, in single incision laparoscopic surgery (SILS) only one small 1 cm cut is made which causes significantly less pain. In conventional laparoscopic gall bladder surgery, metal clips are used which remain in the tummy and may cause interference with the CT scan or MRI if it is required later. In single incision technique, no metal clips are used.

“We specialize in Laparoscopic weight loss surgeries and have a strict protocol for these surgeries to ensure high safety with extremely good long-term results. We have 15 years of experience in weight loss surgery and have operated patients with a weight of up to 240 Kgs safely” said Dr. Kriplani.

Fortis Hospital, Gurugram is a high-volume center for laparoscopic hernia repair of all kinds including groin hernia, navel hernia and post-surgery incisional hernia. Even hernias that have recurred many times after previous repairs and large hernias declared untreatable and incurable are treated with very good and satisfactory outcome.

Dr. Ritu Garg, Zonal Director, Fortis Memorial Research Institute, Gurugram said, “The key purpose of this OPD is to extend our state-of-the-art services to the people of Jammu. Our experienced and highly qualified doctors have already created their own milestones in their respective fields and are now inclined to serve the people of Jammu. The OPD service and related facilities is yet another patient-centric step taken by the country’s leading healthcare provider to deliver quality healthcare through world-class services.”

कई लोगों को ऐसा लगता है कि आर्थराइटिस बुजुर्गों की बीमारी है। जिसकी वजह से उनके जोड़ों में दर्द और तकलीफ महसूस होती है। लेकिन आर्थराइटिस के अत्यधिक लक्षणों के साथ यह बुजुर्गों की तुलना में युवाओं को अधिक तकलीफ देता है। मूल रूप से ऑस्यिोआर्थराइटिस आर्थराइटिस का ही एक रूप है, जो कि उम्र बढने पर अधिक पाई जाती है, लेकिन रूमेटॉयड आर्थराइटिस किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकती है। सेंटर फॉर नी एंड हिप केयर के वरिष्ठ प्रत्यारोपण सर्जन डॉ. अखिलेश यादव ने  बताया कि सच तो यह है कि आर्थराइटिस से पीडित युवाओं की संख्या में अचानक ही काफी तेजी आ गई है। खासकर एक्जीक्यूटिव और दफ्तर जाने वाले लोगों में। इन दिनों युवाओं को रूमेटॉयड आर्थराइटिस होने का खतरा पहले के मुकाबले कहीं अधिक बढ़ गया है। वे अक्सर जोड़ों में दर्द, सूजन या कड़ेपन की शिकायत जोड़ों जैसे टखनों, तलुओं, हाथों आदि में करते हैं। इसके होने के कारणों में अंतर पाया जा सकता है। व्यायाम में दिलचस्पी न लेना, खाने का अस्वस्थकर तरीका या असक्रिय जीवनशैली, आदि।

रूमेटॉयड आर्थराइटिस एक ऑटोइम्यून बीमारी है, जहां आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली अत्यधिक सक्रिय हो जाती है और आपके शरीर के अंदरूनी जोड़ों पर हमला करने लगती है। यह आपको किसी भी उम्र में प्रभावित कर सकता है। इसके सामान्य लक्षणों में शामिल है, जोड़ों में सूजन, सुबह उठने पर उनमें कड़ापन, दर्द जो खत्म नहीं होता- यह कई हफ्तों तक बना रहता है। हालांकि, इससे इस बीमारी से लडने के कई तरीके हैं, जांच के बाद लोग इस बात से निराश हो जाते हैं, उन्हें लगता है कि उनकी यह क्रॉनिक स्थिति उनसे सक्रिय रहने की क्षमता छीन लेगी।

डॉ. अखिलेश यादव का कहना है कि ज्यादतार युवा जिनका अधिकांश समय कार या ऑफिस के अंदर बीतता है, उन्हें सुबह के समय थोड़ी देर धूप में जरूर बिताना चाहिए। साथ ही उन्हें सेहतमंद जीवनशैली जीने पर जोर देना चाहिए, जैसे नियमित रूप से जिम जाना, उछल-कूद वाले खेलों में हिस्सा लेना, जॉगिंग, स्वीमिंग, टेनिस खेलना आदि। इससे जोड़ों के आस-पास की मांसपेशियां मजबूत रहती हैं। हॉबी आधारित गतिविधियां जैसे डांसिंग, एरोबिक्स, योगा, पाइलेट्स और टहलना आदि। 

डॉ. अखिलेश यादव के अनुसार यदि किसी को बचपन में मिरगी की समस्या रही हो तो उनके शरीर में कैल्शियम का अवशोषण होने में परेशानी होती है, इस बारे में अपने डॉक्टर से जरूर बात करें। यदि आपके पैरों में एक हफ्ते से अधिक जोड़ों में दर्द या कड़ापन हो तो देर न करें तो तुरंत ही रूमेटोलॉजिस्ट से सलाह लें, ।

September 2019 –Vertigo is a sense of spinning dizziness which can indicate various underlying health conditions related to the brain, the inner ear or sensory nerve pathway. In order to raise awareness on the subject, Max Healthcare, one of the leading healthcare providers in North India, organized a press conference.

The conference covered various topics related to vertigo such as its symptoms, preventive measures, treatment etc.

The condition also is known as motion sickness or balance disorder increases when one closes their eyes and tend to fall. This sensation is caused as a result of the brain being fed impulses that suggest motion while it is actually not there. There are three body systems that control the balancing mechanisms – the inner ear with its labyrinthine canals; the eyes and the eye muscles and the muscles of the neck. Inputs from these systems are processed in specific areas of the brain and the perception of balance is maintained when the inputs are synchronized. Whenever the brain (CPU) is unable to process the information properly, it gives rise to Vertigo.

Dr. Sanjeev Dua, Senior Director – Neurosurgery, Max Super Speciality Hospital, Patparganj says, “One of the biggest misconceptions that have to be dispelled is that Cervical Spondylitis causes Vertigo. Majority of patients who report complaints of Vertigo are diagnosed as Cervical Spondylitis and they continue to be treated for a disorder which is either not present or not responsible for the symptoms of Vertigo. The most common cause of Vertigo is afflictions of the inner ear or middle ear which may range from simple ear wax to viral infections of the labyrinth.”

The treatment protocols differ from person to person. While in some cases, short-term medicines are enough to ameliorate the symptoms, there are cases of patients suffering from chronic vertigo where the doctor suggests some physical movements such as the Epley’s maneuver as it helps in symptomatic relief without the use of any medicines.

North India’s “Angelina” – patient undergoes bilateral mastectomy and removal of ovaries to prevent breast and ovarian cancer

Ghaziabad, 19th September 2019 – Positive family support and best of medical advice helped a 37-year-old Riti from West Delhi’s Janakpuri take a very bold step which has changed her life forever. As a preventive step to avoid development of breast and ovarian cancer, she underwent voluntary bilateral mastectomy and removal of her ovaries.

Presenting her case to spread awareness about this unusual situation, Max Healthcare, Vaishali, organised a press conference today to highlight the fact that the stakes are very high in those detected with a mutation in their genes.

Genetic mutation of BRCA 1 (gene associated with breast cancer) running in her family, her elder sister was recently diagnosed with breast cancer in Canada and her mother had already had two encounters with breast cancer once in 1997 and then in the other breast in 2007.

With this background, Riti was advised to undergo gene test to determine if she was carrying a mutation in a gene associated with breast cancer. After consultation with Dr Geeta Kadayaprath, breast surgeon and Dr Amit Verma, Genetics consultants, she underwent genetic testing and as luck would have it, her results were positive for BRCA1 mutation. The results were affirmative that she had around 80% of developing breast cancer and 50-60% chances of developing ovarian cancer in her lifetime.

“Only 10% cases of breast cancer are due to genetic mutation. While it is rare, we are seeing quite a few patients with high risk familial cancers. The fear of what a mutation in the gene may portend drives many from actually undergoing the test. There is still a social stigma attached to cancer and there are many who don’t want to know their mutation status. Timely action in those with the mutation is the best chance against cancer developing. It is very well known that the journey after developing cancer can be tough with uncertain outcomes. Fortunately, in this case, the elder sister took timely measures to get her younger sister checked for the mutation in BRAC1 gene. It is important for people to be aware and take all possible steps to prevent the disease from happening. Knowing is empowering. Nothing is more important than leading a full, healthy life.” said Dr. Geeta Kadayaprath, Director, Surgical Oncology, Max Super Speciality Hospital, Vaishali.

Epitomizing the essence of Nidarr Hamesha, Riti has embarked on a unique journey with the staunch support of her sister, mother and her husband, by demonstrating rare courage to undergo preventive surgery to reduce the risk of breast cancer by upto 95%. There is a rise in number of such cases with high risk of familial cancer due to possible gene mutation, putting one at a very high risk of developing cancer.  

“When a mutation in the BRCA 1 gene comes positive, the chances of developing Breast Cancer are 80% and Ovarian and Fallopian Tube Cancer is 50-60%, in the lifetime (80 years) of the patient. Since the tests of Riti revealed an ovarian cyst, the reasons to get the surgery done became even more critical. By removal of just ovaries, risk of ovarian cancer decreases by 80 percent n breast by 56 percent n total reduction of risk of cancer by just BSO is 77 percent. And in her case because we did prophylactic bilateral mastectomy also, we reduced the risk of cancer to 95 percent.” Said Dr Kanika Gupta, Associate Director, Oncology, Max Super Speciality Hospital, Vaishali

“Three weeks ago, I suddenly developed pain in the lower abdomen and upon investigation, the results revealed a cyst in the ovary. Upon further insistence from my elder sister who had already undergone mastectomy surgery after being diagnosed with breast cancer, I had agreed to get my genes tested. Dr Geeta kept me with two options, either to ‘wait and watch’ with frequent imaging studies and clinical examinations until the progression of breast cancer, or to go ahead of the disease by voluntarily undergoing surgery to avoid any chances of breast cancer. With the assurance of the doctors, I preferred to undergo removal of my breasts, fallopian tubes, ovaries along with breast reconstruction surgery.” Said Ms Riti, Patient who underwent preventive breast cancer surgery.   

About Max Healthcare

Max Healthcare (MHC) is the Country’s leading comprehensive provider of standardized, seamless and international-class healthcare services. It is committed to the highest standards of medical and service excellence, patient care, scientific and medical education.

 
Max Healthcare has 14 facilities in North India, offering services in over 30 medical disciplines. Of this, 11 facilities are located in Delhi & NCR and the others in Mohali, Bathinda and Dehradun. The Max network includes state-of-the-art tertiary care hospitals in Saket, Patparganj, Vaishali, Shalimar Bagh, Mohali, Bathinda and Dehradun, secondary care hospitals at Gurgaon, Pitampura, Noida & Greater Noida and an out-patient facility and speciality centre at Panchsheel Park. The Super Speciality Hospitals in Mohali and Bathinda are under PPP arrangement with the Government of Punjab.

Somya(32) name changed, homemaker, mother of two was focusing her energies more on her kids and home that she used to ignore the pain on left side of upper back. Not paying much heed to it thinking that the tiredness would have caused it, the pain has continuous for over one year. Over time, gradually the pain had aggravated, so much that it was unbearable and shooting pain would cause discomfort. It is only when she started noticing loss of sensation in her arms and legs, she decided to get consultation says Dr Aditya Gupta, Director, Neurosurgery and Cyberknife Centre, Agrim institute for neuro sciences, Artemis Hospital.

She had been visiting various general physicians but the problem persisted. She then decided to approach the neuro team at Artemis Hospital. Upon complete investigation and examination, the problem was identified as early stage spinal tumor. It was of limited size, and not yet compressing the spinal cord, hence the team decided to take up the case under treatment through the use of cyberknife.

The decision was taken, keeping in mind the location and limited size of the tumor. Conventional surgery was an alternative, but had a small but real risk of leaving the patient paralyzed. Given the small size of the tumor, the risk would not have been advisable. This is where cyberknife becomes effective and without any risk, the pain-free non-invasive method was used to treat her stage 1 spinal tumor.

The team took only half an hour in the cyberknife operating room with one session and the patient was cured completely, without any hassle. Even on regular visits the patient condition is as normal as before and all the radiographic reports reveal that the tumor has regressed.  

Spinal tumor types

It is the growth of tumour that develops within the bones of spine. It can be Benign or malignant.

There are three common types of tumors that may affect the spinal cord.

1)    Intra-medullary Tumors – It develops in cells that are present within the spinal cord. Examples are Astrocytoma and Ependymoma.

2)    Extra-medullary Tumors – It develops within the supporting network of cells that are around the spinal cord. This type of tumor affects the spinal cord function. Examples are Meningiomas, Schwannomas, Neurofibromas.  

3)    Vertebral Column Tumors

·         Primary Tumors – It occurs in the vertebral column and develops either from the bone or disc of spine. Osteogenic Sarcoma is the bone tumour which comes under this category. These are very rare and grow slowly and typically occur from the age group 21-50.

·         Metastatic Tumors – This Tumor spread from one area to another area of the body. The pain is worse and is accompanied by other signs of serious illness such as weight loss, fever, chills, nausea and vomiting.

The growth of any kind of spinal tumor can lead to pain, neurological problems and sometimes, it can be life-threatening and can even cause permanent disability.

In women, spinal tumor spread from cancer cells that originate from breasts or lungs whereas in, in case of Men, it spreads from tumor cells that originate from lungs or prostate.

What are the symptoms?

As the tumor grows, it affects the spinal cord, gradually. Depending on the location and the type of tumor, the severity may vary from person to person. The usual symptoms include back pain, loss of sensation especially in legs and arms, difficulty in walking, decrease in body immunity and sensitivity to pain, increase in heat and cold sensitivity, loss of bowel movement control and muscle weakness. Back pain is the early and the foremost symptom in both cancerous and noncancerous tumors.

Why cyberknife is preferred over other methods of treatment?

Though many other treatment methods may be available for treating spinal tumors but due to the advantage of being totally non-invasive and eliminates the requirement of any kind of anesthetics, cyberknife is a very useful tool saving the patient’s time and helping in better and quicker recovery. Cyberknife radiation surgery is a form of radio surgery that uses precisely targeted radiation to destroy tumors. This system is non-invasive and prevents any kind of blood loss eliminating the need for anesthesia.

The cyberknife system is unique designed robotic system that delivers high-precision surgical procedures.

Treatment for spinal tumors remaining a challenge in India, due to the reason that only limited technology is available, and also the fact that the spine is sensitive and can receive only limited amount of radiation. Cyberknife being flexible in producing radiations is one of the best options for treatment of spinal tumor.

Dr Aditya Gupta – Artimis Hospital

गुड़गांव, 8 सितंबर, 2019: ‘फिट इंडिया आंदोलन’ में योगदान के लिए के आर वी फाउंडेशन  ने फिजियोथेरेपी के महत्व के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिए गुड़गांव में आज मुफ्त फिजिकल थेरेपी शिविर का आयोजन किया। इस शिविर में लगभग 500 स्थानीय निवासियों  ने भाग लिया।

यह शिविर आईजीएल (इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड) के सहयोग से आयोजित किया गया था, जो प्रदूषण मुक्त, स्वस्थ और ग्रीन इंडिया के उद्देश्य के साथ बड़े पैमाने पर समाज की सेवा करता रहा है।

व्यक्तिगत भलाई और राष्ट्र निर्माण में फिजियोथेरेपी की भूमिका के बारे में जागरुकता बढ़ाने के उद्देश्य से इंटरैक्टिव सत्र आयोजित किया गया था, जिससे लोगों को स्वास्थ्य और स्वस्थ रुटीन को लेकर प्रोत्साहित किया.

केआरवी हेल्थकेयर और फिजियोथेरेपी प्राइवेट लिमिटेड की संस्थापक और फिजियोथेरेपिस्ट, डॉक्टर रिदवाना सनम ने बताया कि, “फिजिकल थेरेपी एक परंपरागत इलाज है जो मेडिकल साइंस का एक अहम हिस्सा है। ग्रेड 1, 2 और 3 में बिना किसी साइड इफेक्ट के फिजिकल थेरेपी, सर्जरी की जरूरत को खत्म कर देती है। लेकिन जागरुकता में कमी के कारण आम जनता के बीच इसे सिर्फ एक व्यायाम के रूप में जाना जाता है। उम्र चाहे जो हो, शारीरिक समस्या के आधार पर फिजियोथेरेपी सभी के लिए महत्वपूर्ण है। हालांकि यह तो सभी को मालूम है कि सर्जरी के बाद और स्ट्रोक के इलाज के बाद रिकवरी के दौरान फिजियोथेरेपी एक अहम भूमिका निभाती है, लेकिन इसके अन्य लाभों से लोग अभी भी अनजान हैं।”

भारत में बहुत ही कम लोग फिजियोथेरेपी और इसके फायदों के बारे में जानते हैं। इसको लेकर यही धारणा बनी हुई है कि यह सिर्फ क्रोनिक दर्द और सजर्री वाले मरीजों के लिए अनिवार्य है लेकिन लोगों को यह जानने की आवश्यकता है कि यह निवारक और रिहैब ट्रीटमेंट में भी अहम भूमिका निभाती है।

डॉक्टर रिदवाना सनम ने आगे बताया कि, पेशेवरों की बात की जाए तो कर्मचारियों में दर्द या समस्या के प्रकार को पहचानने में एर्गोनॉमिक्स (काम के वातावरण में कर्मचारियों की सहजता को समझना) एक अहम भूमिका निभाती है। गुड़गांव और हरियाणा के कई क्षेत्रों में बहुत अधिक औद्योगिकीकरण के साथ आईटी, बैंकिंग और टेलीमार्केटिंग आदि में लंबे और अनियमित काम के घंटों के कारण लोगों की जीवनशैली खराब और गतिहीन हो गई है। इस प्रकार की आबादी में पीठ दर्द, माइग्रेन, कमजोर मांसपेशियों और जोड़ों की समस्या निरंतर बढ़ रही है।

पोस्चर से संबंधित दर्द और समस्याओं को कम करने की जरूरत और सही पोस्चर एवं कार्यस्थल एर्गोनॉमिक्स के बारे में लोगों को शिक्षित करने के उद्देश्य से डॉक्टर रिदवाना ने विभिन्न कंपनियों में फिजियोथेरेपी के सेशन संचालित किए है और उन्हें सर्टिफिकेट भी दिए हैं।

उम्र सहित कई अन्य कारणों से होने वाली गठिया की समस्या जैसे ऑस्टियोआर्थराइटिस, रूमेटाइड आर्थराइटिस, यूनीकम्पार्टमेंटल आर्थराइटिस ने भारत के हजारों लोगों का जीवन खराब कर दिया है। जॉइंट रजिस्ट्री (आईएसएचकेएस) के हालिया आकड़ों के अनुसार, भारत में 15 करोड़ से भी ज्यादा लोग जोड़ों की किसी न किसी समस्या से पीड़ित हैं और पिछले साल लगभग 35 हजार लोगों ने जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी करवाई। इसमें 95% मामले ऑस्टियोआर्थराइटिस (40-70 वर्ष की आयु वर्ग में) के थे। केआरवी हेल्थकेयर और फिजियोथेरेपी सालों से ऐसे लोगों की मदद कर रहा है और फिजियोथेरेपी की मदद से लगभग 55 हजार मामलों में सर्जरी की जरूरत को खत्म किया.

धर्मशिला नारायणा सुपरस्पेशलिटी अस्पताल ने 1.5 लाख मरीजों के इलाज के रिकॉर्ड के साथ सफलतापूर्वक 25वीं वर्षगांठ पूरी की। इस अभूतपूर्व सफलता के उपलक्ष में अस्पताल ने कांस्टीट्यूशन क्लब ऑफ़ इंडिया में एक समाहरोह का आयोजन किया, और उत्तरी भारत में बदलते कैंसर के ट्रेंड और अपने सफ़र को साझा किया, जहां डॉक्टर एस खन्ना, फाउंडर- धर्मशिला हॉस्पिटल एंड प्रेसिडेंट- धर्मशिला कैंसर फाउंडेशन एंड रिसर्च सेंटर, कमांडर नवनीत बाली, रीजनल डायरेक्टर, नार्थ इंडिया, नारायणा हेल्थ और अनुज गुप्ता, सीओओ, धर्मशिला नारायणा सुपरस्पेशेलिटी अस्पताल अपने विचार साझा करने को मौजूद थे। साथ ही 20 वर्ष से अधिक समय पहले धर्मशिला अस्पताल के इलाज से कैंसर मुक्त हो चुके सरवाईवर्स भी अपना सफ़र साझा करने को मौजूद थे।
धर्मशिला अस्पताल ने नार्थ रीजन के पहले कॉम्प्रीहेंसिव कैंसर केयर सेंटर की शुरुवात की थी जिसमे अर्ली कैंसर डिटेक्शन, कम्पलीट स्टेजिंग वर्क अप, रेडियोथेरेपी, कीमोथेरपी, कैंसर सर्जरी, सपोर्टिव केयर आदि जैसी सुविधाएं मौजूद हैं, यह उस समय की बात है जब उत्तरी भारत में किसी भी अन्य अस्पताल में ऐसी कोई सुविधा उपलब्ध नहीं थी। इन 25 वर्षों के दौरान, धर्मशिला नारायणा अस्पताल ने कैंसर के ट्रेंड में उतार चढ़ाव देखे। जहां सर्विकल कैंसर के मामलों में तकरीबन 39 फ़ीसदी गिरावट रही वहीँ ब्रैस्ट कैंसर में 44 फ़ीसदी के हिसाब से और हेड, नैक एंड लंग कैंसर में 22 फ़ीसदी के हिसाब से इजाफा हुआ।

सर्विकल कैंसर के मामलों में आई गिरावट के लिए वैक्सीनेशन की बढ़ती प्रवृति, रेगुलर स्क्रीनिंग को श्रेय दिया जा सकता है, वहीँ तम्बाकू व अन्य नशीले पदार्थों का सेवन, शारीरिक श्रम न करने की आदत, अस्वस्थ जीवनशैली, खान पान की अनियमित आदतें कैंसर के बढ़ते आंकड़े के लिए जिम्मेदार मानी जा सकतीं हैं।
डॉक्टर एस खन्ना, फाउंडर- धर्मशिला हॉस्पिटल एंड प्रेसिडेंट- धर्मशिला कैंसर फाउंडेशन एंड रिसर्च सेंटर ने अपने वक्तव्य में कहा कि, कैंसर के इन बढ़ते मामलों को रोकने के लिए हमें प्रेस, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया समेत बड़े पैमाने पर जागरूकता फ़ैलाने की ज़रूरत है जो खास तौर पर जीवनशैली से सम्बंधित कैंसर पर केन्द्रित हो। हमें जनता को कैंसर स्क्रीनिंग के महत्त्व के बारे में भी जागरुक करना होगा। पिछले 25 वर्षों के दौरान धर्मशिला ने तकरीबन 80000 मुफ्त कैंसर स्क्रीनिंग की हैं। 454 मरीजों को शुरुवाती चरण में ही डिटेक्ट करके उनकी जिंदगी बचाई है। सरकार द्वारा एचपीवी और हेपेटाईटिस वैक्सीन की उपलब्धता बढ़ाने की भी जरूरत है साथ ही अधिक से अधिक केन्द्रों में मुफ्त कैंसर स्क्रीनिंग को भी बढ़ावा देने की ज़रूरत है। भारत के हरेक जिले में कॉम्प्रीहेन्सिव कैंसर सेंटर ज़रूर होना चाहिए।
कमांडर नवनीत बाली, रीजनल डायरेक्टर, नार्थ इंडिया, नारायणा हेल्थ ने कहा कि, कैंसर के इलाज की इतनी संख्या में सफल कहानियां सबके साथ साझा करना हमारी टीम के लिए निश्चित ही गर्व की बात है। अपने मरीजों को सर्वश्रेष्ठ इलाज देने के अलावा धर्मशिला नारायणा अस्पताल अपने सामाजिक दायित्व को भी समझता है। एक संसथान होने के नाते हम मुफ्त हेल्थ चेक अप कैम्प और जागरुकता कार्यक्रमों का समय समय पर आयोजन करवाते रहते हैं। हमारे पास अनुभवी डॉक्टरों की टीम है जो लगातार अपने मरीजों को अत्याधुनिक तकनीक के ज़रिये इलाज करती है।
धर्मशिला नारायणा अस्पताल नार्थ रीजन में पहला ऐसा कैंसर अस्पताल है जो सबसे चुनौतिपूर्ण हेड एंड नैक कैंसर सर्जरीज़ करता है। साथ ही यह दिल्ली का पहला ऐसा अस्पताल है जहां थर्ड जनरेशन टेक्नोलॉजी विद एलेक्टा सिनर्जी वीएमएटी विद आईएमआरटी, आईजीआरटी, एसबीआरटी और एसआरएस/एसआरटी एंड रेस्पिरेट्री गेटिंग केपेबिलिटीज़ और बेस्ट ट्रीटमेंट प्लानिंग सिस्टम जैसे मोनेको, CMSxi0, ERGO++ and Plato आदि उपलब्ध हैं।

— Achal Jain

Rewari, 28th August, 2019: Leading healthcare player in the North, Max Hospitals, Gurugram today, organized a public awareness drive/campaign at Rewari to address the rising trends of cancer, detection, treatment, advancements made and prevention of the deadly disease. Present on the occasion were Dr. Bhawna Sirohi, Director, Medical Oncology, Max Hospital, Gurugram.

According to the Indian Council of Medical Research (ICMR) data, cancer burden has doubled over the last 26 years. In 2016, India had 14 lakh cancer patients, and the number is increasing. Breast cancer, cervical cancer, oral cancer, and lung cancer together constitute 41 per cent of cancer burden in India. In India, there are 450,000 follow-up patients every year and the annual registration of new patients in India is 50,000, with limited oncology specialists.

Haryana alone contributes to around 39% of the mortality due to cancer in India. And approximately it is estimated that around 17 lakh new cancer cases will be registered by 2020, and Haryana is expected to contribute for around 6 lakh new cases by then. The main reason may be attributed to the rapid industrialization and poor sanitation especially in the areas including Gurugram, Rewari, Panipat, Sonepat, Karnal and Faridabad.

“There is a rise in number of patients suffering from some type of cancer and due to lack of awareness people usually neglect the early symptoms and often reach a hospital at an advanced stage of the disease.  It is important to understand and spread awareness about cancer treatment and the ways to prevent it with slight lifestyle modification and self-examination. While better and advanced technologies are available, it is equally important to spread the message of early detection as the symptoms get neglected & are diagnosed late,” said Dr Bhawna Sirohi, Director, Medical Oncology, Max Hospital, Gurugram

Most of the patients lack awareness about the advanced treatment options available to treat cancer. Max Healthcare has treated thousands of patients in the past two years and most of them are leading an improved quality of life. People need to be educated about the risk factors and importance of early detection in managing such all types of cancers. People need to be aware of the initial symptoms in order to prevent future complications. As ignoring the initial symptoms can lead to development of lumps and can convert into malignant tumors causing cancer.

“With limited oncology specialists in India, over 5 lakh follow up patients turn up annually and an annual registration of 3 lakh new patients have been seen. People should be aware and understand that with the latest & advanced treatment options available; it is possible to get disease free and lead an improved quality of life even in complicated cases. Minimally invasive techniques like the linear accelerators, computer aided advanced techniques like cyberknife etc have revolutionized the due course of treatment for cancer.” Said Dr Bhawna Sirohi, Director, Medical Oncology, Max Hospital, Gurugram

Max Hospital Gurugram has recently launched a state-of the art, innovative daycare cancer centre in gurugram, which will not only cater to patients from Gurugram but also to the patients from neighboring districts of Rewari, Jhajjar and Mewat.

With state of the art technology, specialized clinical approach and best in class diagnostic abilities, Max Healthcare is well equipped to spot even the most menial forms of cancer and at the same time, treat the most advanced cases. Max Healthcare has the advantage of the 14 hospital network and its tertiary care abilities across specialties which make for a very comprehensive healthcare offering.

इस दिन को मनाने के पीछे उद्देश्य मच्छरजनित बीमारियों के प्रति लोगों को जागरूक करना है। मच्छरों के कारण ढेर सारी गंभीर और जानलेवा बीमारियां हो सकती हैं, जिनमें डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, जीका वायरस आदि प्रमुख हैं।

कब मानते है मच्छर दिवस

सबसे पहले बात आती है कि मच्छर दिवस आखिर मानते कब है ? तो इसका जवाब है कि हर साल मच्छरों की याद में 20 अगस्त को विश्व मच्छर दिवस मनाया जाता हैं। अब आप कहेंगे कि ऐसा भी क्या हुआ है इस दिन जो हम मच्छरों को याद कर रहे है। तो आपको बता दे जनाब कि:

इस दिन पेशेवर चिकित्सक सर रोनाल्ड रास ने वर्ष 1896 में मलेरिया नामक जानलेवा बीमारी की खोज की थी। अच्छा इस बीमारी से जुड़ी हुई एक खास जानकारी यह भी है कि इस बीमारी के लिए रेस्पोंसिबल महिलाए होती है।

जी हाँ, सही पढ़ रहे है आप महिलाए…लेकिन महिलाऐं मतलब मादा मच्छर। लेकिन इसका मतलब ये भी नहीं है कि आप नर मच्छर को अपना ब्लड डोनेट कर सकते है। वह भी आपके स्वास्थ्य के लिए खतरनाक ही होता है। तो जरा ध्यान से क्योकि मच्छर मेल हो या फीमेल, काटेगा तो बीमारी की ग्यारंटी हम लेते है।

कैसे होती है बीमारी

दरअसल सबसे पहले रुख करते है हम बारिश के दिनों की तरफ. तो यह ऐसा मौसम है जब मच्छरों के पनपने का सिलसिला डबल या कहे तो ट्रिपल हो जाता है। यही वह मौसम है जब बीमारियों के संचरण हेतु अनुकूल परिस्थितियां भी बन जाती है। वैसे तो दुनियाभर में मच्छरों की हजारों प्रजातियां पाई जाती है लेकिन कुछ ऐसी जो बहुत अधिक हानिकारक होती है। इनमे से जहाँ नर मच्छर पेड़-पौधों का रस चूसकर अपना जीवन यापन कर लेते है तो वही मादा मच्छर अपनी प्यास बुझाने के लिए मनुष्य का खून चूसती हैं।

जब मादा मच्छर खून चूसती हैं तब व्यक्ति में प्राण घातक संक्रमण संचारित होने लगता है और इसके चलते मनुष्य के शरीर में कई तरह की बीमारियां भी पनप जाती है जैसे डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, येलो फीवर आदि।

मच्छरों के काटने पर क्या करें और कैसे करें मच्छरों से बचाव

बारिश के मौसम में अक्सर शाम को बैठते ही मच्छर आपको घेर लेते हैं। इन मच्छरों के काटने से त्वचा पर तेज जलन और खुजली होने लगती है। मच्छरों के काटने से कई तरह की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। आमतौर पर ये मच्छर पानी में पैदा होते हैं। मच्छरों को दूर रखने के लिए आप कुछ उपायों को अपना सकते हैं इसके अलावा अगर मच्छर आपको काट लें, तो रोगों से बचने के लिए भी आपको कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

खुजली न करें

मच्छरों के काटने पर त्वचा पर तेज खुजली होती है मगर एक्सपर्ट्स की मानें, तो इसे खुजाना नहीं चाहिए। दरअसल जब मच्छर आपको काटते हैं और आप उस जगह को ज्यादा खुजाते हैं, तो इससे त्वचा में बैक्टीरिया प्रवेश कर जाते हैं, जो इंफेक्शन का कारण बन सकते हैं। खुजली मिटाने के लिए सबसे अच्छा तरीका ये है कि आप प्रभावित त्वचा को साबुन और पानी से धोएं। इस पर बर्फ रगड़ें या एंटी-इचिंग क्रीम लगाएं।

क्यों होती है खुजली और जलन

मच्छरों के काटने से शरीर में खुजली शुरू हो जाती है क्योंकि मादा मच्छर जब खून पीने के लिए अपना डंक आपके शरीर में चुभाती है, तो त्वचा की ऊपरी पर्त पर छेद हो जाता है। आपके शरीर में कहीं भी छेद हो, तो तुरंत खून का थक्का जम जाता है। अगर ये थक्का जम जाए, तो मच्छर खून नहीं पी सकेगी। इसलिए मच्छर अपने डंक से एक विशेष रसायन छोड़ते हैं, जो खून का थक्का बनने से रोकता है। जब त्वचा में ये रसायन पहुंचता है, तो रिएक्शन के फलस्वरूप उस जगह पर जलन और खुजली शुरू हो जाती है और वो जगह लाल होकर सूज आती है।

मच्छरों के काटने से कैसे बचें

मच्छरजनित रोगों से बचाव का सबसे अच्छा तरीका ये है कि मच्छरों को खुद से दूर रखा जाए। मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया और जीका जैसे रोगों को फैलाने वाले मच्छर दिन में काटते हैं। इसलिए इन बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

  • सुबह और शाम के समय घर से बाहर खुले में निकलने से बचें।
  • पूरी बाजू और पांव को पूरा ढकने वाले कपड़े पहनें।
  • मच्छरों से बचने के लिए जरूरी हैं कि उन्हें घर के आसपास न पनपने दिया जाए। ऐसे में घर के आसपास कहीं भी पानी इक_ा न होने दें। यदि घर के आसपास नालियां गंदी हैं,तो उन्हें साफ करवाएं।
  • इक_े हुए पानी पर या तो मिट्टी डाल दें या फिर पेट्रोल, केरोसिन इत्यादि डाल दें ।
  • घर में रखी हुई खुली टंकियां, बर्तनों, टायरों इत्यादि में पानी न इक_ा होने दें और खाने के सामान को हमेशा ढक कर रखें।
  • घर के कूलर, एसी, पानी की टंकी इत्यादि की ठीक से सफाई करें और कूलर के पानी में सप्ताह में एकाध बार केरोसिन, पेट्रोल या मच्छरनिरोधी दवाईयां डाल दें।