July 4, 2020
Home Archive by category Politics

Politics

Politics

Prime Minister Narendra Modi said, Rules were followed very strictly during the Lockdown. Now governments, local bodies, citizens, need to show similar alertness. Especially, we need to focus more on containment zones.

Modi said to the nation on Tuesday, We are now entering Unlock-Two in our fight against the corona pandemic. We are also entering the season of increasing cases of cough, cold and fever. I, therefore, request all of you to take special care of yourselves. 

He said, considering corona’s death rate, India is comparatively in a better position compared to many countries of the world. Timely imposition of lockdown and other decisions have saved lakhs of lives. But we have also seen that since Unlock-One, there is increasing negligence in personal and social behaviour. But today, when we need to be more careful, increasing negligence is a cause of worry.

He said, Rules were followed very strictly during the Lockdown. Now need to show similar alertness. Especially, we need to focus more on containment zones. Those not following the rules will need to be stopped and cautioned.
Modi given example and told, Prime Minister of a country was fined Rs. 13,000 for not wearing a mask in public place. In India too, the local administration should work with the same enthusiasm. This is a drive to protect the lives of 130 crore countrymen. 

He said, nation’s top priority during the lockdown was to ensure that no one remains hungry…… Thus, immediately after the lockdown, the government brought out the Pradhan Mantri Garib Kalyan Yojana. Under this scheme, a package worth Rs. 1.75 lakh crore was provided for the poor.

 He said, last three months, 20 Crore poor households have received direct benefit transfers worth Rs. 31,000 Crore. During this period, Rs. 18,000 crore have been deposited in bank accounts of over 9 Crore farmers. Simultaneously, Pradhan Mantri Garib Kalyan Rojgar Abhiyaan was quickly launched for employment of Shramiks in rural areas Government is spending Rs. 50,000 Crore on this.

He said, in our country, there are many activities in agriculture during and after rainy season. Other sectors do not have much activity. July also marks beginning of the festive season. So we have been decided to extend Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojana up to Diwali and Chhath Puja, till November-end.

It means, this scheme giving free ration to 80 crore people will continue in July, August, September, October, November. Over 90 thousand crore rupees will be spent on this extension of PM Garib Kalyan Anna Yojana. If we add expenditure of last three months on this scheme, then it comes to around 1.5 lakh crore rupees.

He said, if the government is able to provide free ration to the needy and poor, then credit for it goes to hard working farmers and honest taxpayers of our country. It is your hard work and dedication, due to which the nation is able to do it. 

PM said, While taking all the precautions, we will further expand the “Economic Activities”. We will work ceaselessly for “Atmanirbhar Bharat”. We all will be “vocal for Local”. With this pledge and commitment, the 130 crore people of this country will have to work together and move forward together.
Deepak Sen – Senior Journalist  

Politics

दिल्ली के मुख्यमंत्री और केंद्रीय गृहमंत्री की मीटिंग मे लिये गए कुछ महत्वपूर्ण निर्णय :

दिल्ली में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए अगले दो दिन में कोरोना की टेस्टिंग को बढाकर दो गुना किया जायेगा और 6 दिन बाद टेस्टिंग को बढाकर तीन गुना कर दिया जायेगा, साथ ही कुछ दिन के बाद कन्टेनमेंट जोन में हर पोलिंग स्टेशन पर टेस्टिंग की व्यवस्था शुरू कर दी जाएगी।

दिल्ली के कन्टेनमेंट जोन में Contact mapping अच्छे से हो पाए इसके लिए घर-घर जाकर हर एक व्यक्ति का व्यापक स्वास्थ्य सर्वे किया जायेगा, जिसकी रिपोर्ट 1 सप्ताह में आ जाएगी।

दिल्ली के निजी अस्पताओं में कोरोना संक्रमण के इलाज के लिए निजी अस्पतालों के कोरोना बेड में से 60% बेड कम रेट में उपलब्ध कराने, कोरोना उपचार व कोरोना की टेस्टिंग के रेट तय करने के लिए डॉ. पॉल की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई गयी है जो कल तक अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी उसके बाद निजी अस्पतालों मे कोरोना उपचार के रेट तय कर दिये जायेंगे।

Politics

We have seen systems collapsing on in developing countries. We are prepared for the worst.

  • Lockdown was a bold step and need of the hour. Regulating people from outside Delhi was also the need of the hour. But the decision was politicized
  • Not thinking of reopening the schools

Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal on Wednesday said L-G Anil Baijal’s order on hospitals accessible to everyone living in Delhi would be implemented amid a political slugfest in the national capital even as coronavirus cases continue to rise. Kejriwal, who was addressing the media a day after he tested negative for Covid-19, said: “L-G’s directives will be implemented in letter and spirit, this is not the time for disagreements or arguments.”

Baijal had overturned the decision of the AAP government to reserve Delhi government hospitals and some private ones for residents.

A day after officials from the Centre said there’s no community transmission of Covid-19 yet in Delhi, Deputy Chief Minister Manish Sisodia reiterated that the AAP government is prepared for the worst and were preparing on minimising the damage.

“We have surpassed our infrastructure limit but we are prepared for the worst. The situation is still under control and manageable; damage is happening but we are working on minimising it,” Sisodia told CNN-News18.
The deputy CM had earlier said that he estimated there might be 5.5 lakh coronavirus cases in the city by July 31. The national capital will need 80,000 beds by July end, he said.

However, he also highlighted that the calculations for the requirement of 80,000 beds were made on the basis of growth rate of cases in Delhi during last two-three months, when the nationwide lockdown and border restrictions were in place. Now, even the State Government isn’t sure how many beds will be needed. “We cannot guess.

How can we surmise? That is why we had put in restrictions to regulate people coming from outside Delhi. But the Centre didn’t like this decision and it was overturned.”

CM Kejriwal had said that the Delhi Government was ready for 30,000 active cases and then later said they were prepared for 50,000 cases. However, many people are still struggling for treatment and admission in hospital. Talking about this, Sisodia said, “7000 people are admitted in the hospitals currently and we still have 3000 beds available.

We still have enough medical facilities. If someone wants to get admission in a particular hospital because they like the hospital or its nearby, then that might not be possible. You will not get a bed if it’s not available in a hospital you like. However, you will get a bed as per availability in other hospitals.

That’s why we wanted the regulations (on people coming in Delhi. Lockdown was a bold step and need of the hour. Regulating people from outside Delhi was also the need of the hour. But the decision was politicized. We need to accept that the situation will get worse.”
Sisodia further told CNN-News18 that the government’s plan was according to specific calculations and they were “matching up to the increasing number of cases in Delhi”.

Elaborating further on government’s plans, Chief Minister Arvind Kejriwal had said that considering that 50% patients come to Delhi from outside, the state needs about 1.5 lakh beds by next month.

“I will personally oversee stadiums being turned into quarantine centres. In the last eight days, Delhi hospitals admitted 1,900 people, while 4,200 beds are vacant. Yet we got information that around 200 patients struggled to get beds. We will look into the matter. This is not the time to fight, we have to be together. If we will fight, coronavirus will win,” the CM said.

On Monday, L-G Anil Baijal had overruled AAP government’s order to reserve Delhi government-run and private hospitals in the national capital for Delhiites. This led to a war of words between the Centre and the state government with Sisodia accusing BJP of “putting pressure on L-G” and Kejriwal saying that L-G’s order has created a “major problem and challenge for the residents”.

Politics

बैठक के बाद उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन का बयान
Lg में बाहर से आए लोगों के इलाज के फ़ैसले को reconsider करने से मना कर दिया- मनीष सिसोदिया

बैठक में केंद्र सरकार के अधिकारियों ने कहा दिल्ली में अभी कम्यूनिटी स्प्रेड की स्तिथी नहीं है— मनीष सिसोदिया

हम कह रहे है दिल्ली में स्प्रेड है, लेकिन communty स्प्रेड को लेकर केंद्र सरकार ही फ़ैसला ले सकती है- सत्येंद्र जैन

दिल्ली के अंदर प्राइवट हॉस्पिटल में 50% लोग बाहर से इलाज करवाने आते और बड़े सरकारी हॉस्पिटल में 70% लोग बाहर की होते है— सत्येंद्र जैन

31 जुलाई तक सिर्फ़ दिल्ली वालों के लिए 80हज़ार बेड चाहिए—सत्येंद्र जैन

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन का LG पर बड़ा हमला

हमने LG से पूछा आपने प्लान किया होगा जब सब के लिए इलाज खोला है दिल्ली में । LG ने कहा प्लान कोई नहीं किया है देखते हैं क्या होता है— सत्येंद्र जैन

Politics

इस समय में दिल्ली और मुंबई जैसे बड़े कोरोना के संकट से जूझ रहे हैं. धारावी जैसे भीड़-भाड़ वाले इलाक़ों में ये संक्रमण तेज़ी से फैल रहा है. केंद्रीय केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, सूक्ष्म-लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री नितिन गडकरी का कहना है की उद्योगों के वीकेंद्रीयकरण, स्मार्ट सिटी और स्मार्ट गाँव बनाने से ही शहरों में भीड़ कम होगी.

नितिन गडकरी ने न्यूज़18 इंडिया से बात करते हुए कहा की उन्होने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सभी गोदाम दिल्ली से बाहर ले जाने का प्रस्ताव दिया था. इस प्रस्ताव के लिए केजरीवाल ने हाँ भी किया था. “रिंग रोड के पास जो भी गोदाम हैं, वो सब दिल्ली से बाहर ले जाने का प्रस्ताव दिया था. इसके कारण से जो औद्योगिक कचरा है जैसे प्लास्टिक, स्टील इत्यादि वो भी दिल्ली से बाहर हो जाएगा.”

उन्होने लॉजिस्टिक पार्क बनाने की भी बात कही. “मैं रिंग रोड के साइड मैं लॉजिस्टिक पार्क बनाना को तैयार हूँ. मैने केजरीवाल जी से कहा था की दोनो साथ मिल के बनाएँगे.”

उनका मंत्रालय दिल्ली-मुंबई हाइवे भी बनाने में कार्यरत है. लेकिन इस समय दिल्ली और दिल्ली से लगे उत्तर प्रदेश और हरियाणा की बीच सीमा विवाद थमने का नाम नही ले रहा है. उनका मानना है की राज्यों को साथ बैठ कर बातचीत से मामला सुलझाना चाहिए. गडकरी ने कहा, “जिस राज्य की सीमा जहाँ तक है, वहाँ तक अधिकार राज्य सरकार का है कि क्या करना है और क्या नही करना. उत्तर प्रदेश सरकार भी मेरे साथ है, हरियाणा सरकार भी मेरे साथ है, साथ बैठ कर, सब की स्वीकृति ले कर हम लॉजिस्टिक पार्क बनाने को तैयार हैं.”

दिल्ली में हो रहे अस्पतालों के विवाद पर उन्होने कहा, “इस समय दिक्कत बहुत बड़े स्तर पर है और मरीज़ों की संख्या बढ़ रही है. इस समय मीडीया में इन विषयों की चर्चा करने की बजाय सरकारी स्तर पर सबके बीच में बैठ के चर्चा कर के सुलझाना उचित होगा. इस प्रकार के विवाद लोगो में और निराशा पैदा करते हैं. हम आपस में चर्चा कर के जो भी अड़चन होगी वो सुलझा सकते हैं.”

परेशानी सभी को

20 लाख करोड़ के पैकेज के बाद भी राहुल गाँधी ने कहा था की सरकार को पैसा लोगों के हाथ में देना चाहिए. इस पैकेज में सूक्ष्म-लघु एवं मध्यम उद्योगों के लिए भी कई प्रावधान थे. इस पर गडकरी ने कहा की पैसा, पैसा होता है. सरकार की तरफ से सूक्ष्म-लघु एवं मध्यम उद्योगों को हर ज़रूरी मदद दी जा रही है. उन्होने बताया की देश की जीडीपी में 29% सूक्ष्म-लघु एवं मध्यम उद्योगों का योगदान है. साथ ही 48% एक्सपोर्ट इन उद्योगों के द्वारा होता हैं और 11 करोड़ नौकरियाँ भी दी जाती हैं. “इस मार्च तक करीब 6 लाख इंडस्ट्रीस को रिस्ट्रक्चर किया है और आने वाले समय में अगली मार्च तक 25 लाख मसमे को रिस्ट्रक्चर करेंगे.”

उन्होने आगे कहा की इस समय अड़चन सबको है. “भारत सरकार का भी राजस्व गिरा है. ये झदगे का समय नही है बल्कि हाथ मिला कर चलने का समय है. भारत सरकार सभी राज्य सरकारों के साथ खड़ी है, हम हर संभव कोशिश करेंगे सबकी मदद करने की.”

काम करने वाले लोगों की कमी

नितिन गडकरी अपने काम के लिए जाने जाते हैं. उन्होने बताया कि उन्हें काम करने और निर्णय करने वाले अधिकारी पसंद हैं, टाल-मटोल करने वेल या फाइल इधर उधर करने वाले अधिकारी पसंद नहीं हैं.

“इस देश में पैसे की कमी नही है, टेक्नालजी की कमी नही है, इस देश में काम करने वाले की कमी है. विकास के लिए काम करने की प्रतिबद्धता होगी तो हम लोग बहुत कुछ कर सकते हैं. जो काम की ज़िम्मेदारी दी है उसका मूल्यांकन होना चाहिए.” उन्होने कहा.

कोरोना काल में अवसर

नितिन गडकरी के अनुसार कोरोना काल अप्रत्यक्ष रूप से एक अवसर ले कर आया है. कुछ समय पहले जहाँ भारत ने चीन से पीपीई किट मँगवाई थी, अब भारत 5 लाख पीपीई किट का निर्माण कर रहा है और साथ ही दूसरे देशों को निर्यात भी कर रहा है. “कुछ समय पहले सैनिटाइजर का भाव 1200 रुपये प्रति लीटेर हो गया था. मैने सब चीनी की मिल्स को बोला सैनिटाइजर बनाने के लिए, प्रधानमंत्री ने बोला चावल से सैनिटाइजर बनाना के लिए. अब 160 रुपये लीटेर कीमत आ गयी है. पुर कनाडा, अमेरिका से लेकर दुबई तक अब हम सैनिटाइजर एक्सपोर्ट कर रहे हैं.”
उन्होने कहा की अब लोग भारत में निवेश करना चाहते हैं. अगर हम आत्मविश्वास और सकारात्मकता के साथ आगे जायें तो निश्चित रूप से हमारा सपना पूरा होगा

Politics

भारत सरकार द्वारा बनाये गये आरोग्य सेतु App का काफी विज्ञापन दिखाई दे रहा है, लेकिन इसका उपयोग करने वाले काफी कम है। ऐसा लगता है कि Corona Virus को लेकर बनाया गया यह App आनन फानन में तैयार किया गया है।

इस App को देखने से पता चलता है कि इसमें Corona Positive होने की जानकारी व्यक्ति को खुद ही देनी पड़ती है और अपने Corona संबंधी Test के लिए भी व्यक्ति को खुद ही सूचना देनी होती है। शायद सरकार भूल गयी की Corona को लेकर लोगों के बीच तमाम तरह की भ्रांतियां है और देश में बहुत कम लोग ऐसे होंगे जो Corona को लेकर सरकार को सूचित करने की जहमत उठायेंगे।

इस ऐप की बड़ी खामी यह है कि आरोग्य सेतु App हर वक्त Update नहीं रहता है। ऐसा लगता है कि यह दिन में सिर्फ एक बार Update किया जाता है। आम तौर पर यह पुराने आंकडे ही दिखाता रहता है। इससे बेहतर Google है जो नवीनतम आंकड़े दिखाता है। लोग Google के जरिये ताजा जानकारी हासिल कर सकते हैं और कर रहे हैं।

इस App से केवल इसे बनाने वाली Company और इसका विज्ञापन करने वाली Company को ही फायदा पहुंचा। आम आदमी को इस App से कोई खास फायदा नहीं पहुंचा है।
इस App को अधिसंख्य जनता उपयोग नहीं कर रही है जिससे इसके होने या ना होने से कोई फर्क नहीं पड़ता है। यह App कितना सुरक्षित है, इस पर भी प्रश्नचिन्ह है?

Corona Pandemic में जल्दबाजी में आरोग्य सेतु App बनाने की बजाय सरकार को अधिक से अधिक लोगों का Corona Test कराना चाहिए था, जो ज्यादा फायदेमंद होता।
Deepak Sen – Senior Journalist

Politics

By Dr Rajeev Bindal, MLA Nahan

पंचायत का वार्ड सदस्य, उप-प्रधान, प्रधान, बी0 डी0 सी0 सदस्य, जिला परिषद सदस्य, विधायक एवं सांसद ये वह शक्स है जो लोकतान्त्रिक प्रणाली (Democratic Process)में चुन कर जन प्रतिनिधि (Public Representative) बने है, इनके अतिरिक्त भी कुछ और पद है जो चुनाव द्वारा भरे जाते है जैसे को-ओपरेटिव सोसाईटीज आदि परन्तु उनके मतदाता (voters) सभी नहीं होते इसलिए उन्हें जन-जन का प्रतिनिधी कहना शायद उचित नहीं होगा ।

जन प्रतिनिधि Public Representative बनने से पूर्व व्यक्ति बड़े उत्साह से, मन की, तन की, परिवार की पूरी तैयारी के साथ इस सामाजिक-राजनैतिक जीवन में आने की घोषणा करता है, तन-मन-धन लगा कर लोकतान्त्रिक प्रणाली Democratic Process से चुनाव जीत कर जन प्रतिनिधि Public Representative बनता है । ये जन प्रतिनिधि Public Representative भारत जैसे लोकतन्त्र में अहम् भूमिका निभाते है । सत्ता की राजनिति के साथ इन जनप्रतिनिधियों की कार्यशैली, कार्यक्षमता एवं सफलता भी प्रभावित होती है ।

Rajiv Bindal Rajeev

जन प्रतिनिधियों Public Representative से जन-जन की अपेक्षाऐं :

यह विषय बहुत बड़ा, कलिष्ठ एवं पद, स्थान, क्षेत्र आदि के अनुसार परिभाषित होने वाला है इसलिय केवल एक लेख में समाहित नहीं किया जा सकता । प्रयास करेंगे कि इसे आगे क्रमशः लिखा जाए । यह बहुत बड़े शोध का विषय भी है ।

हर पंचायत से लेकर लोकसभा क्षेत्र की अलग-अलग समस्याऐं है, जनमानस की अलग-अलग अपेक्षाऐं है । फिर भी इन्हें वर्गीकृत करने का प्रयास करूंगा ।

सामुहिक अपेक्षाऐं :  विकास सम्बन्धित अपेक्षाऐं – सड़क, बिजली, पानी, रास्ते, स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार, कृषि आदि ।

व्यवहार सम्बन्धित अपेक्षाऐं :  मृदुभाषी, मिलनसार, सदा उपलब्ध रहने वाला, सीधे सम्पर्क कर सकने योग्य, सुःख-दुःख का साथी, दयानतदार, ईमानदार, समय का पाबन्द आदि-आदि ।

व्यक्तिगत् अपेक्षाऐं :  नौकरी, कारोबार, रोजगार, मान प्रतिष्ठा देने वाला, व्यक्तिगत् कामों में मदद, शादी-विवाह में शामिल होने वाला आदि-आदि ।

ये हैं सामान्य जनमानस की अपेक्षाऐं, जिन्हें विस्तार से बाद में लिखने का प्रयास करेंगे ।

जन प्रतिनिधि Public Representative जिस संगठन से है, जिन साथियों एवं लोगो के बूते वह जन प्रतिनिधि Public Representative बना है उन कार्यकर्ताओं की भी जनप्रतिनिधियों से अपेक्षाऐं रहती है । हर किसी के मन में तो उतरा नहीं जा सकता परन्तु सामान्य अपेक्षाओं को वर्गीकृत करने का प्रयास किया है ।

सामुहिक अपेक्षाऐं :

  1. संगठन के प्रति या जिताने वाले साथियों के प्रति समर्पित देखना चाहता है ।
  2. अपने नेता के आचरण पर दृष्टी रखता है ।
  3. समाज एवं इलाका वासियों के प्रति सवेंदनशीलता की अपेक्षा रखता है ।
  4. अपने नेता के मार्फत कार्यकर्ता को मानसम्मान मिले ऐसी उम्मीद रखता है ।
  5. जन प्रतिनिधि फोन पर उपलब्ध रहे यह हर कार्यकार्ता की अपेक्षा रहती ही है ।

विकासात्मक अपेक्षाऐ :

  1. सत्ता की राजनिति के अनुसार जन प्रतिनिधि से अपेक्षाऐं बदलती है ।
  2. जन प्रतिनिधि की छवि के अनुरूप भी अपेक्षाऐं भिन्न-भिन्न रहती है ।
  3. सामान्यता सड़क, शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार एवं जन अधिकारों की रक्षा की अपेक्षा रहती है ।

व्यक्तिगत् अपेक्षाऐं :
कार्यकर्ताओं का एक बड़ा वर्ग है या यूॅ कहें कि अधिकतर कार्यकर्ताओं की कोई व्यक्तिगत् अपेक्षा नहीं रहती । वह विचारधारा से जुड कर, व्यक्ति विशेष से जुड़ कर समर्पण भाव से, त्याग भाव से, समाज हित में, देश हित में, इलाके की भालाई के लिए तन-मन एवं धन के साथ लोकतान्त्रिक प्रक्रिया Democratic Process में जुडता है, जन प्रतिनिधि Public Representative को जिताता है और उस जन प्रतिनिधि को उसका कार्य करने के लिए छोड़ देता है ।

केवल कुछ कार्यकर्ताओं की व्यक्तिगत् अपेक्षाऐं रहती है जोकि सामान्य जनमानस की आपेक्षाओं से मेल खाती है ।

Dr Rajiv Bindal, MLA Nahan
कार्यालय – नजदीक कालीस्थान तालाब,
Nahan , जिला सिरमौर Himachal Pradesh
पिन न0 173001

Politics

By Dr Rajeev Bindal, MLA Nahan

जन साधारण में यह धारणा रहती है कि जनप्रतिनिधि (public representative) बाकी समाज से पूर्णतया भिन्न होता है, वह यह योचता है कि जन प्रतिनिधि (public representative)/सामाजिक कार्यकर्ता (Social Worker) का कोई व्यक्तिगत् जीवन नहीं होता, कोई पारिवारिक जीवन नहीं होता, उसे अपने शरीर के लिए, मन, बुद्धी, आत्मा के लिए, परिवार के लिए कोई समय की आवश्यक्ता नहीं रहती है । इस वजह से समाज का व्यक्ति राजनैतिक (Political)/सामाजिक(Social) कार्यकर्ता से पूर्ण रूपेण समाज के लिए ही काम करने की उपेक्षा करता है । इस विषय को गहराई से समझ लेना व मनन कर लेना नितान्त आवश्यक है ।

समाज का विचार, समाज का व्यवहार उपरोक्त धारणा के अनुरूप चलता है उसी के अनुरूप व्यक्तियों की अपेक्षाऐं बनती है ।

उदाहरण :

ग्रामीण परिवेष (Rural Background) का व्यक्ति प्रातः जल्दी उठता है, पशु का, खेत का काम करने के बाद भी वह प्रातः 6-7 बजे अपने जन प्रतिनिधि (public representative)  या नेता (Leader) से बात करके अपनी समस्या का समाधान चाहता है । उसे यह स्मरण नहीं होता कि न मालूम हमारा प्रतिनिधि रात्री किस समय तक कार्य में रहा होगा ।

इसके विपरीत शहर में रहने वाला व्यक्ति पूरे दिन का अपना काम काज निपटा कर जन प्रतिनिधि/सामाजिक कार्यकर्ता से मिलने की या उनसे बात करने की योजना बनाता है ।

जनप्रतिनिधि/सामाजिक कार्यकर्ता के अपने जो विशिष्ठ सहयोगी रहते है, पार्टी के प्रमुख कार्यकर्ता रहते है, उन्हें भी उनकी सुविधानुसार समय की अपेक्षा रहती है, चाहे संगठन का काम हो या समाज का काम हो ।

जनप्रतिनिधि/नेता को क्षेत्र के अधिकारियों से discussion करने के लिए, इलाका के महत्वपूर्ण लोगों से वार्ता करने के लिए, जनता में सुख-दुःख में भागीदार बनने के लिए, सामाजिक, धार्मिक, सेवा सम्बन्धि कार्यक्रमों में जाने के लिए भी समय निर्धारण करना होता है ।

जनप्रतिनिधि/सामाजिक कार्यकर्ता को अपने क्षेत्र से हट कर दूसरे स्थानों पर सामाजिक/राजनैतिक/जन प्रतिनिधि के दायित्वों का निर्वाहण करने भी जाना पड़ता है । ऐसे में समाजिक अपेक्षाओं/संगठन की अपेक्षाओं/पारिवारिक अपेक्षाओं एवं अन्य दायित्वों का निर्वाहन करने में बहुत कठनाई का सामना करना पड़ता है।

उपरोक्त सभी expectations पर पूरा उतरना जीवन की बड़ी तपस्या से ही प्राप्त हो सकता है । जिन्होंने इन विषयों पर साधना करते हुए अपने जीवन को सफल बनाया है उनके जीवन से सीखने की जरूरत है और यह निर्बाध गति से चलने वाला निरन्तर तप है ।

ग्रामीण परिवेष का व्यक्ति विशेष तौर पर अभाव ग्रस्त व्यक्ति अपने विषय का प्रतिपादन बहुत अच्छी प्रकार नहीं कर पाता । जिसे जनप्रतिनिधि (public representative) /सामाजिक कार्यकर्ता (social Worker) ठीक से नहीं रख पाता, परिणाम् होता है वह जल्दी ही असन्तुष्ट हो जाता है ।

जन प्रतिनिधि उसके कार्य के लिए प्रयास भी करता है तो भी उसे उसमें सत्यता व गम्भीरता नजर नहीं आती । उसे ऐसा लगता है कि उसके सामने ही उसका काम होना चाहिए, उसके चले जाने के बाद उसका काम होगा या नहीं यह उसके मन में प्रश्न खड़ा रहता है । ऐसी स्थिति में देश काल समय के अनुभव से सीखते हुए व्यवहार की रचना करनी होती है ।

उदाहरण :

साधारण व्यक्ति साधार स्वभाव में जन प्रतिनिधि के पास पहुचा और पूछा मेरे काम का क्या हुआ ? जन प्रतिनिधि को तो स्मरण नहीं है कि इनका काम क्या था, आगन्तुक ने समझाया नहीं अब विषय को याद करना उसके अनुसार उत्तर देना टेढ़ी खीर है ।

आगन्तुक को लगता है कि मैने एक बार अपना काम बता दिया अब तो उसका निवारण होना ही चाहिए और उत्तर भी मिलना ही चाहिए । जन प्रतिनिधि की यह परीक्षा रहती है, यही वह वर्ग है जिसको सर्वाधिक आवश्यक्ता है । यह सच्चा पक्का मनुष्य है इसकी सेवा हमारा धर्म है यह भाव सदैव मन में रखते हुए कार्य करना होगा ।

नगरों की निर्धन बस्तियों में रहने वाले व्यक्ति का व्यवहार पूरी तरह अलग रहता है । उन्हें यह लगता है कि जन प्रतिनिधि हमारे मौहल्ले में हमारे घर में आ कर समस्या समाधान करके जाऐं ।

भारत के लोकतन्त्र (democracy) ने पिछले 65 साल का राजनैतिक पार्टियों का क्रियाकलाप देखा है । उन्हीं के आचरण के अनुसार व्यक्तियों ने अपनी सोच को विकसित किया है और यह सोच पूरे देश में एक सी नहीं है । Ideas were developed as per the social structure of state । लम्बे समय तक congress party ने देश पर राज किया है कांग्रेस ने सामान्य व्यक्ति को क्षणिक लाभ दिखा कर अपने साथ जोडे रखा जैसा कि गऊ-भैंस-बकरी-खच्चर के लिए लोन ले लो, I If not able to pay तो उसे माफ कर दो ।

आरक्षण, भाई भतिजावाद, भ्रष्ट आचरण, कुछ ऐसी व्याधियाॅ (बिमारियाॅ) है जो कांग्रेस पार्टी ने देश में पैदा की है जिसका दुष्प्रभाव शेष पार्टियाॅ भी झेल रही है। ऐसे में सामाजिक/राजनैतिक कार्यकर्ता के लिए अपना स्थान बनाऐं रखना, इस कलुम्बित वातावरण में अपने आपको जीवित रखना एवं कालिख से बचे रहना बहुत बड़ी चुनौती है ।

Dr Rajiv Bindal, MLA Nahan

कार्यालय : नजदीक कालीस्थान तालाब,
Nahan जिला सिरमौर Himachal Pradesh।
पिन न0 173001

Politics

किसी भी नेता का सही आकलन संकट के समय होता है इसलिए मैंने सोचा कि क्यों ना अपने फेसबुक मित्रों से पूछा जाए कि कोरोना संकट के इस दौर में उनकी निगाह में पूरे भारत में सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री कौन है ?

 फेसबुक पर मेरे सवाल के जवाब में 80% से भी ज्यादा लोगों की राय थी कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री हैं।

आखिर क्या कारण हैं कि  योगी सिर्फ उत्तर प्रदेश में ही नहीं, पूरे देश में सर्वाधिक लोकप्रिय मुख्यमंत्री माने जाने लगे हैं ।


  • अपने कार्य को वे पूर्ण समर्पण और लगन से ही नहीं बल्कि जुनून की तरह करते हैं । लंबे समय तक जमीन से जुड़े रहकर जन सेवा करने और सांसद रहने के अपने अनुभव का लाभ लेकर वे त्वरित और सख्त फैसले लेते हैं।
  • ब्यूरोक्रेसी उनके एक इशारे से हरकत में आ जाती है। योगी ब्यूरोक्रेसी से गाइड नहीं होते बल्कि ब्यूरोक्रेसी को गाइड करते हैं। वे आवश्यकतानुसार कानूनों में संशोधन से नहीं झिझकते।
  • वे अपनी विचारधारा पर कोई समझौता नहीं करते।
  • योगी एक ओर तो  जनता दरबार के माध्यम से सीधे जनता से जुड़े रहते हैं और दूसरी ओर आकस्मिक निरीक्षणों के द्वारा वे सरकारी अमले पर कड़ी नजर रखते हैं।
  • उनकी अपराधों के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति के चलते उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बेहतर हुई जबकि घनी आबादी, दबंगों और बाहुबलियों के आतंक , जातिवाद और कई तरह के सामाजिक संघर्षों के चलते यहां कानून व्यवस्था की स्थिति हरदम चुनौती रही है।
  • कोरोना महामारी से से उत्पन्न हुई माइग्रेंट लेबर की समस्याओं को भी उन्होंने अपेक्षाकृत अत्यंत संवेदनशीलता के साथ डील किया।
  • उनकी सोच इन्नोवेटिव है। वे एक पावरफुल कम्यूनिकेटर हैं।अपनी अन्य खूबियों के अलावा वे चुनावी युद्ध के कौशल में भी पूरी तरह से पारंगत हैं।
  • वे परिवार वाद और जातिवाद से परहेज करते हैं।
  • उनकी कार्यप्रणाली में पारदर्शिता होती है। हाल ही में उन्होंने गोरखपुर में एक सड़क चौड़ी करवाने के लिए अपने खुद के मठ की बाउंड्री वॉल और दर्जनों दुकानें तुड़वा दी।
  • जब कोई जर्नलिस्ट उन पर कट्टरवाद का आरोप लगाता है तो वे उत्तेजित नहीं होते और मुस्कुरा कर कहते हैं कि यदि उत्तर प्रदेश के 22 करोड़ लोगों के हित में कोई सख्त निर्णय लेने के कारण कोई उन्हें कट्टर पंथी कहता है तो उन्हें कोई आपत्ति नहीं है।( मेरी दृष्टि में महाराष्ट्र में शिवसेना जैसी कट्टरपंथी पार्टी को कांग्रेस व अन्य पार्टियों द्वारा स्वीकार कर लिए जाने के बाद योगी को कट्टरपंथी या सांप्रदायिक कहने का हक किसी को नहीं पहुंचता। )
  • सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले वालों को वे अपना व्यक्तिगत दुश्मन समझते हैं।
  •  हिंदुस्तान का एक बड़ा तबका ऐसा है जो नरेंद्र मोदी के बाद उन्हें प्रधानमंत्री के रूप में देखना चाहता है ।

तो आइए आज एक नजर डालते हैं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जीवन पर।

 प्रदेश के मुख्यमंत्री

  • योगी आदित्यनाथ पांच बार गोरखपुर से सांसद रह चुके हैं.
  • पांच जून 1972 को जन्मे योगी आदित्यनाथ के जननायक बनने की कहानी भी कम दिलचस्प नहीं रही थीं.
  • बात दो दशक पहले की है. गोरखपुर शहर के मुख्य बाज़ार गोलघर में गोरखनाथ मंदिर से संचालित इंटर कॉलेज में पढ़ने वाले कुछ छात्र एक दुकान पर कपड़ा ख़रीदने आए और उनका दुकानदार से विवाद हो गया. दुकानदार पर हमला हुआ, तो उसने रिवॉल्वर निकाल ली.
  • दो दिन बाद दुकानदार के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग को लेकर  युवा योगी की अगुवाई में छात्रों ने उग्र प्रदर्शन किया और वे एसएसपी आवास की दीवार पर भी चढ़ गए.
  • अपने राजनीतिक जीवन के दौरान विभिन्न आंदोलनों और सांप्रदायिक विवादों के दौरान उन्होंने हरदम खुद से विवाद स्थल पर जाकर ‘नेतृत्व’ किया कभी भी कार्यकर्ताओं को पुलिस और दूसरे गुटों की लाठियां, पत्थर ,गोलियां खाने के लिए नहीं छोड़ा.
  • यह योगी आदित्यनाथ थे, जिन्होंने कुछ समय पहले ही 15 फरवरी 1994 को नाथ संप्रदाय के सबसे प्रमुख मठ गोरखनाथ मंदिर के उत्तराधिकारी के रूप में अपने गुरु महंत अवैद्यनाथ से दीक्षा ली थी.
  • गोरखपुर की राजनीति में एक ‘एंग्री यंग मैन’ की यह धमाकेदार एंट्री थी.
  • युवाओं ख़ासकर गोरखपुर विश्वविद्यालय के छात्रों को इस ‘एंग्री यंग मैन’ में हिंदू महासभा के अध्यक्ष रहे महंत दिग्विजयनाथ की ‘छवि’ दिखी और वो उनके साथ जुड़ते गए.
  • अब यह योगी ‘ सबसे बड़े फ़ायरब्रांड नेता’ के रूप में स्थापित हो चुका है.

 आदित्यनाथ के गुरु महंत अवैद्यनाथ ने एक बार संतों की बैठक में कहा, ” केंद्र में अपनी सरकार है. सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला हमारे पक्ष में आ जाए, तो भी प्रदेश में मुलायम या मायावती की सरकार रहते रामजन्मभूमि मंदिर नहीं बन पाएगा. इसके लिए हमें योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाना होगा.”

उत्तराखंड के गढ़वाल के एक गांव से आए अजय सिंह बिष्ट के योगी आदित्यनाथ बनने के पहले के जीवन के बारे में लोगों को ज़्यादा कुछ नहीं मालूम, सिवा इसके कि वह हेमवतीनंदन बहुगुणा विश्वविद्यालय, गढ़वाल से साइंस ग्रेजुएट हैं.

  • महंत अवैद्यनाथ भी उत्तराखंड के ही थे.
  • गोरखनाथ मंदिर में लोगों की बहुत आस्था है. मकर संक्राति पर हर धर्म और वर्ग के लोग बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी चढ़ाने आते हैं. महंत दिग्विजयनाथ ने इस मंदिर को 52 एकड़ में फैलाया था. उन्हीं के समय गोरखनाथ मंदिर हिंदू राजनीति के महत्वपूर्ण केंद्र में बदला, जिसे बाद में महंत अवैद्यनाथ ने और आगे बढ़ाया.
  • गोरखनाथ मंदिर के महंत की गद्दी का उत्तराधिकारी बनाने के चार साल बाद ही महंत अवैद्यनाथ ने योगी को अपना राजनीतिक उत्तराधिकारी भी बना दिया. जिस गोरखपुर से महंत अवैद्यनाथ चार बार सांसद रहे, उसी सीट से योगी 1998 में 26 वर्ष की उम्र में लोकसभा पहुँच गए.
  • पहला चुनाव वह 26 हज़ार के अंतर से जीते, पर 1999 के चुनाव में जीत-हार का यह अंतर 7,322 तक सिमट गया. मंडल राजनीति के उभार ने उनके सामने गंभीर चुनौती पेश की.
  • इसके बाद उन्होंने निजी सेना के रूप में हिंदू युवा वाहिनी (हियुवा) का गठन किया, जिसे योगी ‘सांस्कृतिक संगठन’ कहते हैं और जो ‘ग्राम रक्षा दल के रूप में हिंदू विरोधी, राष्ट्र विरोधी और माओवादी विरोधी गतिविधियों’ को नियंत्रित करता है.

हिंदू युवा वाहिनी के इन कामों से गोरखपुर में उनकी जीत का अंतर बढ़ने लगा और साल 2014 का चुनाव वे तीन लाख से भी अधिक वोट से जीते.

 कुशीनगर ज़िले में साल 2002 में मोहन मुंडेरा कांड हुआ, जिसमें एक हिन्दू लड़की के साथ बलात्कार की घटना को मुद्दा बनाकर अपराधी के समुदाय के करीब 50 घरों में आग लगा दी गई.योगी पर भीड़ को उकसाने का आरोप लगा. ऐसी घटनाओं की एक लंबी फ़ेहरिस्त है .( व्यक्तिगत रूप से मैं सांप्रदायिक हिंसा को एंडोर्स नहीं करता।)

  • प्रदेश में बसपा, सपा की सरकार रहते हुए भी उनके ख़िलाफ़ क़ानूनी कार्रवाई नहीं हुई. हालांकि दोनों दलों के नेता अपने भाषणों में उन पर सांप्रदायिक हिंसा के आरोप लगाते रहे.
  • उनके समर्थक नारे लगाते घूमते ‘गोरखपुर में रहना है तो योगी-योगी कहना है.’ गोरखपुर के बाहर दूसरे जगहों पर यह नारा ‘पूर्वांचल में रहना है तो योगी-योगी कहना है’ हो जाता. बाद में तो यह नारा यूपी में रहना है तो योगी-योगी कहना है, में तब्दील हो गया.

जनवरी 2007 में एक युवक की हत्या के बाद हियुवा कार्यकर्ताओं द्वारा एक मज़ार में आग लगाने की घटना के बाद हालात बिगड़ गए और प्रशासन को कर्फ़्यू लगाना पड़ा. रोक के बावजूद योगी द्वारा सभा करने और उत्तेजक भाषण देने के कारण उन्हें 28 जनवरी 2007 को गिरफ़्तार कर लिया गया. योगी की गिरफ्तारी के बाद हुई व्यापक हिंसा से उस समय की सपा सरकार ने न केवल उन्हें गिरफ्तार करने वाले कलेक्टर एसपी को सस्पेंड किया बल्कि भविष्य में उन्हें गिरफ्तार न करने की तौबा की।

  • गोरखपुर मंदिर द्वारा चलाए जाने वाली तीन दर्जन से अधिक शिक्षण-स्वास्थ्य संस्थाओं के वे अध्यक्ष या सचिव हैं।
  • अपने गोरखपुर प्रवास के दौरान योगी की  दिनचर्या पूजा पाठ और गौ सेवा के बाद सुबह मंदिर में लगने वाले दरबार से होती है, जिसमें वे लोगों की समस्याएं सुनते हैं और उसके समाधान के लिए अफ़सरों को आदेश देते हैं. इसके बाद क्षेत्र में शिलान्यास, लोकार्पण के कार्यक्रमों और बैठकों में व्यस्त हो जाते हैं.
  •  यह सही नहीं है कि सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के कारण योगी को राजनीतिक सफलता मिली.

 योगी आदित्यनाथ की सबसे बड़ी ख़ासियत जनता से सीधा संवाद और संपर्क है. लोग उनमें महंत दिग्विजयनाथ के तेवर और महंत अवैद्यनाथ का सामाजिक सेवा कार्य का योग देखते हैं.  गोरखनाथ मंदिर के सामाजिक कार्यों का जनता पर काफ़ी असर है.

 उन्हें  ‘हिंदू पुनर्जागरण का महानायक’ और ‘सांस्कृतिक राष्ट्रवाद का प्रतीक’ बताया जाता है लेकिन अपने जनता के दरबार में वे मुस्लिम और अन्य धर्मावलंबियों की समस्याओं को भी पूरी सहानुभूति से सुनते और कार्रवाई करते हैं.

गायक राकेश श्रीवास्तव गीतों से उनका बखान करते हुए कई एलबम निकाल चुके हैं, जिनमें उन्हें ‘हिंदू धर्म की रक्षा के लिए अवतार लेने और हाथ में तलवार उठाने’ वाला बताया गया है और जिसकी सेना ‘विधर्मिंयों’ को घेरकर मार रही है और जिसके डर से ‘माओ और नक्सली’ भाग रहे हैं.

**

बरखा दत्त, रवीश कुमार, राणा अय्यूब जैसे पत्रकार और लेखक उनके बारे में कुछ भी टिप्पणी करें लेकिन अंततोगत्वा किसी भी राजनीतिज्ञ के लिए उच्चतम न्यायालय उसकी जनता का दरबार है और इस न्यायालय में भी न केवल सारे मामलों से रिहा हो चुके हैं वरन

सम्मानित किए जा रहे हैं।

वेद माथुर www.vedmathur.com

~~~~~~~

पढ़ें

व्यंग्य उपन्यास , बैंक ऑफ पोलमपुर, अमेजॉन और हमारी वेबसाइट पर हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में उपलब्ध

Politics

औजार हूँ, औजार हूँ, औजार हूँ,
सत्ता का, नेता का, क्रांति का या भ्रांति का,
किसका मैं औजार हूँ,
कर रहा विचार हूँ |

पक्ष हो, विपक्ष हो,
जो साधने में दक्ष हो,|
ओट मेरी ले रहा,
चोट मुझे ही दे रहा ||
अपने अहम के सामने,
ना कर रहा विचार है,
मेरी कोई शक्ल हो,
उसके लिए औजार है||

Artist – Neeraj Gaur

भोजन कभी तू लाता है,
कभी संग कैमरे के आता है,
सहायक का किरदार निभाता है,
सबको जाने क्या बताता है,
सबमें छिपा तेरा एक ही विचार है,
ये मेरा गद्दी का औजार है |

मीडीया एक क्रांति है,
पर फैला रहा भ्रांति है|
जानता हर पक्ष है,
पर जाने क्यूँ निष्पक्ष है |
दिखाए की मैं बेकार हूँ,
बेधर हूँ, बेजार हूँ |
पर सत्य कुछ और है,
उसके लिए भी मैं औजार हूँ|
हाँ मैं औजार हूँ,
तेज धार औजार हूँ ||

मेरे पक्ष को जाने कौन,
मेरे मैं को पहचाने कौन,
मैं सब हूँ देख रहा,
पर में हूँ खड़ा मौन||

जीवन आगे लंबा पड़ा,
कुछ ठीक कुछ पहाड़ सा खड़ा|
पग में चक्र, काँधे पर भविष्य,
चल रहा हूँ ले दृढ़ निश्चय
मंज़िल है मेरी भी,
पहुँचने को बेकरार हूँ,
तुमसा ही हूँ मैं भी,
समझो ना औजार हूँ||

लेखक – विक्रम गौड़