June 4, 2020
Social Heros

सुश्री पार्वती जाँगिड़ सुथार। चैयरपर्सन-युवा संसद, भारत।

छोटी सी उम्र का बड़ा कमाल देखिए… ना धूप देखी ना छांव… बस बढ़ते गए है पांव….. युवा उम्र का ये जो निसंदेह करोड़ों भारतीयों के लिए प्रेरणा बनेगा।
जी हाँ हम बातकर रहें हैं नारी शक्ति की अनुपम उदाहरण और श्रीमती संजूदेवी सुथार एवं  स्वर्गीय श्री लुनाराम जाँगिड़ सुथार की सुपुत्री सुश्री पार्वती जाँगिड़ सुथार की, जो राजस्थान के एक छोटे से ग्रामीण शहर की रहने वाली है। आपने अपना संपूर्ण जीवन बालिका शिक्षा, महिला सशक्तिकरण एवं एक भारत श्रैष्ठ भारत के लिए लगा देने का प्रण किया।
सुश्री पार्वती कहती हैं कि ‘’लड़की का जन्म कहाँ हुआ है गरीब के घर या अमीर के घर, गाँव में या शहर  में, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है, वह भव्य सपने देखने की हकदार है और हमसब मिलकर उसके सपने साकार कर सकते है’’ ऐसी सोच रखते हुए आप दूर दराज गाँवों में बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए लोगों को प्रेरित कर रही हैं। शिक्षा के बाद बेटियाँ भी हर काम में अपनी सहभागिता निभा सकती  हैं, नौकरी, स्वरोजगार हेतू उन्हेंप्रेरित कर, महिला सशक्त हो, इस में एक कदम और आगे बढ़ा रही है।
साथ ही आप 2015 से युवा संसद, भारत की स्थापना कर युवाओं को राष्ट्र निर्माण के प्रतिजागरूक कर रही हैं, युवाओ को भारतीय लोकतंत्र, संसदीय कार्यप्रणाली से रूबरू कराने के लिए देश के भिन्न भिन्न हिस्सों में युवा संसद बुलाती हैं।
पार्वती बचपन से रक्षाबंधन के पर्व को भारत रक्षा पर्व के रूप में अंतर्राष्ट्रीय बॉर्डर पर मनाती हैं, वह सात दिन तक बॉर्डर पर रहती है, इन सात दिनों में वह लगभग आठ नौ सौ किलोमीटर बॉर्डर कवर करती हैं, राखी बाँधने के साथ साथ सीमा की लास्ट चौकियों, फौजी भाइयों की समस्यायें नोट कर, संबधित आईजी, डीजी व सरकार को अवगत करा उसके निराकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, इसी जज्बे को सलाम करते हुए सीमा सुरक्षा बल (बी.एस.एफ.) इन्हें सिस्टर ऑफ बीएस एफ कहता है।
हालही आपने इजरायल में हुए वर्ल्ड गवर्नेंस एक्सपेडिशन 2018 में ‘‘फ्यूचर लीडरऑफ द वर्ल्ड‘‘ टाइटल के तहतभारत के बेहतरीन 30 यंग लीडर्स  में शामिल हो देश का प्रतिनिधित्व किया। 13 से 19 अक्टूबर, 2018 तक इजराइल में तिरंगा लहरा भारतीय डेलिगेशन में सर्वश्रेष्ठ चुनी गई और इन्हे लीडरशिप का उत्कृष्ट सम्मान ‘‘चाणक्य अवार्ड-2018‘‘ से सम्मानित कियागया।
अपने बाल विवाह को नाकाम कर समाज और देश के लिए हुई समर्पित सुश्री पार्वती जाँगिड़ को देश के प्रतिष्ठित मीडिया ग्रुप दैनिक भास्कर के  माय ऍफ़ एम् की तरफ से जियो दिल से अवार्ड (महिला कल्याण एवं महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में) से भी सम्मानित किया गया। 
हाल ही पार्वती का विजन इंडिया फेलोशिप में देश के टॉप पांच यंग लीडर में  चयन हुआ, जिसके तहत पार्वती दिल्ली व देश के अलग अलग हिस्सों में जाकर राष्ट्र निर्माण के बारे में और अधिक सीखेगी, इसके तहत इन्हे पांच लाख रुपये स्टाइपेंड भी मिलेगा। पार्वती की अभी महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, भारत सरकार में इंटर्नशिप चल रही है। 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *