June 1, 2020
Art-n-Culture

CORANA कहे दुआओं में याद रखना…..

पिछले दो महीनों में COVID-19 के बीच कई त्योहार आये और देशदुनिया में लोग घरों में ही कैद रहे और Festival बीत गये। दुनिया में लोगोंमें त्योहारों को अपने पारंपरिक तरीके हर्षोल्लास से नहीं मनाने का मलालहै। रमजान का महीना चल रहा है, जिसका जिक्र प्रधानमंत्री मोदी नेरविवार को किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को “मन की बात” कार्यक्रम में कहा किरमज़ान का पवित्र महीना शुरू हो चुका है।….Corona ने इस बार भारतसमेत दुनिया-भर में त्योहारों को मनाने का स्वरुप ही बदल दिया है, रंग-रूप बदल दिए हैं। अभी पिछले दिनों ही बिहू, बैसाखी, पुथंडू, विशू, ओड़िया New Year, Easter त्योहारों को घर में रहकर और बड़ी सादगीके साथ और समाज के प्रति शुभचिंतन के साथ त्योहारों को मनाया।

याद रखिये, हमारे पूर्वजों ने हमें इन सारे विषयों में बहुत अच्छा मार्ग- दर्शनकिया है। हमारे पूर्वजों ने कहा है –

‘अग्नि: शेषम् ऋण: शेषम्, व्याधि: शेषम् तथैवच।

पुनः पुनः प्रवर्धेत, तस्मात् शेषम् न कारयेत।।

अर्थात, हल्के में लेकर छोड़ दी गयी आग, कर्ज़ और बीमारी, मौक़ा पाते हीदोबारा बढ़कर ख़तरनाक हो जाती हैं। इसलिए इनका पूरी तरह उपचारबहुत आवश्यक होता है।

Ministry of Home Affairs ने कुछेक दुकानों को शर्तों के साथ खोलनेकी अनुमति दी। इसके बाद दिल्ली सरकार ने शनिवार को shops खोलनेकी अनुमति दे दी।

MHA Release के अनुसार ग्रामीण क्षेत्रों में सभी दुकानों को खोलने कीअनुमति है। हालांकि, Shopping Mall में स्थित दुकानें इनमें शामिल नहींहैं। शहरी क्षेत्रों में सभी एकल दुकानों, आस-पड़ोस की दुकानों औरआवासीय परिसरों में स्थित दुकानों को खोलने की अनुमति है। हालांकि, बाजारों, Market Complexes और Shopping Mall में स्थित दुकानोंको खोलने की अनुमति नहीं है।

इसमें स्पष्ट किया गया है कि E-Commerce companies को केवलआवश्यक वस्तुओं की ही बिक्री करने की अनुमति है। यह भी स्पष्ट कियाजाता है कि शराब की बिक्री के साथ-साथ उन अन्य वस्तुओं की भी बिक्रीप्रतिबंधित है, जिनके बारे में COVID – 19 के प्रबंधन संबंधी राष्ट्रीयनिर्देशों में Specified किया गया है।

दिशा-निर्देशों में उन सभी क्षेत्रों, चाहे वे ग्रामीण हों या शहरी, में shops or businesses को खोलने की अनुमति नहीं है, जिन्हें संबंधित राज्यों याकेंद्र शासित प्रदेशों द्वारा containment zones घोषित किया गया है।

हालांकि विशेषज्ञों के अनुसार, रमजान का महीने में थोड़ी सी भी छूट भारीनुकसान का कारण बन सकती है। यह कदम COVID—19 के बचावकी दृष्टि से काफी घातक हो सकता है जो भारत सरकार के किये करायेपर पानी फेर सकता है। भारत सरकार के कदम की WHO ने काफीसराहना की थी।

विश्लेषकों का मानना है कि तब्लीकी जमात के मामले के बाद भारत कोLockdown में 3 मई से पहले किसी भी तरह की छूट देना काफी भारीपड़ सकता है और इसका हर्जाना कुछ हजार लोगों को नहीं बल्कि देशके 130 करोड़ लोगों को भरना पड़ेगा।

वहीं, दुनिया भर में Lockdown के बीच जुमे के दिन से रमज़ान कीशुरुआत काफी सावधानी के साथ की गयी। CORONA संकट सेनिपटने के लिए दुबई में Curfew लगा हुआ है। Corona Pandemic केबीच मुसलमानों के सबसे पवित्र माने जाने वाले मक्का के Masjid al-Haram में भी सन्नाटा पसरा हुआ है।

तुर्की में Corona के कहर को रोकने के लिए चार दिनों का Curfew लगाया गया है। इस कारण देश भर में मस्जिद बंद कर दिए गए हैं जिनमेंइस्तांबुल की अय्यूब सुल्तान मस्जिद भी शामिल है।

रमज़ान इस्लामिक कैलेंडर के नौवें महीने में पड़ता है और माना जाता हैकि इस महीने की आख़िरी की दस रातों में क़ुरान नाज़िल हुआ था। bosnia and Herzegovina के Sarajevo में मौजूद gazi husrev beg mosque में मुसलमान समुदाय के Grand Mufti Husein Kavazovićने अकेले नमाज़ पढ़ी।

क्वालालंपुर के राष्ट्रीय मस्जिद में Social Distancing का ख़याल रखतेहुए तरावीह (रमज़ान के दौरान पढ़ी जाने वाली ख़ास नमाज़) पढ़ी गई। देश के नागरिकों के लिए तरावीह की Live Streaming की गई। COVID – 19 को फैलने से रोकने के लिए मलेशिया ने भारत की तरह हीलोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाया गया है।

फ़लिस्तीन के ग़ाज़ा शहर में मस्जिद में इकट्ठा होने पर पाबंदी लगी हुई है।भारी सुरक्षा और Social Distancing के नियमों के साथ Jerusalem की Al-Aqsa Mosque के सामने कुछ फ़लस्तीनी मुसलमानों नेनमाज़ पढ़ी। ये मक्का के Masjid al-Haram और मदीना की al-Masjid an-Nabawi (‘The Prophet’s Mosque’) के बादमुसलमानों के लिए तीसरा सबसे पवित्र स्थल है।

पाकिस्तान के कराची की एक मस्जिद में Social Distancing के साथमुसलमानों ने रमज़ान के पहले दिन जुमे की नमाज़ पढ़ी।

इंडोनेशिया के पूर्वी जावा प्रांत की एक मस्जिद में लोग मस्जिदों में इकट्ठाहुए और Social Distensing का ध्यान रखते हुए नमाज़ पढ़ी। इंडोनेशिया के जकार्ता की The Grand Istiqlal Mosque कोCorona Pandemic के मद्देनज़र बंद कर दिया गया है।

मिस्र की राजधानी क़ाहिरा में मौजूद बाब जुवैला इलाक़े में रमज़ान केमौक़े पर यहां कुछ दुकानें तो सजी हैं लेकिन दुकानों पर लोग नहीं आ रहेहैं।

Deepak Sen – Senior Journalist

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *