September 28, 2020
Bollywood

Paatal Lok से निकला जयदीप अहलावत का “हाथीराम”

हाल ही में आई वेब सीरीज पाताल लोक काफी चर्चा में है। यह एक क्राइम थ्रिलर है। लॉकडाउन टाइम में पाताल लोक को दर्शकों से खूब तारीफ मिल रही है। वैसे तो इस सीरीज में नजर आए सभी किरदारों का दमदार अंदाज है लेकिन पाताल लोक वेब में एक ऐसा किरदार है जिसको ज्यादा तारीफें मिल रही है, वो है हाथीराम चौधरी का, जिसे निभाया है एक्टर जयदीप अहलावत ने। जयदीप अहलावत से अभिनय और इस वेब सीरीज के विषय में Thespeaktoday.com की संपादक अनिका अरोड़ा ने की विस्तार से बातचीत।

अनिका- जयदीप, सबसे पहले तो आपको आपकी सीरीज Paatal Lok की सक्सेस और दमदार एक्टिंग से मिलने वाली सराहना के लिए congratulations.

सवाल- वर्ष 2008 के सफर से लेकर वर्ष 2020 में जो आकर लीड रोल से सक्सेस मिली है, उसे क्या कहेंगे?
जवाब- बॉलीवुड ने मुझे पिछले 10 वर्षों में खूब सिखाया है। यह एक्सपीरियंस बेहद खास है। आज मेरी मेहनत को लोगों ने उम्मीद से ज्यादा सराहा है तो अच्छा लग रहा है। वैसे मेरे कॅरियर के लिए मेरी दो फिल्म्स राजी और गैंग्स ऑफ वासेपुर बेहद अहम रही है, जिसे मैं टर्निंग प्वांइट्स कह सकता हूं।

सवाल- पाताल लोक के हाथी राम चौधरी किरदार को जीवंत बनाने के लिए आपने काफी मेहनत की है, साथ ही यह एक्सपीरियंस कैसा रहा? और इसे सिलेक्ट करने की खास वजह?
जवाब- हाथीराम का किरदार जिसे सुदीप शर्मा जी ने लिखा है, वो काफी अहम है। और मुझे जब ऑफर हुआ तो मेरे लिए इंटरेस्टिंग था क्योंकि बहुत ही कमाल का लिखा हुआ किरदार है और उतनी ही कमाल की लिखी हुई कहानी है।

Picture courtesy – Pravin Talan

उसको पढ़ते ही लगा कि हां इसे मैं बिल्कुल मना नहीं कर पाउंगा। वेट बढ़ाया गया, लैंग्वेज को लेकर बातें की गईं, किरदार के जिस तरह के जितने-जितने रिलेशनशिप हैं, उसकी बातें की, उसके ऊपर डिस्कशन हुए और फिर लोगों को जिस तरह से वो जिन-जिन परिस्थितियों में जैसा-जैसा बिहेव करता है, वो बहुत अच्छे से लिखा हुआ था तो एक प्रक्रिया के तहत, एक तरह से मानके चलिए कि आप धीरे-धीरे उन चीजों के, उस किरदार के छोटे- छोटे जो एक तरह से धागे जिसको हम कह सकते हैं वो पिरोने शुरू हुए।

हाथी राम चौधरी आम इंसान सिर्फ एक पुलिस इंस्पेक्टर नहीं है, एक पति है, पिता है, तो दोस्त है तो वो सब भी है। धीरे-धीरे उन सब चीजों की तैयारी शूरू हुई। उसकी स्क्रिप्ट को बहुत बार पढ़ा गया क्योंकि आम तौर पर जब अच्छी कहानी लिखी जाती है तो किरदार के जो उसकी एक तरह से कैरेक्टरस्टिक्स होते हैं, उस पर भी काम करना बेहद जरूरी होता है।

साथ ही किसी प्रोजेक्ट से जुडऩे से पहले सबसे अहम होता है आप उस कहानी से जुड़े। तो मेरे लिए इसकी राइटिंग सबसे खास रही। क्योंकि उन्होंने हाथीराम को कई इमोशन्स में दिखाया है। बाहर से थका-हारा इंसान है लेकिन अंदरूनी एक ललक है जिंदगी में कुछ प्रूव करने की। और हाथीराम नाम से आप जान सकते हैं कि जब तक वो शांत है तो शांत ही रहेगा, लेकिन जब वो पागल होता है तो कुछ भी कर गुजरता, तबाही होती है। ठीक यही मेरे किरदार में दिखाने का प्रयास हुआ है। इस किरदार को जीवंत करने में मेरी एक्टिंग (हंसते हुए,,,,जैसा लोग कह रहे हैं) के साथ-साथ इस कहानी का भी योगदान है। कुल मिलाकर यह एक्सपीरियंस काफी मजेदार रहा।

सवाल- कई किरदारों के साथ काम करते समय अपने रोल को दमदार पॉजीशन पर लाना काफी चैलेंजिंग होता है, तो आपने इस चैलेंज को कैसे फेस किया?
जवाब- हां यह सही है कि कई किरदारों के साथ खुद को पेश करना थोड़ा चैलेंजिंग होता है, इसके लिए सबसे ज्यादा जरूरी होता है कि आप कहानी के साथ कितने जुड़े है क्योंकि फिल्म की लंबाई व वेब की लंबाई में यही फर्क होता है। वेब में हर मूमेंट में सीन व जगह चेंज होते रहते है। साथ ही स्टोरी कई बार फ्लेशबैक में जाकर भी शूट होती है। तो उस पकड़ को बनाए रखना बेहद जरूरी होता है अपने किरदार के साथ।

सवाल- बॉलीवुड में आपका कोई गॉडफादर नहीं है, तो इसके लिए आपको ज्यादा स्ट्रगल करना पड़ा?
जवाब- फिल्म इंडस्ट्री में मेरा कोई गॉडफादर नहीं है तो शायद मुझे ज्यादा स्ट्रगल करना पड़ा। हां, लगता है कि कोई गॉडफादर होता तो सही गाइडेंस आसानी से मिलती। वैसे मैं अपने इस स्ट्रगल को एक खूबसूरत जर्नी कहूंगा।

सवाल- शुरूआती दौर में आपने थियेटर का रूख भी किया। इस बारे में बताइए?
जवाब- मैंने 20-22 वर्ष की उम्र में थियेटर का रूख किया। असल में आर्मी ऑफिसर बनना चाहता था, जब वह सब हासिल नहीं हो पाया तब अपने गुस्से को निकालने का एक आउटलेट मिल गया। पहला नाटक मेरा पोस्टर था। जब नया-नया सीख रहे थे तो एक्साइटेड लगता था, लेकिन आगे चलकर कभी कॅरियर बनाने की नहीं सोची थी।

सवाल- आपने हिंदी व तमिल भाषा की फिल्मों के अलावा अन्य किन भाषाओं में काम किया?
जवाब- हंसते हुए,,,,,,,,, यह हाथीराम चौधरी, हरियाणी भाषा में किया ना।

सवाल- फिल्म्स को सिलेक्ट करते वक्त आप किन चीजों को ज्यादा अहमियत देते हैं?
जवाब- मेरे लिए किरदार बेहद इम्पॉरटेंट होता है, उसके बाद कहानी। फिर कास्ट, जिनके साथ आप करने वाले है, डायरेक्टर आदि पर, पहले च्वॉइस नहीं करता था, लेकिन अब करने लगा हूं,,,,,, हंसते हुए।

कुछ दिल से—

Favorite Food- Bajre ki Roti, Raita, Chutney aur Lassi

Favorite Place to Visit- In India… kashmir and Rajasthan
In International… Egypt and Brazil

Alltime Favorite Clothes- Designer Kurta payjama and jutti
Passion- Long Drives

Alltime Favorite Music- Sufi Music
Any Dream Role- Al pacino in The Godfather

सवाल- आने वाले अपने प्रोजेक्ट्स के बारे में बताइए?
जवाब- हां, अभी कुछ प्रोजेक्ट्स आ रहे हैं, जिनमें से एक Netflix के लिए शार्ट फिल्म है, जो कि शशांक खेतान ने डायरेक्ट किया है, Dharma Production ने उसे प्रोड्यूस किया है और मैं और फातिमा सना शेख हैं उसमें। इसके अलावा एक फिल्म है ‘खाली-पीलीÓ ईशान खट्टर और अन्नया पांडे और मैं हूं, जिसमें मेरा नेगेटिव रोल होगा। तो ये कुछ काम है जो ऑलरेडी तैयार है, बाकी आगे का लॉकडाउन के बाद देखेंगे।

सवाल- Jaideep, खुद को कुछ शब्दों में कैसे बयां करेंगे?
जवाब- हंसते हुए,,,,,,, हार्ड लुक है लेकिन इनोसेंट हूं। आलसी नहीं हूं, नई चीजों को करने के लिए हमेशा तैयार रहता हूं। लाइफ में चैलेंज लेना बहुत पसंद है। 

Thespeaktoday.com से बात करने और हमारे सवालों का जवाब देने के लिए Thank You and All d best.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *